भाभी को चोदने की जिद

0
loading...

प्रेषक : राहुल …

हैल्लो दोस्तों, सभी चूत वालियों और लंड वालो को मेरा लंड उठाकर सलाम। दोस्तों यह मेरी पहली स्टोरी है और मुझे आशा है कि आपको मेरी यह स्टोरी ज़रूर पसंद आएगी, क्योंकि में इस साईट का रेग्युलर रीडर हूँ और मुझे यह साईट बहुत पसंद है, तो मैंने सोचा कि क्यों ना में भी अपनी सच्ची कहानी लिख ही दूँ? तो दोस्तों में आज आपको अपनी रियल स्टोरी सुनाने जा रहा हूँ। ये बात आज से 7 साल पुरानी है, जब में 10वीं क्लास में था और मेरी उम्र यही कोई 18 साल की थी। वैसे तो मेरा परिवार बहुत बड़ा है, लेकिन में अपने पापा का इकलोता बेटा हूँ। मेरी माँ बचपन में ही गुज़र गयी थी, मुझे मेरी ताई और ताऊ ने पाल पोस कर बड़ा किया था और में उन्ही के साथ रहता था। मेरे ताऊ के 4 लड़के है, जिनमें से दो की शादी हो गयी है, में उन चारों से छोटा था इसलिए मेरे परिवार में सभी मुझे चाहते थे। वैसे मेरी बड़ी भाभी रंग रूप में थोड़ी सांवली है, लेकिन नाक नक्श में और फिगर में बहुत ही मस्त है। अगर कोई उन्हें एक बार देख ले तो देखता ही रह जाए और उनको चोदने को मन करे। तो इसी तरह मेरी छोटी भाभी भी बहुत सेक्सी है, वो तो दिखने में ही सुंदर और गोरी है।

अब में सीधा अपनी स्टोरी पर आता हूँ, ये बात उन दिनों की है जब मेरी बड़ी भाभी करीब 1 महीने के लिए अपने मायके गयी थी और फिर जब वो अपने मायके से वापस आई तो आप जानते ही है कि इतने दिनों की जुदाई किसे बर्दाश्त हो सकती है? मेरे भैया भी इसी सोच में बैठे थे कि कब ये दूरियाँ मिटाई जाए, लेकिन उस दिन इत्तेफ़ाक़ से इंडिया का वन-डे मैच आ रहा था और में भाभी के कमरे में टी.वी देख रहा था और भैया भाभी चुदाई की जुगाड़ में थे, लेकिन में कुछ समझ नहीं पा रहा था और केवल टी.वी देखने में मस्त था। तो मेरे भैया मेरे पास आए और मुझसे बोले कि अब टी.वी बंद कर दो सोना नहीं है। तो मैंने कहा कि बस दो ओवर और बचे है, अभी बंद कर दूंगा। फिर मेरी बात सुनकर भाभी मुँह बनाने लगी, लेकिन में कुछ समझा नहीं और बस मैच देखता रहा। फिर मैंने करीब 15 मिनट के बाद टी.वी बंद कर दी और सोने चला गया। जब गर्मी के दिन थे इसलिए सभी बाहर ही सोते थे, तो में आँगन में सो गया। अब मुझे लेटे हुए 10 मिनट भी नहीं हुए थे कि भाभी के कमरे से मुझे भाभी की चूड़ियों की और पायल की आवाज़ आई। तो में सोचने लगा कि टी.वी बंद है, बिस्तर भी बाहर लगा है, फिर ये दोनों अंदर क्या कर रहे है?? तो यही सोचकर में उठा और भाभी के रूम में दरवाज़े के छेद में से झाँका और जब मैंने अंदर का नज़ारा देखा तो देखता ही रह गया क्योंकि मेरी भाभी दरवाज़े की तरफ अपनी टाँगे फैलाए कूलर के सामने लेटी थी और भैया उनके ऊपर थे।

अब भाभी की चूत में भैया का लंड था और भाभी बुरी तरह तड़प रही थी। अब वो अपनी चूत उठा- उठाकर भैया का लंड ले रही थी और भैया तेज़-तेज़ चोद रहे थे। अब भाभी के मुँह से सीई, आआआहह, उूउउफफफफफ्फ़ की आवाज़ आ रही थी। अब पहले तो में डर गया था की शायद भाभी की चूत फट गयी है इसलिए वो इतना तड़प रही है, क्योंकि में उस टाईम बहुत कम ज़ानता था, लेकिन फिर भी यह सब देखकर मेरा लंड खड़ा हो गया और में अपना लंड हाथ में लेकर हिलाने लगा और जब तक भाभी चुदी में अपना लंड हिलाता रहा। फिर भैया ने अपना पानी भाभी की चूत में ही छोड़ दिया, तो मैंने गेट पर ही अपना पानी छोड़ दिया। अब मेरे लंड से भी पिचकारियाँ निकल रही थी, अब भैया भाभी के ऊपर से उठ गये थे, लेकिन भाभी ऐसे ही लेटी रही। अब मुझे उनकी चूत का छेद साफ-साफ दिखाई दे रहा था, क्या मस्त चूत थी भाभी की? अब मेरा दिल तो कर रहा था कि अभी भाभी की चूत में अपना लंड घुसा दूँ।

