बॉस की बीवी के साथ कामलीला

0
loading...

प्रेषक : गुमनाम …

हैल्लो दोस्तों, में आज आप सभी को कामुकता डॉट कॉम पर अपनी सच्ची कहानी मेरा सेक्स अनुभव बताने के लिए आपकी सेवा में आया हूँ। दोस्तों मुझे शुरू से ही सेक्स करना, सेक्सी कहानियों को पढ़कर उनके मज़े लेने में बहुत ज्यादा मज़ा आता, लेकिन वो सब अब मेरी एक आदत के साथ साथ जरूरत भी बन गई है। अब आज में आप सभी को अपने बॉस की पत्नी के साथ उसकी चुदाई का वो किस्सा बताने जा रहा हूँ, जिसमे मैंने उसको चोदकर बहुत मज़े लिए। दोस्तों यह मेरी पहली इतनी ज्यादा उम्र की चूत की चुदाई थी जो मेरा पहला सबसे अलग हटकर अनुभव में से एक है और मैंने उसकी प्यास को हमेशा के लिए शांत कर दिया और अब आप ही पढ़कर उसके मज़े ले लीजिए में उम्मीद करूंगा यह आप सभी को जरुर पसंद आएगी। दोस्तों एक बार की बात है मुझे मेरे बॉस ने उनके किसी काम की वजह से मुझे उस दिन अपने घर पर बुला लिया, लेकिन जब में उसके घर पहुंचा तब वो जाते समय मुझसे कहने लगे कि में अभी किसी जरूरी काम से कहीं जा रहा हूँ, लेकिन में वहां से जल्दी आने की कोशिश करूंगा इसलिए तुम तब तक मेरा यहीं पर बैठकर इतंजार करो। फिर में उनके कहने पर वहीं पर उनके घर रुककर अपने बॉस के आने का इंतजार करने लगा।

दोस्तों मेरे बॉस की उम्र करीब 50 साल थी और में उनके घर के बैठक वाले कमरे में बैठकर उनके आने का इंतजार करने लगा। फिर में मन ही मन कुछ इधर उधर की बातें सोचते हुए बड़े ध्यान से अपने बॉस का घर देखने लगा और उसके बारे में सोचने लगा। तभी कुछ देर बाद उसकी पत्नी जिसकी उम्र करीब 40 साल की होगी वो वहां पर आ गई और वो मुझसे पूछने लगी क्या तुम्हे कुछ चाहिए? तुम मुझे बता सकते हो में तुम्हे ला दूंगी। फिर मैंने उनसे कहा कि प्लीज बस आप मुझे पेशाब करने जाने का रास्ता बता दीजिए और वो इतना सुनकर मुझे अपने साथ टॉयलेट की तरफ ले गई। फिर मैंने टॉयलेट के अंदर जाकर अंदर से दरवाजे को बंद कर लिया, उस समय मुझे बहुत ज़ोर से पेशाब आ रहा था इसलिए में पेशाब करने लगा। फिर पेशाब करने के बाद मैंने देखा कि बाथरूम में बहुत सारी सेक्सी किताबे रखी हुई थी, में अब चुपचाप उनको देखने लगा और उस वजह से कुछ ही देर बाद मेरा लंड तनकर खड़ा हो गया। अब मेरा मन मुठ मारने को करने लगा था, इसलिए मैंने अपनी पेंट की चेन को खोलकर अपना लंड बाहर निकाल लिया। अब मैंने देखा कि दरवाज़े के एक छोटे से छेद से मुझे कोई देख रहा है और में तुरंत समझ गया कि वो मेरे बॉस की पत्नी थी जो मुझे चोरी छिपे देख रही है।

