एक शादीशुदा औरत की मज़बूरी

0
Loading...

प्रेषक : सन्नी …

हैल्लो दोस्तों, मेरा नाम सन्नी है और मुझे मेरे फोन पर एक औरत ने कॉल किया तो वो मुझसे कहने लगी कि में आपसे एक बार मिलना चाहती हूँ क्या आप मुझसे मिल सकते है? तो मैंने उसको अपनी तरफ से जवाब देकर कहा कि हाँ ठीक है आप जब चाहे तब मुझसे मिल सकती है और मुझे आपसे मिलने में बहुत ख़ुशी होगी। अब उसने मुझसे कहा और मुझे उससे मिलने के लिए उसने मुझे दिल्ली के पहाड़गंज के मार्केट में बुला लिया और वो मुझसे कहने लगी कि आप उस जगह पर आ जाओ, में वहाँ पर आकर आपसे मिलती हूँ और वहीं से में आपको मेरे साथ अपने घर लेकर चली आउंगी और फिर मैंने उससे मिलने उस जगह पर पहुंचने के लिए उसी समय हाँ कह दिया और उसके बाद हमारी बातें खत्म हो गई। में अब उसकी चुदाई के सपने देखकर मन ही मन बहुत उत्साहित होने लगा था और मेरी ख़ुशी का कोई ठिकाना नहीं था।

दोस्तों उसके अगले दिन में उस औरत की बताई हुई जगह पर बिल्कुल ठीक समय पर पहुंच गया और वो भी कुछ देर बाद वहीं पर मुझसे मिलने आ गई वो अपने दिए हुए समय से एक दो मिनट देरी से पहुंची थी। तो मुझे उसको पहली बार देखते ही एक झटका सा लगा क्योंकि वो औरत तो मेरी सोच से भी इतनी ज्यादा सुंदर थी कि में उसको बस अपनी चकित नजरो से देखता ही रह गया। में मन ही मन में सोचने लगा कि कब मुझे यह हॉट सेक्सी मॉल चुदाई करने के लिए मिलेगा और में इसकी जमकर चुदाई करके मज़े लूँगा? दोस्तों मेरा लंड 5 इंच का है और उसकी सुंदरता को देखकर वो ज़ोर मारने लगा था। मेरे लंड ने हल्के हल्के झटके देने शुरू कर दिए थे, लेकिन फिर किसी तरह से मैंने अपने लंड को अपने काबू में किया। फिर उसने मुझे अपनी गाड़ी में बैठने का इशारा किया और में तुरंत उसमे बैठ गया और वो मुझे उसमे बैठाकर अपने घर की तरफ ले गयी और कुछ देर चलने के बाद मैंने देखा कि उसका मकान एक अपार्टमेंट की दूसरी मंजिल पर था, हम दोनों लिफ्ट से वहां तक पहुंच गए और तब मुझे पता चला कि वो उस समय अपने घर में बिल्कुल अकेली थी। फिर उसने मुझे अब अपने ड्राइंगरूम में बैठाया और अब वो मुस्कुराते हुए मुझसे पूछने लगी कि आप क्या लेना पसंद करोगे ठंडा या गरम? तो मैंने कहा कि जी कुछ नहीं, तब उसने मुझसे कहा कि नहीं यार आपको कुछ तो लेना ही पड़ेगा और आपके साथ में भी तो हूँ आपका साथ देने के लिए और तभी वो मुझसे इतनी बात कहकर अपने घर की रसोई के अंदर चली गयी और वो कुछ देर बाद एक कप मेरे लिए और एक कप अपने लिए चाय बनाकर ले आई। फिर हम दोनों एक साथ उस सोफे पर बैठकर चाय पीते हुए कुछ बातें हंसी मजाक करने लगे और तभी उसने मुझसे कहा कि देखो सन्नी मेरे पति ज़्यादातर समय घर से ही बाहर रहते है, क्योंकि उनका इस तरह का काम है जिसकी वजह से वो हमेशा दिल्ली से बाहर ही रहते है और उसने मुझे बताया कि हमारी शादी को पूरे पांच साल हो गये है, लेकिन अभी तक हमे कोई बच्चा नहीं हुआ है इसलिए हमने इस बीमारी का बहुत इलाज करवा लिया है, लेकिन वो सब कुछ बेकार साबित हुआ और अब डॉक्टर मुझसे कहते है कि मेरे पति को एक बीमारी है जिसकी वजह से वो कभी भी पिता नहीं बन सकते है। फिर मैंने उससे पूछा कि अब आप ही मुझे बताए कि में आपकी किस तरह की क्या मदद कर सकता हूँ? दोस्तों उस औरत का नाम सुमन है, तो सुमन ने मुझसे कहा कि आप मेरे साथ आज सेक्स करके मुझे एक बच्चा पैदा करके दे दो, में आपका यह अहसान जिंदगी भर नहीं भूलूंगी और उसके लिए आपको मुझसे जो भी कीमत चाहिए वो भी में आपको देने के लिए तैयार हूँ, लेकिन बस आप मेरा यह इतना छोटा सा काम कर दीजिए। फिर मैंने उसकी वो बातें सुनकर मन ही मन खुश होकर उससे कहा कि कोई बात नहीं है, में आपकी हर तरह से मदद करने के लिए हमेशा तैयार हूँ और यह तो मेरी अच्छी किस्मत है जो आपने मुझे अपनी सेवा का इतना अच्छा मौका दिया। में आपकी जरुर हर एक इच्छा को पूरी कर दूंगा।