फिर में अपने बिस्तर पर आकर लेट गया, लेकिन अब मुझे नींद नहीं आ रही थी और फिर भाभी भी आकर मेरे बगल में अपने बिस्तर पर सो गयी, लेकिन अब मेरा बुरा हाल था। फिर रात के करीब 2 बजे मैंने भाभी की साड़ी ऊपर उठानी शुरू कर दी, केवल यह देखने के लिए की भाभी की चूत कितनी फटी है? और फिर में उनकी टाँगों को नंगा करने लगा। अब धीरे-धीरे भाभी पूरी तरह से नंगी थी, अब उनकी चूत मेरे सामने थी, तो मेरा लंड फिर से खड़ा हो गया। फिर मैंने भाभी की चूत पर अपना हाथ फैरना शुरू कर दिया और फिर धीरे-धीरे अपनी एक उंगली भाभी की चूत में घुसा दी, सीईईईईई क्या गर्म चूत थी भाभी की? अब मुझमें जोश आने लगा था और में ज़ोर-ज़ोर से भाभी की चूत में उंगली चलाने लगा था। तभी भाभी अचानक से जाग गयी तो में घबरा गया और अपने बिस्तर पर सो गया।

loading...

फिर सुबह जब में जगा, तो में भाभी के सामने नहीं आया और भाभी भी मुझसे कई दिनों तक नहीं बोली। फिर अचानक से मेरे साथ एक हादसा और हुआ, अब में ऐसे ही आँगन में सो रहा था, उस दिन छोटी भाभी मेरे बाजू में लेटी थी। में बहुत ही गहरी नींद में था कि अचानक से भाभी ने अपनी जाँघ मेरे पैर पर रखी, तो में जाग गया। तो मैंने देखा कि भाभी बहुत ही गहरी नींद में सो रही है और उनकी साड़ी उनकी जांघों तक उठी हुई है। अब मेरे लंड में सुरसुरी होने लगी थी और मेरा लंड खड़ा हो गया था। फिर मैंने छोटी भाभी की भी साड़ी ऊपर उठाई और उनकी चूत को नंगा किया, वो बड़ी भाभी से भी मस्त चूत थी, क्योंकि छोटी भाभी बहुत गोरी है इसलिए उनकी चूत भी गुलाबी थी। फिर मुझसे रहा नहीं गया तो मैंने उनकी चूत पर अपना हाथ फैरना स्टार्ट कर दिया और अपना लंड हिलाने लगा। अब भाभी अपनी दोनों टाँगे फैलाए हुए लेटी थी, जिससे उनकी चूत काफ़ी खुली हुई दिख रही थी। फिर मैंने अपने लंड से पानी निकालकर भाभी की चूत पर लगा दिया। फिर एक दिन मुझे छोटी भाभी की चुदाई भी देखने को मिली और अब तो मेरी आदत सी ही हो गयी थी की कब छोटी या बड़ी भाभी चुदे? और में उन्हें चुदता हुआ देखूं और दोनों में से किसी एक को चोदने के लिए मौका ढूंढने लगा।

फिर आख़िरकार एक दिन मौका आ ही गया और मुझे बड़ी भाभी के साथ चुदाई करने का मौका मिला।  उस दिन में भाभी के कमरे में टी.वी देख रहा था और टी.वी देखते-देखते में उन्ही के रूम में सो गया। अब भैया बाहर सो रहे थे, तब करीब 3 बजे होंगे कि मेरी आँख खुली, तो भाभी सो रही थी और कमरे की लाईट बंद थी। तो मैंने भाभी के ऊपर अपना हाथ फैरना शुरू कर दिया और धीरे-धीरे उनके पूरे शरीर को टच करता रहा। अब शायद भाभी जाग गयी थी और सोने का नाटक कर रही थी। अब में धीरे-धीरे उनके बूब्स दबाने लगा था और अपना हाथ फैरता हुआ उनकी चूत पर ले गया, उनकी चूत बहुत गर्म थी। अब मेरा लंड भी खड़ा हो गया तो में काफ़ी देर तक भाभी की चूत को रगड़ता रहा। फिर अचानक से भाभी उठकर मुझसे बिना कुछ कहे बहुत दूर लेट गयी। अब मेरा हाथ उन तक नहीं पहुँच रहा था तो में चुपचाप सो गया, लेकिन अब में समझ गया था कि भाभी अब ज़ल्दी हाथ में आ जाएगी।