फिर मैंने भी बेशर्म होकर अपने लंड के दर्शन उसको अच्छी तरह से करवाए और करीब पांच मिनट के बाद में बाहर आ गया। फिर उसके बाद वो उस कमरे में मेरे पास आकर बैठ गई और अब वो मुझसे मेरे बारे में पूछने लगी कि मेरी अभी तक शादी हुई है या नहीं? तब मैंने उनको कहा कि नहीं, लेकिन मुझे अब उसकी आँखों में कामवासना दिखाई देने लगी। अब में देखकर तुरंत समझ गया था कि उसको मेरे साथ चुदाई के मज़े चाहिए उस समय वो मेरे सामने बैठी हुई थी और में उसकी वो हालत ठीक तरह से समझ चुका था। फिर में उसके बूब्स को देखने लगा वो भी अब मुझे अपने बूब्स को दिखाने लगी थी और में तुरंत समझ गया कि वो अब बहुत गरम हो चुकी है, में अपना लंड धीरे धीरे खड़ा करने लगा। दोस्तों हम दोनों एक दूसरे के एकदम सामने बैठे हुए थे, वो आंखे फाड़कर मेरे लंड को देखने लगी और हम एक दूसरे से कोई भी बात नहीं कर रहे थे, लेकिन लग रहा था कि हम अपने अपने मन में एक दूसरे से बात कर रहे थे। फिर उसने अपने पैरों को एक दूसरे पर चढ़ा दिए जिसकी वजह से उसकी साड़ी कुछ ऊँची हो जाए और में उसके पैरों को आराम से देख लूँ।

अब मेरी बारी थी और इसलिए मैंने अपनी शर्ट को उतार दिया एक तरफ रख दिया, तभी उसने अपनी छाती पर से अपनी साड़ी का पल्लू नीचे उतार दिया। अब तक मेरा लंड बहुत टाइट हो चुका था, मैंने अपनी पेंट की चेन को खोल दिया, जिसकी वजह से मेरा लंड अब बाहर आ गया और वो खड़ा होकर उसकी चूत को सलामी देने लगा और अब भी हम दोनों एक दूसरे को कुछ नहीं बोल रहे थे, उसने भी अपने ब्लाउज को ऊपर कर दिया और उसके बूब्स जो की उसके ब्लाउज में फंसे हुए थे वो अब बाहर निकल गये। फिर में उठकर उसके पास आकर बैठ गया वो मेरे लंड को देख रही थी और में उसके बूब्स को वो बहुत प्यार से मेरे खड़े लंड को देखती रही और फिर उसने उसको पकड़ लिया और कुछ देर लंड को सहलाने के बाद अपने मुहं में ले लिया। अब में चुपचाप उसके बूब्स को मसलने लगा वो जोश में आकर इतनी तेज़ी के साथ मेरे लंड को अपने मुहं में अंदर बाहर कर रही थी, जैसे वो पहली बार कर रही हो। फिर में बहुत ध्यान से देख भी रहा था, मैंने अब अपनी खामोशी को तोड़ दिया और में उसको पूछने लगा क्या पहली बार लंड को देख रही हो? वो कुछ नहीं बोली और मेरे लंड को चाटने लगी।

फिर कुछ देर बाद लंड को उसने अपने बूब्स के बीच में रखकर वो अपने बूब्स हो दबाने लगी और वो मेरी तरफ देखकर बोली कि हाँ पहली बार में किसी खड़े लंड को देख रही हूँ क्योंकि मेरे पति का लंड कभी भी खड़ा नहीं हुआ। अब मैंने पूछा कि तुम्हारी शादी को कितने साल हो गये? वो बोली कि 20 साल और में अब तक खड़े लंड के तरस रही हूँ। फिर मैंने उसको पूछा बॉस ने क्या तुमको कभी नहीं चोदा? वो कहने लगी कि कभी नहीं वो सिर्फ मेरी चूत में ऊँगली कर देते है, लेकिन उन्होंने कभी भी मेरी चूत में अपना लंड नहीं डाला। अब मैंने उसको कहा कि आप मुझे अपनी चूत दिखाए, तुरंत ही उसने अपनी साड़ी को एक झटके में खोल दिया, जिसकी वजह से उसकी चूत अब मेरे सामने थी और वो मुझसे कहने लगी कि उनका पति उसके लिए बहुत सारे रबर के लंड लाकर देता है और फिर झट से लाकर उसने अपने वो सारे लंड मेरे सामने रख दिए। अब मैंने उनसे पूछा तो आप क्या बीस साल से इन सभी से अपना काम चला रही हो? वो बोली कि हाँ यही मुझे कुछ शांति देते है, मैंने कहा कि आपका यह दर्द में बहुत अच्छी तरह से समझ सकता हूँ। अब वो कहने लगी कि आज जब मैंने तुम्हारा खड़ा लंड बाथरूम में देखा तब में देखकर एकदम गरम हो गई और मुझे अपनी चुदाई की याद आने लगी।

