भाई से चूत चुदवाकर चुदाई के मजे

0
Loading...

प्रेषक : भूमि …

हैल्लो दोस्तों, मेरा नाम भूमि है और में गुजरात के वडोदरा शहर में रहती हूँ। मेरी उम्र 26 साल है और मुझे कामुकता डॉट कॉम की सभी सेक्सी कहानियाँ पढ़ना बहुत अच्छा लगता है, इसलिए में पिछले कुछ सालों से सेक्सी कहानियों को पढ़कर उनके मज़े लेती आ रही हूँ और ऐसा करने में मुझे बहुत मज़ा आता है और यह मेरी अपनी लिखी हुई पहली सच्ची कहानी मेरे साथ घटी एक घटना है और यह आप लोगों को शायद पसंद आए। दोस्तों यह कहानी है मेरी और मेरे चचेरे भाई जिसका नाम मनीष है और जब मेरी उम्र 18 साल थी और मनीष की उम्र 22 साल थी। वो सूरत में रहता है और एक बार में अपनी छुट्टियों के दिनों में सूरत गई थी। वो वहां पर अपनी मम्मी और पापा के साथ रहता था और हम दोनों एक बहुत अच्छे भी दोस्त थे, इसलिए हमारे बीच में हमेशा हंसी मजाक हुआ करता था और हम दोनों एक दूसरे को अपनी सभी बातें भी बताया करते थे। फिर में उसके साथ उसके घर पर बहुत हंसी ख़ुशी से रहने लगी और उसके साथ मेरे कुछ दिन कैसे बीत गए मुझे इस बात का पता ही नहीं चला और मुझे वहां पर रहना हर बार की तरह इस बार भी बहुत अच्छा लगा और वो भी सभी घरवाले मेरे साथ बहुत खुश थे और उन सभी का मेरे लिए व्यहवार बहुत अच्छा था। सभी लोग मुझसे बहुत प्यार से पेश आते थे इसलिए मुझे वहां पर रहना अच्छा लगता था।

फिर एक दिन मुझे पता चला कि उसकी मम्मी और पापा को किसी काम की वजह से एक सप्ताह के लिए कहीं बाहर जाना था, इसलिए वो मुझसे अपने बाहर जाने और हम दोनों का ध्यान रखने की बात कहकर दूसरे दिन सुबह जल्दी उठकर चले गये और में कहे अनुसार अब घर का काम करने लगी। दोस्तों वैसे मनीष मुझे शुरू से ही बड़ा अच्छा लगता था और वो भी मन ही मन मुझे चाहता था और फिर जब में किचन में काम कर रही थी तब वो चोरी छिपे पीछे से आकर मुझसे चिपक गया और फिर वो मुझसे इधर उधर की बातें करने लगा था और चुपके से उसने मेरे बूब्स को भी दबा दिया। उसी रात को हम दोनों साथ में बैठकर फिल्म देख रहे थे और तभी कुछ देर बाद उसमे एक किस का द्रश्य आ गया, तो मनीष उसको देखकर थोड़ा सा शरमा गया और में उसको देखकर हंस पड़ी। फिर वो भी मुझे देखकर हंस पड़ा और थोड़ी देर के बाद में सोने के लिए चली गई और रात के समय मुझे पानी की प्यास लगी, तो में अब उठकर किचन में चली गई। उस समय ड्रॉयिंग रूम में से कुछ आवाज़ आ रही थी, वो आवाज एक लड़की की थी, तो मैंने चुपके से अंदर झांककर देखा तो टीवी पर एक ब्लूफिल्म चल रही थी और अब मैंने देखा कि मनीष उस समय पूरा नंगा सोफे पर था और उसका हाथ उसके लंड पर था। मैंने पहली बार किसी का लंड देखा था, इसलिए में उसको देखकर बड़ी चकित थी, क्योंकि वो बहुत मोटा और लंबा भी था और टीवी पर एक लड़का एक लड़की की गांड में जबरदस्ती अपना डाल रहा था और वो लड़की दर्द की वजह से बहुत ज़ोर से चिल्ला रही थी। में भी अब वो सब देखकर बड़ी मस्त हो गयी और में उस समय धीरे धीरे जोश में आने लगी थी और उसी समय मैंने अपनी उस नाईट ड्रेस में अपना एक हाथ अंदर डालकर मैंने अपनी चूत में उंगली को डाल दिया और में अपने दूसरे हाथ से अपने बूब्स को दबाने लगी मुझे बड़ा मज़ा आने लगा था। फिर तभी अचानक से उसने अपना मुहं मेरी तरफ घुमाया और फिर उसने मुझे देख लिया और वो मुझे बाहर खड़ा देखकर एकदम से डर गया और उसने टीवी को उसी समय तुरंत ही बंद कर दिया। अब में उसके पास चली गयी और वो मुझसे बोला कि दीदी आप मुझे माफ़ करना और प्लीज़ यह बात आप किसी से मत कहना। फिर तभी में उसको गुस्से से देखकर बोली कि यह सब तुम अभी क्या कर रहे थे? तुम कितने गंदे हो जो ऐसे गंदे गंदे काम किया करते हो। फिर वो मुझसे बोला कि अब में ऐसा कभी भी नहीं करूँगा और फिर मैंने उसको बोला कि हाँ ठीक है में यह बात किसी से नहीं कहूँगी, लेकिन मैंने देखा कि उसने अभी भी कुछ नहीं पहना हुआ था और मैंने देखा कि मेरी पेंटी भी उस समय उसके हाथ में थी, उसकी वजह से वो और भी ज्यादा घबरा गया। अब में उसके पास में बैठ गयी और फिर मैंने उसके हाथ से मेरी पेंटी को ले लिया, जिससे उसने अपने लंड को ढका हुआ था और मैंने देखा कि उसका लंड अभी भी टाइट था। फिर मैंने उसको छुआ तो वो बहुत गरम था। फिर मैंने उसको प्यार से कहा कि यह सब ठीक नहीं है वो बिल्कुल पागल हो गया और मुझे अपनी बाहों में ले लिया और फिर वो मुझे किस भी करने लगा और अब में उससे अपनी चुदाई करने की कोशिश करने लगी, लेकिन वो बहुत हिम्मत वाला था और उसने मुझे ज़ोर से किस किया और वो मेरे बूब्स को दबाने लगा और में मस्त हो गयी। दोस्तों ये कहानी आप कामुकता डॉट कॉम पर पड़ रहे है।