Loading...

फिर उसके बाद उसने मेरे तैयार हो जाने पर खुश होकर हम दोनों के लिए एक होटल से खाना मंगवा लिया और अब हम दोनों ने साथ में बैठकर खाना खाया और फिर उसके बाद वो मुझे अपने बेडरूम में ले गयी और हम दोनों सुमन के बेड पर अब लेट गये। फिर सबसे पहले मैंने उसको एक किस किया और में उसके नरम गुलाबी होंठो को चूसने लगा और वो उस समय मेरे लंड को पकड़कर धीरे धीरे सहलाने लगी थी। अब मेरा लंड उसके हाथों का स्पर्श पाकर तुरंत ही तनकर खड़ा हो गया था, मैंने अब उसकी साड़ी को उतार दिया और फिर कुछ देर बाद उसके पेटीकोट को भी उतारकर दूर फेंक दिया, जिसकी वजह से अब वो मेरे सामने ब्रा और पेंटी में थी जो उस हालत में बेहद सुंदर लग रही थी और उसका वो गोरा शरीर गठीला था और उसके उन बड़े बड़े बूब्स जो बिल्कुल गोल आकार के थे और कूल्हों के बारे में आप मत पूछो वो क्या गजब के कूल्हे थे, मेरा लंड उसको अपने सामने नंगी देखकर अब तनकर खड़ा हो चुका था और में वो सेक्सी नजारा देखकर पूरी तरह से जोश में आ चुका था। अब वो भी मेरे लंड से खेल रही थी और वो अपने हाथों में लेकर लंड को सहला रही थी और में अब तक उसकी ब्रा और पेंटी को उतारकर उसके गोरे कामुक बदन से बिल्कुल अलग कर चुका था। फिर कुछ देर उसके बूब्स को दबाकर उसको गरम करने के बाद अब में उसके बूब्स को ज़ोर ज़ोर से अपने मुहं में लेकर चूस रहा था और साथ साथ दबा भी रहा था, जिसकी वजह से उसको बड़ा मज़ा आ रहा था और वो ज़ोर ज़ोर से सिसकियाँ भर रही थी और आअहह उूउह्ह्ह की आवाज अपने मुहं से निकाल रही थी। अब वो कुछ देर बाद अब मेरे लंड को अपने मुहं में लेकर उसको चूस रही थी, जिसकी वजह से अब मुझे भी बहुत मज़ा आ रहा था मुझे तो अब जैसे जन्नत ही मिल गयी थी और मैंने कभी सपने में भी नहीं सोचा था कि मुझे कभी इतनी सुंदर औरत की चुदाई करने का मौका मिलेगी। दोस्तों ये कहानी आप कामुकता डॉट कॉम पर पड़ रहे है।