फिर अगले दिन में फिर से भाभी के कमरे में ही सो गया तो 12 बजे के करीब ही मुझे फिर से जोश आने लगा। इस बार मैंने पूरी तरह से मूड बना लिया था कि भाभी को अब चोदकर ही रहूँगा, आज नहीं बचने दूँगा और में फिर से भाभी को परेशान करने लगा और भाभी सोने का नाटक कर रही थी। अब भाभी से भी नहीं रहा गया तो वो मुझसे बोली कि क्यों मुझे रातभर से परेशान कर रहे हो? तो मैंने बगैर कुछ कहे अपने होंठ भाभी के होंठो पर रख दिए, तो भाभी हट कहकर दूर हट गयी। फिर जब भाभी ने कुछ नहीं कहा तो मुझमें हिम्मत और बढ़ गयी। अबकी बार भाभी ने कहा कि क्या बात है? तुमने मुझे रातभर से सोने नहीं दिया। तो मैंने उनका हाथ पकड़कर कहा कि आ जाओ पलंग पर तो वो हंसकर बोली नहीं आती। तो में समझ गया कि भाभी गर्म है और मज़ाक कर रही है, तो मैंने उनकी चूत  को ज़ोर से दबाते हुए कहा कि आ जाओ पलंग पर, तो अबकी बार भाभी बोली कि रूको में आती हूँ।

loading...

फिर वो अपने बिस्तर से उठी और गेट के बाहर देखा कि कोई है तो नहीं, सब सो रहे है की नहीं। उस रात बहुत ज़ोर से बादल गरज रहे थे और बिज़ली चमक रही थी। अब ऐसा लग रहा था कि आज कुदरत भी हमारा मिलन चाहती है। फिर भाभी अंदर आ गयी और कुछ सोचने लगी तो मैंने उनका हाथ पकड़कर बेड पर खींच लिया और एकदम से भाभी के ऊपर चढ़ गया। तो भाभी बोली कि अरे रूको-रूको क्या कर रहे हो? लेकिन में नहीं रुका और मेरा खड़ा हुआ लंड उनकी चूत पर रखकर एक ज़ोरदार धक्का मारा तो मेरा लंड एक ही बार में भाभी की चूत में समा गया। तो भाभी के मुँह से सिसकी निकल गयी सीईई राजा यह तुमने क्या कर दिया? और में ज़ोर-जोर से धक्के लगाने लगा। तो भाभी चिल्लाई अरे रूको दर्द हो रहा है, लेकिन में नहीं रुका और वो आआहह, हाईईई में मर गयी रे, धीरे-धीरे करो मुझे दर्द हो रहा है, लेकिन उनकी चूत गर्म होने की वज़ह से मुझमें और जोश आ रहा था। फिर में उन्हें ज़ोर-ज़ोर से चोदने लगा, यह मेरी ज़िंदगी की पहली चुदाई थी, जिसमें मुझे बहुत मज़ा आ रहा था।

loading...

फिर मैंने अपनी स्पीड बढ़ा दी, तो भाभी ऑश आआहह मर गयी, हाईईईईईई, सस्स्स, आहह, उउफफफ्फ़, आहह करती रही और में उन्हें चोदता रहा। फिर करीब 40 मिनट तक मैंने भाभी को खूब चोदा। अब इस बीच भाभी दो बार झड़ चुकी थी और फिर मैंने अपने लंड का सारा पानी उनकी चूत में ही छोड़ दिया। तो भाभी मुझसे कसकर चिपककर कहने लगी कि मेरे राजा ऐसे ही मुझे हमेशा चोदते रहना। फिर मैंने उस रात भाभी को दो बार और चोदा, हम तीसरी बार भी करना चाहते थे, लेकिन जैसे ही मैंने उनकी चूत में अपना लंड डाला और 5-6 झटके दिए होंगे कि अचानक से भैया आ गये, शायद बाहर बारिश शुरू हो गयी थी। तो भाभी एकदम से चौंक कर उठ खड़ी हुई और में चुपचाप लेट गया, वो तो गनीमत थी कि कमरे की लाईट बंद थी इसलिए भैया ने कुछ नहीं देखा और आराम से आकर सो गये। फिर में भी सो गया और सुबह देर तक सोता रहा। फिर सुबह बड़ी भाभी ही मुझे जगाने आई और बोली कि मुझे रातभर जगाकर आराम से सो रहे हो। तो में बोला कि प्यार तो तुम्हें भी करना था ना और आज तक में अपनी बड़ी भाभी को चोद रहा हूँ। मेरी उम्र आज 24 साल है। अब भाभी मुझसे बहुत खुश है और में भी उनसे बहुत खुश हूँ ।।

धन्यवाद …

Comments are closed.

error: Content is protected !!