अब मैंने उनको कहा कि आज में आपकी सारी गर्मी बाहर निकाल दूंगा, में बहुत जमकर आपकी चुदाई आज करूंगा आप पूरी जिंदगी मुझे याद रखोगी और वो मेरी यह बात सुनकर बहुत खुश हो गयी। फिर वो उसी समय कहने लगी कि बेटा में उम्र में तुमसे दुगनी हूँ, लेकिन तुम मुझसे कुछ भी करने को बोल देना में वो सब कर दूंगी। अब मैंने उनसे कहा कि चलो पहले एक दूसरे के लंड और चूत को हम चाटते है, मेरे मुहं से इतना सुनकर वो अपने दोनों पैरों को पूरा फैलाकर एकदम सीधा लेट गई। फिर मैंने उसकी चूत पर एक चुम्मा कर दिया, जिसकी वजह से वो तड़प गई और कहने लगी कि प्लीज तुम अपनी जीभ से मेरी इस चूत को चाटो। अब मैंने उनको कहा कि मेरी जान भले ही उम्र तो तुम्हारी 40 की हो गई हो, लेकिन आज भी तुम कच्ची कली की तरह अपनी चूत को मुझसे चटवाने को तड़प रही हो। अब वो कहने लगी कि प्लीज मेरी चूत को चाटो ना, मैंने अपनी जीभ को उसकी चूत में डाल दिया और में धीरे धीरे अंदर बाहर करने लगा। फिर कुछ देर बाद मैंने महसूस किया कि मेरी जीभ से उसका पानी निकल गया, मैंने उसको कहा क्यों इतने जल्दी तुम झड़ गई जानू? वो बोली कि पहली बार मेरी चूत में किसी की जीभ अंदर गई है इसलिए मेरी चूत से पानी निकल गया, तुम हटो में इसको साफ कर देती हूँ।

अब मैंने उसको कहा कि जानू यह भी कोई साफ करने की चीज है? फिर मैंने उसका सारा पानी पी लिया और फिर में उसकी चूत को ज़ोर ज़ोर से चाटने लगा वो चिल्लाने लगी आह्ह्ह्हह् ऊफ्फ्फ्फ़ हाँ और ज़ोर से करो आईईईई मुझे बहुत मज़ा आ रहा है। फिर मैंने उसको कहा कि अब हम 69 आसन में आ जाते है, इसलिए तुम मेरे लंड को चूसो और में तुम्हारी चूत को चाटता हूँ और तब मैंने महसूस किया कि वो मेरे लंड को अपने मुहं में लेने के लिए बेबस हो रही थी और कुछ देर बाद वो मेरा पूरा का पूरा लंड अपने मुहं में ले रही थी। दोस्तों मेरा लंड 6 इंच लंबा दो इंच मोटा है, ज्यादा लंबा होने की वजह से मैंने महसूस किया कि मेरा लंड अब उसके गले तक जा रहा था। अब उसकी तड़प को देखकर मुझे लगा कि शायद वो मेरे आंड को भी लंड के साथ अपने मुहं में लेना चाहती थी। फिर मैंने उसको कहा कि जानू तुम्हारी यह चूत बहुत स्वादिष्ट है इसको चखकर मज़ा आ गया। अब वो कहने लगी कि यह मेरी चूत एकदम ताज़ा चूत है और यह बात अलग है कि में तुम्हारी माँ की उम्र की हो चुकी हूँ, लेकिन मेरी चूत अब भी एकदम ताज़ा बिना चुदी है।

फिर मैंने उसकी चूत के दाने को अपने मुहं में ले लिया और में उसको चूसने लगा, जिसकी वजह से वो इतनी गरम हो चुकी थी कि अब वो कांपने लगी और में उसकी चूत के दाने को ज़ोर ज़ोर से चाट रहा था और उसके साथ साथ में उसको चाट भी रहा था। अब उसकी चूत से लगातार पानी निकल रहा था कि आप समझ लो में बिल्कुल पागल हो चुका था वो मेरे ऊपर थी और में उसके नीचे। अब वो मेरे लंड को अपने मुहं से बाहर नहीं निकाल रही थी, में उसके दाने को अपने दांतो से हल्का हल्का खींच भी रहा था में अच्छी तरह से जानता था कि उसके दाने को यह सब करने की वजह से ही उसकी चूत से इतना पानी बाहर निकल रहा है। अब मेरे पूरा मुहं उसके पानी से भर गया था, लेकिन अब भी लगातार उसका पानी निकले ही जा रहा था उसको जोश में ला रहा था, जिसका वो बहुत मज़ा ले रही थी।

loading...

