भाभी बोली चुदवाने आऊँगी

0
loading...

प्रेषक : जैम …

हैल्लो दोस्तों, मेरा नाम जैम है। में 5 फुट 6 इंच लंबा हूँ और मेरा वजन 65 किलोग्राम है, में 24 साल का हूँ और एम.बी.ए कर रहा हूँ। यह कहानी जैसे मेरे साथ हुई है वैसे ही मैंने लिखी है। मेरी छुट्टियाँ शुरू हुई थी। फिर सुबह 7 बजे जब में बेड से खड़ा हुआ और बाथरूम जाने की तैयारी कर रहा था तो तभी उतनी देर में हमारा घर की डोरबेल बजी। फिर जब मैंने दरवाजा खोलकर देखा तो मेरी मौसी का बेटा रमेश और उसकी वाईफ जागृति भाभी आए थे। तो तब मम्मी ने तुरंत देखा और कहा कि आइए- आइए और फिर उन दोनों ने अपने दो बैग अंदर ले लिए और मम्मी को पांव लगे। तब भाभी तुरंत जाकर किचन में काम करने लगी और फिर जब पापा बाथरूम से बाहर निकले तो वो कपड़े पहनकर तैयार हुए, तो तब रमेश और भाभी पापा को पांव लगे।

फिर हम सबने मिलकर नाश्ता किया। फिर थोड़ी देर के बाद रमेश बोला कि मौसी में और बहु इधर सेट होने आए है, हमारे छोटे से गाँव में पापा का बिजनेस अच्छा नहीं चलता है और हम सबका खर्चा नहीं निकलता है। तो तब मम्मी ने कहा कि तू और बहू मौसी के घर जाओ और उधर नौकरी ढूढ़ लो। तो तब मम्मी पापा दोनों ने कहा कि कोई बात नहीं, तू नौकरी ढूँढ ले और फिर दूसरा फ्लेट किराया पर ले लेना। फिर रमेश नाश्ता करके अपनी नौकरी ढूँढने चल पड़ा। अब जागृति भाभी मम्मी को घर के काम में हेल्प करने लगी थी। फिर में स्नान करने बाथरूम में गया और तैयार होकर बाहर आया। तब भाभी मेरे साथ थोड़ी देर बात करने लगी थी और फिर से वो काम करने लगी। फिर शाम को जब रमेश वापस आया तो उसे नौकरी मिल गयी थी, वो लेथ मशीन ऑपरेटर है तो दिन का 135 रूपया मिलेगा।

फिर 2 दिन ऐसे ही बीत गये। अब में बाहर लिविंग रूम में सोता हूँ और रमेश और भाभी मेरे बेडरूम में सोते है। वो दोनों रात को थोड़ा-थोड़ा झगड़ते थे, वो जब भाभी को चोदता था तो 2 मिनट में अपना पानी निकाल देता था और जब भाभी उसे ज़्यादा देर और चुदाई चलाने को बोलती थी, तो वो गुस्सा होकर बोलता था कि तुझे अगर घोड़ा भी चोदे तो भी तू संतुष्ट नहीं होगी, क्योंकि तू बहुत चुदासी हो जाती है। तब भाभी गुस्से में आकर बाथरूम में अपनी चूत क्लीन करके सो जाती थी। फिर तीसरे दिन पापा और रमेश नाश्ता करके अपने काम पर चले गये। अब में बेड पर लेटा था तो तब भाभी किचन से मुझसे नाश्ता करने को बोली। अब मम्मी दूसरा काम कर रही थी। तब मैंने नाश्ता करना शुरू किया तो तब भाभी प्यार से बोली कि जैम भैया आपसे एक बात पूंछू?

फिर तब मैंने कहा कि पूछो। तो तब भाभी बोली कि आप क़िसी को बताएँगे नहीं ना? तो तब मैंने पूछा कि ऐसी कौन सी बात है? आप तो जानती हो भाभी में किसी के बारे में चुगली नहीं करता हूँ। तो तब भाभी फिर से बोली कि में जानती हूँ, लेकिन आप प्रॉमिस दो आप किसी को नहीं बताएँगे। तो तब मैंने कहा कि हाँ में प्रॉमिस देता हूँ। तो तब भाभी ने कहा कि आप मेरे लिए और तुम्हारे भाई के लिए एक कामसूत्र ला दो ना। तो तब मैंने पूछा कि क्यों? तो तब भाभी ने कहा कि तुम्हारे भाई को औरत की कैसे चुदाई की जाती है? वो सिखाना पड़ेगा, वो मुझे संतुष्ट नहीं कर पाते है। तो तब मैंने कहा कि ठीक है, में ला दूंगा। फिर में सुबह मार्केट में गया और एक बुक स्टोर से अच्छा सा कामसूत्र और दो चुदाई की स्टोरी बुक्स ले आया और फिर मैंने वापस आकर वो दोनों चुदाई वाली स्टोरी पढ़ ली और कामसूत्र से चुदाई की पोज़िशन वाली फोटो देख ली थी।

