देसी आंटी के मोटे बूब्स

0
loading...

प्रेषक : राज …

हैल्लो दोस्तों, में कामुकता डॉट कॉम का नियमित पाठक हूँ, आज में आपको मेरा एक रियल अनुभव बताने जा रहा हूँ। मेरे पड़ोस में एक सेक्सी आंटी रहती है, वो हमारे परिवार में काफी मिलती जुलती रहती है। आंटी के दो बच्चे है एक लड़की है, जो कि 12 साल की है और एक लड़का है, जो कि 8 साल का है। उसकी शादी को 15 साल हो गये है, लेकिन फिर भी वो इतनी हॉट लगती है, उसके ब्रेस्ट का साईज़ 40 है और बदन गोरा-गोरा है, वो घर में अक्सर सलवार कुर्ता पहनती है और पार्टी या कहीं बाहर जाना होता है तो वो साड़ी पहनती है। वो साड़ी अपनी कमर से काफी नीचे पहनती है और उनकी साड़ी भी पारदर्शी होती है, तो उसके टाईट बूब्स हमेशा बाहर की तरफ आए हुए होते है।

फिर एक दिन मेरी मम्मी ने मुझे आंटी के घर जाकर दही लाने के लिए भेजा तो में जैसे ही उनके घर गया तो वो ज़मीन पर पोछा लगा रही थी, उसने सलवार सूट पहना था और उस पर चुन्नी नहीं थी। उसके दोनों बूब्स इतने बड़े थे कि साफ-साफ़ बाहर निकले दिख रहे थे, तो कुछ देर तक तो में उसे देखता ही रहा। फिर मैंने उनसे दही माँगा, तो उसने मुझे बैठने के लिए कहा और वो पोछा लगाने लगी, उसके बूब्स बहुत ही हॉट लग रहे थे। अब मुझे उसकी सलवार में से उसकी ब्लेक पेंटी साफ़-साफ़ दिख रही थी। अब मेरा लंड तन गया था और फिर बाद में उन्होने मुझे दही लाकर दिया, तो उनका हाथ मेरे हाथ से टकराया, तो में मचल गया। अब वो जब भी छत पर कपड़े सुखाती, तो में उसकी ब्रा और पेंटी के साथ खेलता था और उनको अपने लंड से लगाता था।

loading...

फिर एक दिन आंटी के पति को किसी काम से बाहर जाना था, तो वो मुझे कह कर गये थे कि तुम आज संगीता के साथ ही सोना, में कल लौट आऊंगा। अब मेरा मन सेक्स के लिए मचल रहा था। फिर में रात को खाना खाकर आंटी के घर सोने के लिए चला गया। अब आंटी अपने बच्चों को पढ़ा रही थी, फिर आंटी ने मुझसे कहा कि तुम सोना चाहो तो सो जाओ। तो मैंने कहा कि नहीं आंटी में यही बैठता हूँ। आंटी ने सफेद कलर का सलवार कुर्ता पहना था और चूड़ीदार पजामा पहना था। अब में आंटी की साईड में थोड़ा दूर बैठा था। अब वहाँ से मुझे आंटी की टाईट सलवार में से उनकी रेड कलर की पेंटी साफ़-साफ़ दिख रही थी और जब वो झुकती तो उनके बूब्स साफ-साफ़ दिखाई दे रहे थे। फिर पढ़ाई ख़त्म होने के बाद आंटी नहाने चली गयी। अब में उनके बच्चों के पास बैठा था। फिर जब आंटी नहाकर वापस आई तो उन्होंने पिंक कलर की नाइटी पहनी थी, वो नाइटी इतनी पारदर्शी थी कि उनकी छोटी सी ब्रा में उनकी 40 साईज़ के बूब्स कमाल के लग रहे थे। फिर वो सोने के लिए अपने रूम में चली गयी और में वही हॉल में सो गया। दोस्तों ये कहानी आप कामुकता डॉट कॉम पर पड़ रहे है।

loading...

फिर में रात को जब पानी पीने उठा तो मैंने आंटी के कमरे में देखा कि आंटी की नाइटी उनकी गोरी- गोरी जांघो से ऊपर थी, तो में वहाँ खड़ा होकर देखता रहा। तो अचानक से आंटी उठ गयी और मुझे सामने देखकर बोली कि तुम यहाँ क्या कर रहे हो? तो मैंने कहा कि आंटी आप 1 मिनट के लिए बाहर आएंगी, तो आंटी बाहर आ गयी। तो मैंने कहा कि आंटी आप मुझे बहुत ही अच्छी लगती है, तो उन्होंने कहा कि चल जा सो जा। फिर मैंने कहा कि आंटी आपके फिगर जैसा फिगर मैंने कभी नहीं देखा और फिर मैंने आंटी का एक हाथ पकड़ लिया। तो आंटी ने अपना हाथ छुड़ाते हुए कहा कि यह ग़लत है तू मेरे बेटे की तरह है। तो मैंने कहा कि नहीं आंटी में आपको सिर्फ़ एक किस करना चाहता हूँ। तो उन्होंने गुस्से से कहा कि नहीं, तो में उदास हो गया और अपने पलंग पर जाकर सो गया।

फिर अगले दिन सुबह जब बच्चे स्कूल चले गये, तो आंटी मुझसे बात करने के लिए मेरे पास आई, लेकिन मैंने उनसे बात नहीं की। तो तब आंटी ने कहा कि में एक शादीशुदा औरत हूँ, प्लीज यह करना गलत है। तो मैंने कहा कि आंटी सिर्फ़ एक किस ही तो माँग रहा हूँ। तो तब आंटी ने कहा कि सिर्फ़ किस करेगा और कुछ नहीं। तो मैंने कहा कि ठीक है, आंटी पिंक कलर की नाइटी में थी। फिर मैंने उनके होंठो पर किस किया, तो वो मचल गयी। फिर मैंने मेरे हाथ उनके बूब्स पर फैरना शुरू किया, तो तभी उन्होंने मेरा हाथ हटा दिया। तो मैंने कहा कि आंटी आज प्लीज मुझे कुछ करने दो, मैंने आज तक किसी को किस तक नहीं किया है और में आंटी के बूब्स दबाता रहा और बाद में मैंने उनकी नाइटी में अपना एक हाथ डाल दिया, उनके बूब्स इतने बड़े थे कि मेरे एक हाथ में नहीं आ रहे थे। फिर मैंने उनकी नाइटी उतार दी, अब वो सिर्फ़ ब्लेक ब्रा और पेंटी में थी। फिर मैंने उनकी ब्रा का हुक खोला तो हुक खोलते ही उनके 40 साईज़ के बूब्स मेरे सीने पर आ गिरे, अब में उनको चूस रहा था। फिर आंटी ने मेरे पूरे कपड़े खोल दिए। फिर मैंने उनकी चूत चाटनी शूरू की, अब आंटी को बहुत मज़ा आ रहा था। फिर मैंने अपना लंड आंटी की चूत में डाला और ज़ोर-ज़ोर से धक्के मारने लगा। अब आंटी चिल्ला रही थी आआआआ, उम्म्म्मममममम प्लीज थोड़ा ज़ोर से। अब में और ज़ोर से अपने लंड को उनकी चूत में डाल रहा था, फिर एकदम से मेरा सारा रस उनकी चूत में ही निकल गया ।।

loading...

धन्यवाद …

Comments are closed.

error: Content is protected !!