दोस्तों वो मेरे लंड से निकले पानी को भी एक बार पी चुकी थी, लेकिन अब मेरा लंड एक बार फिर से अपना पानी छोड़ने के लिए एकदम तैयार हो चुका था और इसलिए मैंने उसको बोला कि डार्लिंग तू अब नीचे बैठ जा क्योंकि अब में तेरे मुहं पर अपना पानी निकालने वाला हूँ। अब वो मेरे यह बात कहते ही तुरंत नीचे बैठ गई, में उसके सामने नंगा खड़ा होकर मुठ मारने लगा और वो बड़ी बैचेनी से मेरे लंड से पानी निकलने का इंतजार कर रही थी। दोस्तों वो द्रश्य आप ही खुद सोचिए उसका मज़ा कैसा होगा? कि एक 40 साल की औरत और वो भी बिल्कुल नंगी जिसकी चूत बिल्कुल गीली हो वो आपके सामने अपने घुटनों के बल बैठकर आपके लंड से पानी निकलने का इंतजार कर रही हो, वो इतनी गरम हो चुकी थी कि मेरे मुठ मारने के साथ ही वो अपना रबर का लंड अपने एक हाथ में लेकर उसको अपनी चूत में लगातार अंदर बाहर कर रही थी। फिर उसी समय मेरे लंड से एक पिचकारी निकली जो सीधी उसके मुहं में चली गई और मैंने उसके पूरे चेहरे पर अपना पानी छोड़ दिया। अब उस पानी को वो अपनी जीभ को बाहर निकाल निकालकर चाटने लगी और कहने लगी हाँ और निकालो थोड़ा और निकालो ना।

अब मैंने उसको पूछा कि कैसा लगा मेरी प्यारी रांड तुझे मेरा रस? वो कहने लगी कि आज मुझे जन्नत का पूरा मज़ा मिला है, जिसके लिए में कब से तरस रही हूँ और फिर मैंने उसको कहा कि असली जन्नत तो तेरी चूत में है साली कुतिया। फिर वो कहने लगी कि तुम्हारा लंड भी कुछ कम नहीं है और अब वो मुझसे पूछने लगी कि आज तक तुमने कितनी चूत मारी है? मैंने कहा कि मैंने अब तक बहुत सारी चूत मारी है और मैंने उन सभी को अपनी चुदाई से हमेशा बहुत खुश किया है, लेकिन आज मैंने एक 40 साल की एकदम ताज़ा चूत को आज पहली बार चाटी है। फिर मैंने देखा कि उसकी चूत पर बहुत सारे बाल भी थे, जिसमे कुछ कुछ सफेद भी हो चुके थे मैंने उसको कहा कि आंटी तुम्हारी चूत के बाल तो सफेद भी हो चुके है। अब वो कहने लगी कि बेटा मेरी चूत अब भी किसी 16 साल की लड़की की चूत से कम नहीं है, यह ऊपर से दिखने में ही तुम्हे ऐसी लग रही है, लेकिन यह बहुत दमदार मज़े देने वाली है। अब में तुमसे कहती हूँ कि तुम इसको ऊपर से नहीं इसकी चुदाई के मज़े लेकर देखो तुम्हे खुद ही मेरी इस बात की सच्चाई का पता चल जाएगा। दोस्तों ये कहानी आप कामुकता डॉट कॉम पर पड़ रहे है।

