दोस्त की वाईफ की पूरी चुदाई

0
loading...

प्रेषक : रोहित …

हैल्लो दोस्तों, कैसे हो आप सब? मेरा नाम रोहित है, में फिर से अपनी अधूरी बात आज पूरी करने जा रहा हूँ। में आपको फिर से मेरा परिचय दे दूँ मेरा नाम रोहित है और मैंने मेरे दोस्त की बीवी की बहुत देर तक चुदाई की थी। फिर हम दोनों उसके बाथरूम में गये थे, तो तब भी मेरा लंड बहुत टाईट था, वो पहली बार दिव्या की चुदाई के बाद भी वो भूखा था। तो तभी दिव्या ने बाथरूम में फिर से कहा कि तुम आज मेरी जी भरकर चुदाई करो और इतनी चुदाई करो कि मेरी चूत पूरी तुम्हारे पानी से भर जाए और फाड़ डालो मेरी इस चूत को। फिर मैंने कहा कि तुम्हें बहुत दर्द होगा। तो उसने कहा कि अगर में चिल्लाऊँ और रोने लगूं तो तब भी मुझे छोड़ना नहीं, बस चुदाई करते ही जाना और मुझे ज़ोर-ज़ोर से चोदना, आज मेरी चूत को फाड़ ही डालो। उसका बाथरूम बड़ा था इसलिए उसने मुझे वहीं चोदने को बोला।

फिर मैंने उसको वही नीचे लेटा दिया और उसकी चूत में मेरा टाईट लंड घुसा दिया, तो इस बार मेरा पूरा लंड उसकी चूत में घुस गया था। फिर में अपना लंड अंदर बाहर करने लगा तो तब वो सिसकियाँ ले रही थी आहहहहहह, हाहाआआआआअहह, ओह आज बस मेरी चूत को फाड़ डालो ऐसे बोले जा रही थी। फिर मैंने अपनी चोदने की स्पीड बढ़ाई और ज़ोर-ज़ोर से अपने लंड को उसकी चूत में अंदर बाहर करने लगा और फिर में अपनी चोदने की स्पीड को धीरे-धीरे बढ़ाता गया। अब उसे बहुत मज़ा आ रहा था, अब वो अपने कूल्हें उछाल-उछालकर मेरी चोदने में मदद कर रही थी, अब मुझे भी बहुत मज़ा आ रहा था। फिर हमारी चुदाई ऐसे ही 15 मिनट तक चलती रही, उसमें वो एक बार झड़ चुकी थी और में भी मस्त होकर उसके होंठो को चूस रहा था और अपने हाथों से उसके दोनों बूब्स और निप्पल को दबा रहा था।

अब हम दोनों को बहुत मज़ा आ रहा था। फिर में नीचे लेट गया और उसको मैंने अपने ऊपर सुला दिया और नीचे से अपना लंड उसकी चूत में डाल दिया तो मैंने जैसे ही मेरा लंड डाला, तो वो जोर से चिल्लाई ऊऊऊऊऊऊऊऊऊऊओ, हाईईईईईईईईईईईईई, हाईईईईईईई, आअहहाआआओ, आहहहह। फिर मैंने पूछा कि अब क्यों चिल्ला रही हो? अभी थोड़ी देर पहले तो तुम्हारी चूत में आसानी से घुस गया था और अब क्यों चिल्ला रही हो? तो उसने बोला कि तुम्हारा लंड मेरी चूत के अंदर ऊपरी हिस्से को लग रहा है इसलिए।

फिर मैंने कहा कि वाह क्या हॉट है? तो वो बोली कि तुम्हें समझ नहीं आएगा, लेकिन फिर मुझे मालूम हुआ कि मेरा लंड टाईट और थोड़ा टेढ़ा होकर उसकी चूत में जा रहा था, तो उसकी चूत में जाकर भी टेढ़ा हो गया था इसलिए उसको मेरा हर धक्का उसे भारी पड़ रहा था। फिर थोड़ी देर तक में और वो शांत होकर लेटे रहे। फिर थोड़ी देर के बाद मैंने धक्के लगाना शुरू कर दिया, लेकिन अब मुझे धक्के मारने में तकलीफ़ हो रही थी, तो वो मेरे लंड के ऊपर बैठ गयी और में लेटा रहा। अब वो अपने आप उछल-उछलकर चुदाई करवा रही थी, अब मुझे बहुत मज़ा आने लगा था। अब वो मेरे लंड के ऊपर बैठी- बैठी अपने कूल्हें और चूत को ऊपर नीचे, ऊपर नीचे कर रही थी और में लेटा-लेटा मज़ा ले रहा था।  अब वो भी बहुत मस्त होकर अपनी पूरी बॉडी को हिला रही थी। फिर करीब 20 मिनट तक उसने अपनी पूरी बॉडी को हिला-हिलाकर चुदवाया, अब वो हिल-हिलकर बहुत थक चुकी थी, उसको पसीना भी बहुत आया था, लेकिन इस बार वो एक बार भी नहीं झड़ी थी। दोस्तों ये कहानी आप कामुकता डॉट कॉम पर पड़ रहे है।

loading...