फिर मैंने भाभी को तीनों बुक्स दे दी। फिर भाभी लंच के बाद अपने कमरे में जाकर वो बुक्स पढ़ने लगी। फिर थोड़ी देर में वो इतनी चुदासी हो गयी कि वो मास्टरबेट (चूत से खेलने लगी) करने लगी थी। अब में सुन रहा था, वो धीरे-धीरे मौन कर रही थी। फिर करीब 10 मिनट के बाद वो रूम से बाहर निकली। तब मैंने पूछा कि बुक्स कैसी लगी? तो तब भाभी बोली कि बहुत अच्छी है, लेकिन रमेश इसमें से पढ़कर सीखे कि कैसे औरत की चुदाई की जाती है? तो तब मैंने कहा कि अगर लंड बड़ा होता है तो चुदाई का बहुत मजा आता है और उनसे पूछा कि रमेश का लंड कितना बड़ा है? तो तब भाभी बोली कि जब गर्म होता है तो 4 इंच लंबा और 2 इंच मोटा है। तो तब में उस वक्त कुछ नहीं बोला और फिर भाभी अपना काम करने लगी।

loading...

फिर रात को डिनर के बाद 11 बजे जब सब अपने बेडरूम में सोने गये। तब में लिविंग रूम में बैठकर भाभी और रमेश भाई जो बात कर रहे थे, वो सुन रहा था। फिर रमेश ने भाभी की चुदाई की, लेकिन वो उसे संतुष्ट नहीं कर सका था। अब भाभी उसे समझाने की कोशिश कर रही थी, लेकिन वो समझ नहीं रहा था। फिर आख़िर में भाभी रूम से बाहर निकली और बाथरूम में गयी। फिर भाभी बाथरूम से जब वापस आई तो तब मैंने भाभी को रोका और भाभी का एक हाथ पकड़कर मेरे गर्म लंड पर रख दिया। तो तब भाभी मेरे लंड पर प्यार से अपना हाथ फैरने लगी और बोली कि यह तो बहुत बड़ा लंड है। तब मैंने कहा कि जब बड़ा लंड होता है तो चुदाई का बहुत मज़ा आता है। तब भाभी बोली कि लगता तो सच है, आप मस्टारबेट नहीं करना, में रमेश को सुलाकर आपके पास चुदवाने आऊंगी और ऐसा कहकर वो अपने कमरे में चली गयी। तो तब भाभी के जाते ही रमेश बोला कि इस दूध में शक्कर डाली ही नहीं है, जाकर का शक्कर मिलाकर आओ। तब भाभी बिना कुछ कहे वो दूध लेकर बाहर आई और मुझे इशारा किया कि में भी किचन में उसके साथ जाऊं। तब में भाभी के पीछे किचन में चला गया।

फिर भाभी बोली कि कोई नींद की गोली है क्या? तो तब मैंने कहा कि बहुत सी है, मम्मी पहले लेती थी और मैंने दो गोली निकालकर उनको दे दी। तब भाभी ने दोनों गोली पीसकर दूध में डाली और फिर शक्कर डाली और फिर चम्मच से हिलाकर दूध तैयार किया और फिर वो बोली कि मुझे तुम्हारा लंड दिखाओ। तो तब मैंने अपना लंड पजामें में से बाहर निकाला और भाभी के हाथ में दिया। तो तब भाभी मेरे लंड को देखकर हैरान हो गयी, मेरा लंड पूरा 8 इंच लंबा और 3 इंच मोटा है। फिर वो मेरे लंड को अपने एक हाथ में लेकर बोली कि बाप रे बहुत बड़ा लंड है, यह तो मेरी चूत फाड़ देगा और ऐसा बोलकर दूध अपने साथ लेकर वो बेडरूम में चली गयी थी। फिर में अपने बेड पर जाकर भाभी का इंतजार करने लगा। फिर करीब 20 मिनट के बाद भाभी मेरे कमरे का दरवाजा खोलकर मेरे पास आई और मेरे कानों में धीरे से बोली कि जैम भैया अब मेरी चुदाई करो, में बहुत तड़प रही हूँ। तब मैंने पूछा कि क्या आपको चूत नहीं चटवानी है? तो तब भाभी बोली कि अभी नहीं बाद में चटवाऊंगी, अब तो मुझे अपने बड़े लंड से चोद लो। तब मैंने कहा कि ठीक है जैसी आपकी मर्जी। दोस्तों ये कहानी आप कामुकता डॉट कॉम पर पड़ रहे है।