दोस्तों अब में थककर नीचे बैठ गया और वो कहने लगी कि बेटा आज तक मेरी इस चूत में कोई भी लंड नहीं गया, तूने तो दो बार पानी निकाल दिया और अब मेरी इस प्यासी चूत का क्या होगा? मैंने उसको बोला कि जानू तू मेरे लंड को एक बार फिर से चाटना शुरू कर दे, यह लंड पांच बार लगातार पानी बाहर निकाल सकता है। दोस्तों वो मेरे मुहं से यह बात सुनकर बहुत चकित होने के साथ ही खुश भी हुई और वो तुरंत नीचे झुककर लपकते हुए मेरे लंड को अपने मुहं में लेकर चूसने लगी ऐसा करने में उसको बड़ा मस्त मज़ा आ रहा था। अब मैंने उसको पूछा कि आंटी क्यों आपको इसका स्वाद कैसा लग रहा है? वो बोली कि काश यह लंड मुझे हमेशा के लिए मिल जाए तो मेरा इसके आगे का बचा हुआ जीवन इसके साथ मज़े मस्ती करके ही निकल जाएगा और वो सब कुछ कैसा, कितना मजेदार जीवन होगा? अब मैंने उसको कहा कि तुम्हारी चूत ने आज मुझे पूरा गीला कर दिया है और इतना पानी मैंने कभी किसी औरत की चूत से बाहर निकलते हुए नहीं देखा जितना आपकी चूत से निकल रहा है। फिर वो कहने लगी कि यह सारा पानी मैंने तेरे लिए ही तो निकाला है, तू ही तो कह रहा था कि औरत की चूत का पानी मर्दो के लिए अच्छा होता है।

अब मैंने उसको कहा कि हाँ, लेकिन तुम्हारी चूत से कुछ ज्यादा ही पानी निकाल रहा है और मेरे पूरे बदन पर उसकी चूत का पानी लगा हुआ था, मैंने उसको बोला कि लंड के साथ साथ तू मेरे बदन को भी चाट और अपनी जीभ से मेरे बदन को अपनी चूत के पानी से साफ कर। दोस्तों आंटी के लिए यह एक नया अनुभव था, वो कहते ही तुरंत मेरे बदन को चाटने लगी वो मेरे बूब्स को भी चाट रही थी उसका एक हाथ अब भी मेरे लंड पर था, जिसको वो हिला भी रही थी, वो उसको खड़ा करके अपनी चूत को मुझसे मरवाना चाहती थी। अब वो मेरे दोनों निप्पल को अपने दांतो से काट भी रही थी, जिसकी वजह से मुझे अब दर्द भी होने लगा था। में उसको बोला कि साली रंडी काटती है। फिर वो बोली कि हाँ बेटा हम औरतों का भी दिल करता है कि हम भी तुम मर्दो के बूब्स को दबाए और उनको चाटे, मैंने उसको कहा कि हाँ तुम इनको चूसो। अब वो और भी मज़े लेकर मेरे निप्पल को चूसने लगी और अब तक मेरा लंड तनकर खड़ा हो गया, मैंने उसको कहा कि आंटी तेरी चूत की आज जमकर चुदाई करने के लिए अब मेरा लंड तनकर तैयार खड़ा है।

फिर यह बात सुनकर उसने खुश होकर मेरे लंड के टोपे पर एक चुम्मा किया और वो मेरे लंड से बोली कि हे मेरे प्यारे लंड आज में अपनी चूत को तुझे देती हूँ तुम आज इसको आज फाड़ देना और अगर इसमे से खून भी निकले तब भी इस पर तुम बिल्कुल भी रहम नहीं करना और तुम आज इसको चोद चोदकर वो मज़े वो सुख देना जिसके लिए यह इतने सालों से तरस रही है और इसको तुम अच्छी तरह से चोदकर पूरी तरह से संतुष्ट कर देना, कोई भी कमी या कंजूसाई तुम मत करना। अब मैंने उसको कहा कि चल रंडी अब तू जल्दी से मेरे सामने घोड़ी बन जा और वो मेरे सामने घोड़ी बन गई, मैंने उसका मुहं दीवार की तरफ कर दिया और उसकी गांड को मैंने थोड़ा सा ऊपर किया। फिर अपने लंड को में उसकी चूत पर रगड़ने लगा और उसी समय मेरे लंड के स्पर्श से ही वो तेज़ सांसे लेनी लगी और वो उसकी चूत के मुहं पर मेरा लंड तेजी से रगड़वा रही थी। अब वो मुझसे कहने लगी कि बेटा अब तुम मेरी इस चूत पर थोड़ा सा तरस खाओ और इसमे अपने इस गरम मोटे दमदार लंड को डाल दो प्लीज मेरी इस चूत की बीस साल की गरमी को निकाल दो।