फिर में उठा और उसको वाश बेसिन के सहारे खड़ा कर दिया और उसे घोड़ी बना दिया। फिर मैंने अपना लंड एक ही झटके में उसकी चूत में घुसा दिया और धीरे-धीरे अपने लंड को अंदर बाहर करने लगा।  अब वो सिर्फ़ सिसकियाँ ले रही थी, अब मुझे उसको चोदने में बहुत मज़ा आ रहा था। फिर 10-15 मिनट तक तो में उसको ऐसे ही चोदता रहा। अब वो एक बार झड़ चुकी थी, उसकी चूत पानी-पानी हो गयी थी, लेकिन मेरा लंड अभी भी वैसा ही था। फिर मैंने अपना लंड बाहर निकाल दिया, तो उसने मेरा लंड देखा और बोली कि तुम्हारा लंड तो बहुत लाल हो गया है और अभी भी टाईट है और बोली कि में जैसा कहूँ वैसा करो। तो मैंने कहा कि ठीक है और वो फिर से लेट गयी और बोली कि मेरे पीछे आकर लेट जाओ। तो में उसके पीछे जाकर लेट गया। फिर उसने अपने एक हाथ से मेरे लंड को नीचे से पकड़कर उसकी चूत के दरवाजे पर रख दिया।

फिर मैंने कहा कि तुम्हें इस तरह से बहुत दर्द होगा। तो वो बोली कि तुम्हारे लंड की भूख में आज पूरी करके ही रहूंगी, चाहे मुझे दर्द हो, में तुम्हारे लंड की भूख मिटने के बाद ही उठूंगी। फिर में उसे पकड़कर अपने लंड को उसकी चूत में घुसेड़ने लगा और में जैसे ही एक ज़ोर का धक्का देता, तो वो चीखती। तो मैंने कहा कि तुम्हें बहुत दर्द होगा, तो उसने कहा कि अगर में रोने भी लगूं, तो भी तुम अपना लंड बाहर नहीं निकालना, तो मैंने कहा कि ठीक है। फिर में उसको थोड़े-थोड़े टाईम के बाद एक ज़ोर से धक्का मारकर अपने लंड को उसकी चूत में घुसा रहा था। अब मेरा पूरा लंड कई धक्को के बाद उसकी चूत में चला गया था। अब वो बहुत जोर-जोर से चिल्ला रही थी और उसको रोना भी आ गया था, लेकिन में नहीं रुका। अब में अपनी स्पीड बढ़ाकर ज़ोर-जोर से मेरे लंड को अंदर बाहर कर रहा था और इस बार 25 मिनट तक उसे चोदता रहा, इस बार वो 2 बार झड़ चुकी थी और उसकी चूत सूजकर लाल हो गयी थी।

loading...

अब उसे भी मज़ा आ रहा था और में भी मज़ा ले रहा था। फिर उसने मेरे लंड को पकड़कर अपनी चूत से बाहर निकालकर उसकी गांड के दरवाजे पर रख दिया और बोली कि अब थोड़ा यहाँ भी डाल दो। तो में ऐसे ही लेटे-लेटे मेरा लंड उसकी गांड में घुसाने लगा, उसकी गांड भी बहुत गर्म थी। अब मेरा लंड उसकी गांड में पूरा नहीं जा पा रहा था तो में आधे से ही अंदर बाहर करने लगा। फिर थोड़ी देर के बाद मेरा पूरा लंड उसकी गांड में चला गया। फिर में ज़ोर-ज़ोर से उसकी गांड में मेरे लंड को अंदर बाहर करने लगा। फिर 10 मिनट तक में अपने लंड को उसकी गांड में अंदर बाहर करता रहा। फिर उसने मेरे लंड को पकड़कर उसकी गांड से बाहर निकालकर फिर से उसकी चूत में डाल दिया। तो में उसके बूब्स को दबाते-दबाते बोला कि तुम्हें मज़ा आ रहा है या नहीं। तो वो बोली कि मुझे ऐसा मज़ा तो तुम्हारे दोस्त ने भी नहीं दिया जितना मज़ा मुझे तुमसे आ रहा है, अब जब भी घर में कोई नहीं होगा तो में तुम्हें इशारा करके बोल दूँगी, तो तुम आ जाना, तो मैंने कहा कि ठीक है।

loading...

अब उसने मेरे लंड को अभी भी पकड़ा हुआ था। तो मैंने कहा कि इसको डालो तो सही, तो उसने अपनी चूत में मेरा लंड डाल दिया। अब में उसको फिर से लेटे-लेटे ही चोदने लगा था। फिर 10 मिनट के बाद मैंने कहा कि मेरा पानी निकलने वाला है, उसको कहाँ निकालूँ? तो वो बोली कि मेरी चूत काफ़ी सूजकर लाल हो गयी है इसलिए तुम उसे मेरी चूत में ही छोड़ दो। तो 2 मिनट के बाद मेरा पानी निकल गया और मैंने उसकी चूत में ही अपना सारा पानी छोड़ दिया। तो वो बहुत खुश हुई और उसका मुँह मेरी तरफ करके मेरे होंठो को चूसने लगी। फिर थोड़ी देर तक हम लेटे-लेटे ही एक दूसरे के होंठो को चूमते रहे। फिर जब मैंने अपना लंड बाहर निकाला तो वो लाल टमाटर की तरह हो गया था और उसकी चूत भी टमाटर की तरह लाल-लाल हो चुकी थी। फिर उसने मुझसे कहा कि मुझे बहुत मज़ा आया, तुम फिर कभी मेरी इसी तरह से चुदाई करना, तो मैंने कहा कि जैसे तुम कहोंगी वैसे ही करूँगा। फिर हम दोनों ने एक साथ शॉवर लिया और उसने मेरे लंड को साबुन लगाकर साफ़ किया और उसकी चूत को भी साफ किया। अब उसकी चूत साफ करने के बाद भी लाल-लाल टमाटर की तरह लग रही थी। तो दोस्तों यह है मेरी अधूरी बात, जो मैंने आपको इस स्टोरी में बताई ।।

धन्यवाद …

Comments are closed.

error: Content is protected !!