Loading...

अब वो मेरे कपड़े उतारने लगा और बोला कि भूमि में तुमसे बहुत प्यार करता हूँ और फिर में उससे कुछ कहती उससे पहले ही वो मुझे किस करने लगा और अब हम दोनों पूरे नंगे थे। फिर में भी उसके लंड को अपने हाथ में लेकर प्यार करने लगी और उसको धीरे धीरे सहलाने लगी थी। फिर वो मुझसे कहने लगा कि प्लीज जानेमन तुम इसको एक बार अपने मुहं में ले लो और वो इतना कहकर सोफे पर बैठ गया और मुझे भी नीचे बैठाकर उसने अपना लंड मेरे मुहं में डाल दिया। दोस्तों तब मैंने महसूस किया कि उसका लंड बहुत गरम और आकार में वो मोटा भी बड़ा था और में उसका लंड अपने मुहं में लेकर बड़े मज़े लेकर चूसने लगी थी, जिसकी वजह से वो बिल्कुल पागल हो गया और वो मेरे बाल को पकड़कर मेरे मुहं को अपने लंड से धक्के देकर चोदने लगा था और वो मुझसे बोलने लगा कि तू भी तेरी माँ की तरह बिल्कुल रंडी है, वो भी मेरे बाप का लंड हमेशा हर कभी ऐसे ही चूसती है। अब में उसके मुहं से वो बातें सुनकर एकदम से चकित हो गयी और वो मुझसे बोला कि हाँ चूस ले साली रंडी, ले और मज़े से चूस, वो ज़ोर से मेरे मुहं में अपने लंड को धक्के मार रहा था, जिसकी वजह से मुझे कुछ अजीब सा लगा। फिर उसने मुझे सोफे पर लेटा दिया और कुछ देर बाद अब हम दोनों 69 की पोज़िशन में आ गये वो मेरी चूत को चूसने के साथ साथ उस पर किस भी करने लगा था और मेरे दोनों पैरों को पूरा फैलाकर मेरी चूत में उंगली भी डालने लगा था। अब में उस दर्द की वजह से चिल्लाने लगी थी आह्ह्ह्ह ऑशश उफफ्फ्फ् वो अब और भी ज्यादा जोश में आकर बड़ा मस्त हो गया और में उसका लंड चूसने लगी। फिर थोड़ी देर बाद उसने मुझे खड़ा किया और बेडरूम में ले गया। फिर उसके बाद मुझे नीचे लेटा दिया और वो मेरे ऊपर चड़ गया उसके बाद वो मुझे किस करने लगा, जिसकी वजह से में गरम होकर सिसकियाँ लेने लगी थी और उसके बाद वो मेरे बूब्स को दबाने लगा और निप्पल को धीरे धीरे सहलाने लगा था और उसी के साथ वो मेरी चूत में अपनी दो उँगलियों को डालने लगा और फिर चाटने भी लगा था। अब में जोश में आकर उससे बोली कि प्लीज़ आह्ह्हह्ह उफ्फ्फ्फ़ थोड़ा जल्दी करो स्सीईईई, तब वो मुझसे पूछने लगा क्यों क्या तेरी चूत में अब खुजली हो रही है? साली तेरी तो चूत को में आज जरुर फाड़कर इसका भोसड़ा बना दूंगा और वो इतना कहकर अब मेरी चूत पर अपने लंड को रगड़ने लगा, जिसकी वजह से में पागल हो रही थी आह्ह्ह ओइईईई उफफ्फ्फ्फ़ और उसने धीरे से मेरी चूत में अपना आधा लंड डाल दिया और में उस दर्द की वजह से चिल्लाने लगी आईईई माँ में मर गयी, प्लीज़ अब तुम इसको बाहर निकाल दो आह्ह्ह्हह्ह माँ में तो गयी, वो फिर से मुझे किस करने लगा और कहने लगा कि कुछ नहीं हुआ है मेरी जान पहली बार चुदाई के समय सभी के साथ ऐसा ही होता है और इतना कहकर उसने अपनी तरफ से पूरा ज़ोर लगाकर अपना पूरा का पूरा लंड मेरी चूत के अंदर डाल दिया और में उस दर्द की वजह से रो पड़ी ओह्ह्ह्हह्ह आह्ह्ह्हह्ह माँ प्लीज़ अब तुम मुझे छोड़ दो आह्ह उफफ्फ्फ्फ़ मेरी चूत से अब खून भी निकलने लगा है और उसने थोड़ी देर कुछ नहीं किया, वो बिना हिले वैसे ही रुका रहा। फिर कुछ दे के बाद में वो अब मुझे धीरे धीरे धक्के देकर चोदने लगा था और अब मुझे भी उसके धक्को की वजह से धीरे धीरे मज़ा आने लगा था, अब में भी उसके साथ बहुत मस्त हो गयी और हम चुदाई करने लगे।