फिर मैंने सही मौका देखकर एक जोरदार झटके के साथ ही उसकी चूत में अपना पूरा का पूरा लंड डाल दिया जो उसकी चिकनी गीली चूत में फिसलता हुआ सीधा उसकी बच्चेदानी से जा टकराया और मेरे लंड के उसकी चूत को फाड़कर अंदर जाते ही वो बड़ी ज़ोर से चीख पड़ी और वैसे मैंने भी आज उसकी चूत की चुदाई करके उसको फाड़ने की बात सोची थी, क्योंकि आज एक 40 साल की चूत का मुकाबला एक 25 साल के लंड से था। दोस्तों वैसे में पहले से ही बहुत अच्छी तरह से जानता हूँ कि कोई भी चूत कभी भी अपनी चुदाई से थकती नहीं है, चाहे आप उसको कितना ही जमकर चोदो चाहे कितना ही रगड़ो लगातार चोदते रहो, लेकिन मैंने मन ही मन सच लिया था कि आज में इसकी इतनी जमकर चुदाई करूंगा कि इसकी 20 साल की सारी कसर निकल जाएगी। अब में मन ही मन यह सारी बातें सोचकर बहुत खुश होकर अपने लंड को ज़ोर ज़ोर से लगातार अंदर बाहर कर रहा था, वो मुझसे और तेज़ और तेज़ हाँ ज़ोर से ज़ोर से हाँ ऐसे ही लगातार धक्के देते रहो मेरे राजा मुझे बहुत मज़ा आ रहा है वो यह बातें बोली जा रही थी। फिर में करीब बीस मिनट तक बिना रुके लगातार उसकी चूत में अपना लंड डाले जा रहा था, उसकी चूत मेरे लंड की तेज़ी से एकदम लाल हो चुकी थी, लेकिन फिर भी वो मुझे और तेज़ और तेज़ कहकर गरम करती जा रही थी।

अब मैंने उसको धक्के लगाते हुए ही उसका रबर का लंड उठा लिया और में उस लंड को अब जबरदस्ती उसकी गांड के अंदर डालने लगा। फिर उसके दर्द की वजह से तो वो इतना ज़ोर से चीखने चिल्लाने लगी कि मुझे ऐसा डर लगने लगा कि कहीं कोई उसकी आवाज को सुनकर बाहर से आ ना जाए। अब मैंने उसको कहा कि चुपकर साली कुत्ती हरामजादी तेरी इस इतनी ज़ोर की आवाज को सुनकर कोई भी आ जाएगा। अब वो सिसकियाँ लेते हुए कहने लगी आईईईई माँ ऊफ्फ्फ्फ्फ़ तुम मेरी गांड में यह दूसरा लंड क्यों डाल रहे हो? प्लीज बाहर निकालो इसको ऊउईईईई मुझे बहुत जोरदार दर्द हो रहा है में इसकी वजह से आज मर जाउंगी, प्लीज जल्दी बाहर करो इसको तुम ऐसा क्यों कर रहे हो? मेरे लिए तुम्हारा एक ही लंड बहुत है। अब मैंने उसको कहा कि तुझे आज चुदाई का असली और पूरा मज़ा देने के लिए, वो बोली कि नहीं तू मेरी गांड में इस दूसरे लंड को मत डाल, बाहर निकाल इसको आह्ह्हह्ह्ह् मुझे इससे बहुत दर्द होता है आह्ह्हह्ह चुदाई का मज़ा लेने के लिए यह तेरा लंड ही मेरे लिए बहुत है। अब मैंने उसको कहा कि इसकी वजह से मुझे बहुत मज़ा आ रहा है, मेरी जान जब तुमको दर्द होता है में खुश होता हूँ मुझे किसी को तड़पाने में बड़ा मज़ा आता है।