फिर भाभी मेरे लंड से खेलने लगी और अब मेरा लंड फिर से टाईट हो गया था। फिर मैंने बेबी ऑयल की बोतल खोली और थोड़ा तेल अपने लंड पर लगाया। अब भाभी मेरे बेड पर लेट गयी थी और फिर अपनी दोनों टाँगे फैला दी। फिर मैंने उनकी दोनों टांगो के बीच में जाकर अपना लंड उनकी चूत पर रखा। तब भाभी ने तुरंत मेरा लंड अपने एक हाथ में पकड़ लिया और अपनी चूत पर रब करने लगी थी। फिर थोड़ी देर के बाद मैंने मेरे लंड का टॉप उनकी चूत के छेद पर रखा तो तब भाभी धीरे से मेरे कान में बोली कि धीरे-धीरे मेरी चूत में अपना लंड डालो, ख्याल रखना मेरी चूत फट ना जाए। तब मैंने हाँ कही और धीरे से अपने लंड का मशरूम उनकी चूत में घुसा दिया। अब भाभी को बहुत मज़ा आने लगा था। तब मैंने थोड़ा और प्रेशर देकर अपना लंड थोड़ा और उनकी चूत में डाला। अब मैंने धीरे-धीरे करके मेरा पूरा 9 इंच लंबा 4 इंच मोटा लंड उनकी चूत में घुसा दिया था।

loading...

अब भाभी मौन करने लगी थी और प्यार से मेरी पीठ पर अपने हाथ फैरने लगी थी और धीरे से बोली कि अब आप मुझे जी भरकर चोदो। अब में भाभी चोदने लगा था। अब भाभी मज़ा ले रही थी। फिर मैंने उनके होंठो पर चुंबन दिया। अब वो भी प्यार से चुंबन करने लगी थी। फिर में उनके बूब्स मसलने लगा और उनके दोनों निप्पल एक के बाद एक चूसने लगा था और उनकी चुदाई भी जारी रखी थी। अब भाभी करीब 10-12 मिनट चुदी होगी कि तभी भाभी मुझे जोर से पकड़कर झटका मारने लगी। अब में तो घबरा गया था तो तब मैंने सोचा कि शायद भाभी की चूत फट गयी है। अब में कुछ पूछता इससे पहले भाभी ने मेरा मुँह अपने हाथ से दबाकर अपना काम जारी रखा और फिर वो झटके पर झटका मारती रही और पूरे 2 मिनट तक झटके खाती रही और फिर थोड़ी देर के बाद में रिलेक्स हुई और बोली कि में तुम्हारी चुदाई से संतुष्ट हो गयी हूँ।

फिर तब मैंने पूछा कि अब क्या चुदाई पूरी हो गयी? तो तब भाभी बोली कि ना जब तक तुम्हारा वीर्य ना निकले, तब तक आप मुझे चोदते रहो। तब मैंने फिर से चोदना शुरू किया। अब तो में 5-6 इंच लंबे स्ट्रोक मार रहा था। फिर मैंने पूरे 12 मिनट तक उनकी चुदाई की तो तब मेरा ब्लड प्रेशर नार्मल हुआ और अब में उनको तेज़ी से चोदने लगा था। अब मुझे पसीना आने लगा था और अब में गहरी सांसे खींच रहा था। फिर करीब 2 मिनट में मैंने पहले गर्म लंबी वीर्य की पिचकारी भाभी की चूत में मारी। तब भाभी के मुँह से आअहह निकल गयी। फिर मैंने तुरंत दूसरी पिचकारी मारी तो तब भाभी ओह बोली और वैसे ही तीसरी, चौथी, पांचवी, छठी और टोटल सात पिचकारी भाभी की चूत में मारी। फिर में आधा बेहोश होकर भाभी के ऊपर लेट गया। अब तो 5-6 मिनट के बाद मेरा लंड नर्म होने लगा था। फिर मैंने अपना लंड उनकी चूत में से बाहर निकाला और बाथरूम में जाकर अपना लंड साबुन से साफ़ किया। फिर भाभी भी बाथरूम में आई और अपनी चूत में से काफ़ी वीर्य निकालने लगी थी। मैंने करीब 10 चम्मच जितना वीर्य छोड़ा था। फिर भाभी ने अपनी चूत साफ कर ली और फिर हम दोनों पेशाब करके बाहर आए और बेड पर लेट गये। फिर हम दोनों ने थोड़ी देर तक चुंबन किया और फिर हम दोनों सो गये। फिर 1 घंटे के बाद फिर से मेरा लंड खड़ा हुआ तो तब मैंने फिर से भाभी को आधे घंटे और चोदा। अब हम दोनों को बहुत मज़ा आया था। अब तो में भाभी को बहुत चोदता हूँ। में उनको हफ्ते में 3-4 बार चोदता हूँ और अब हम दोनों को बहुत मज़ा आता है और अब हम चुदाई का भरपूर आनंद लेते है ।।

loading...

धन्यवाद …

Comments are closed.

error: Content is protected !!