अब वो मुझसे बोला कि क्यों मज़ा आया ना मेरी रानी? तब में जोश में आकर उससे बोली कि वाह क्या मस्त है तेरा लंड आह्ह्ह्हह्ह माँ वाह्ह्ह्हह हाँ बस ऐसे ही धक्के देकर तू चोद मुझे, आज तू फाड़ दे मेरी चूत को इसको असली मज़े दे, जिसके लिये में अब तक तरस रही हूँ, मुझे वो सभी मज़े आज ही दे क्योंकि में कितने दिनों से यह सभी मज़े मस्ती करने के लिए ऐसे ही किसी दमदार मोटे लंबे लंड की तलाश में थी जो आज तेरे लंड पर आकर खत्म हुई है इसलिए आज तू मुझे तेरे लंड का पूरा दम और इसकी असली ताकत दिखा दे, मुझे वो जोरदार धक्के मार जिससे में संतुष्ट हो जाऊँ और अब वो मेरी जोश भरी बातें सुनकर बड़ा मस्त होकर मुझे अपनी तरफ से जबरदस्त धक्के देकर चोदने लगा और अब मेरी गीली चूत में उसके लंड के लगातार अंदर बाहर होने की वजह से फच फच आवाज़ आने लगी। में दो बार झड़ गयी थी और अब वो मुझसे बोला कि में भी अब झड़ने वाला हूँ इसलिए में अपना वीर्य कहाँ निकालूं? तब मैंने उससे कहा कि तुम उस वीर्य को मेरी चूत में मत डालना, उसको बाहर ही निकाल दो। फिर उसने उसी समय अपने लंड को मेरी चूत से बाहर निकालकर मेरे मुहं में डाल दिया और उसने एक गरम पानी की पिचकारी मेरे मुहं में मार दी और वो मुझसे बोला कि तू इसको पी जा मेरी रंडी, तू आज मेरा सारा पानी पी ले और मैंने उसके आधे वीर्य को अपने गले से नीचे गटक लिया और आधा बाहर गिरा दिया। में उसके लंड को अपनी जीभ से चाटने लगी और मैंने उसको पहले से भी ज्यादा चमका दिया था और फिर हम दोनों वैसे ही पूरी रात नंगे एक दूसरे से चिपककर सो गए। दोस्तों हमारे बीच यह चुदाई का सिलसिला पूरे सात दिन तक ऐसे ही चलता था और हम दोनों ने तब उन दिनों चुदाई के पूरे पूरे मज़े लिए जिसकी वजह से हम दोनों बहुत खुश थे ।।

Loading...

धन्यवाद …

Comments are closed.

error: Content is protected !!