फिर वो बोली कि प्लीज बेटा आह्ह्ह्ह अब मेरी बात मान जाओ आईईई नहीं तो तुम भी अपनी गांड में एक ऐसा लंड क्यों नहीं डाल लेते तुम्हे भी इस दर्द का अनुभव हो जाएगा। अब मैंने उसको कहा कि चुपकर साली रंडी लंड की पुजारन, मैंने लंड की स्पीड को पहले से भी ज्यादा तेज कर दिया और उसकी गांड से लंड को बाहर निकालकर एक बार फिर से अंदर डाल दिया और में उसके साथ साथ उसकी चूत को भी फाड़ रहा था। अब वो दर्द की वजह से बहुत ज़ोर से चिल्लाने लगी, मुझे बहुत अच्छा लग रहा था मैंने अब उस लंड को बाहर निकालकर उसकी चूत में डाल दिया और अपना लंड मैंने उसकी गांड में डाल दिया था। दोस्तों वो लंड उसकी गांड में डालने की वजह से उसकी गांड का छेद भी बहुत ज्यादा पूरा खुल गया था, जिसकी वजह से मेरा लंड उसकी गांड में बहुत आराम से अंदर चला गया। दोस्तों अब उसको मेरा यह सब करना बहुत अच्छा लग रहा था, उसकी चूत में रबर का लंड और उसकी गांड में मेरा असली लंड जिसकी वजह से उसकी गांड और चूत दोनों की चुदाई हो रही थी। अब वो मुझसे कहने लगी बेटा आज तूने इस बरसों से प्यासी औरत को अपनी इस चुदाई से बहुत खुश कर दिया है तुम इस काम में बहुत अनुभवी हो वाह मज़ा आ गया हाँ ऐसे ही लगे रहो।

loading...

अब मैंने उसकी गांड को भी अपने लंड से लगातार धक्के देकर चोदा जिसके पूरे पूरे मज़े लेकर वो भी अब अपनी गांड को उछाल उछालकर मुझसे अपनी गांड को मरवा रही थी क्योंकि उसको अब दर्द बिल्कुल भी नहीं था और उसकी जगह अब उसको मज़े आने लगे थे। अब वो मेरा पूरा पूरा साथ दे रही थी और दोस्तों 40 साल की इस प्यासी औरत ने मेरे लंड पर अपनी गांड से कोई जादू कर दिया था। अब इस वजह से में कभी उसकी चूत में अपने लंड को डालकर धक्के मारता तो कभी उसकी गांड को चोदने लगता करीब एक घंटे की चुदाई लगातार उन धक्कों के बाद मैंने उसकी गांड में अपना वीर्य निकाल दिया और उसके बाद मैंने अपने लंड को बाहर निकालकर उसको कहा कि चलो अब तुम मेरे लंड को अपने मुहं में लेकर इसको चूसो और अपनी जीभ से चाट चाटकर साफ कर दो। फिर उसने बिना देर किए तुरंत मेरे लंड को अपने मुहं में लेकर पहले कुछ देर चूसा और उसके बाद मुहं से बाहर निकालकर लंड पर अपनी जीभ को फेरकर उसको एकदम साफ कर दिया चमका दिया। फिर मैंने आंटी की चूत पर एक चुम्मा किया और में उसको बोला कि मेरा लंड आप जैसी प्यासी चुदाई के लिए तरसती हुई कामुक औरत के लिए हमेशा उनकी चुदाई करने लिए तैयार होकर खड़ा रहता है।

अब आपको अपनी चूत या गांड जब भी मुझसे मरवानी हो तब आप मुझे फोन कर देना और फिर मैंने उसको अपना मोबाइल नंबर भी दे दिया, उसके बाद में अपने कपड़े पहनने लगा और दोबारा पास वाले कमरे में जाकर बैठकर अपने बॉस का आने का इंतजार करने लगा। दोस्तों यह थी मेरी सच्ची चुदाई की कहानी अपने बॉस के घर पर उसकी तरसती हुई पत्नी के साथ, जिसके मैंने बहुत मज़े लिए और उसको अपनी चुदाई से पूरी तरह से संतुष्ट कर दिया में उम्मीद करता हूँ कि यह मेरी चुदाई मेरा सेक्स अनुभव आप लोगों को जरुर पसंद आएगा ।।

धन्यवाद …

इस कहानी को Whatsapp और Facebook पर शेयर करें ...

Comments are closed.