अब हम दोनों 69 की पोज़िशन में आ चुके थे और वो मेरे लंड को किसी अनुभवी रंडी की तरह पूरा अंदर कभी बाहर करते हुए उसका पूरा मज़ा लेकर चूस रही थी और में भी उसकी चूत में अपनी जीभ बहुत अंदर तक डालकर अपनी जीभ से उसकी कामुक चूत की चुदाई कर रहा था, जिसकी वजह से अब उसको और भी मज़ा आने लगा था और वो मुझसे कहने लगी कि हाँ सन्नी और ज़ोर से चूसो प्लीज मुझे बहुत मज़ा आ रहा है। अब तक वो बहुत गरम हो चुकी थी और मुझे उसकी हालत को देखकर उसके जोश और चुदाई की आग का पता चल रहा था उसको देखकर ऐसा लगता था कि यह आज अपनी चूत को चुदाई करवाने के लिए किसी भी हद को पार कर सकती है। अब सुमन ने मुझसे कहा कि सन्नी आप अब सीधे होकर मेरे ऊपर आ जाओ, प्लीज में अब नहीं रह सकती इसलिए अब आप मेरी इस प्यासी चूत में अपना लंड डाल दो ना प्लीज मुझे चुदाई का वो सुख मज़ा दे दो जिसके लिए में बहुत सालों से तरस रही हूँ, लेकिन मेरे हाथ अब तक कुछ भी नहीं लगा और आज आप मेरा वो सपना प्लीज पूरा कर दो। फिर में अब उसके कहने पर चूत को चूसना छोड़कर सीधा होकर तुरंत उसके ऊपर आ गया और में अपना पांच इंच का मोटा लंड उसकी चूत में डालने लगा और मैंने अपनी तरफ से उसको पहला एक ज़ोरदार धक्का लगा दिया, तो उस दर्द की वजह से उसके मुहं से चीख निकल गयी आआहह उईईई माँ में मरर्र्ररर गई सन्नी प्लीज थोड़ा धीरे से करो मुझे बहुत दर्द हो रहा है।

Loading...

दोस्तों उसकी चूत इतनी टाईट थी कि मैंने कभी सोचा भी नहीं था कि किसी शादीशुदा औरत की चूत भी इतनी टाइट हो सकती है? फिर में थोड़ी देर के लिए वैसे ही रुका रहा और में उसकी चूत में अपने लंड को डालकर उसके बूब्स को सहलाता रहा और थोड़ी देर के बाद अब मैंने सही मौका देखकर उसको अपनी तरफ से दूसरा धक्का मार दिया तो मेरा लंड अब उसकी चूत में कुछ इंच अंदर जा चुका था और अब उसने एक बार फिर से दर्द की वजह से किलकारी मारी आअहह उईईइ में मर गई उफफ्फ्फ्फ़ फट गई रे यह तुम क्या कर रहे हो, थोड़ा सा रुक जाओ ना प्लीज वरना आज में मर ही जाउंगी और इसने तो मुझे नानी याद दिला दी है और इतना दर्द तो मुझे मेरी सुहागरात को अपनी पहली चुदाई के समय भी नहीं हुआ था। अब में उसका वो दर्द देखकर थोड़ी देर और रुका रहा और थोड़ी देर के बाद जब मुझे वो शांत नजर आने लगी तो मैंने एक और जोरदार धक्का लगा दिया, जिसकी वजह से अब मेरा पूरा का पूरा लंड उसकी चूत में समा गया और उस दर्द की वजह से अब उसने बहुत ही ज़ोर की चीख मारी उउइईई आऐईईईई में मर गई आह्ह्ह्हह्ह ऊईईईइ माँ और वो मुझे ज़ोर से नोचने लगी। फिर साथ में कहने लगी कि हट जाओ ना प्लीज, वरना में आज मर ही जाउंगी और तुम यह क्या कर रहे हो क्या आज तुम मुझे मार ही डालोगे, तुम्हारा बहुत बड़ा और मोटा लंड है। अब में थोड़ी देर उसकी चूत में अपने लंड को डालकर एक बार फिर से रुक गया और में उसके ऊपर ही लेटा रहा, लेकिन थोड़ी देर के बाद अब वो अपने दर्द को भूलकर पूरी तरह से गरम हो चुकी थी, क्योंकि उसकी चूत मेरे लंड को गरम सी लगने लगी थी और अब वो मुझसे कहने लगी कि सन्नी अब तुम मुझे चोदो, लेकिन तुम धीरे धीरे से मेरी चुदाई करना शुरू करो, मुझे अब मज़ा आ रहा है, लेकिन प्लीज थोड़ा धीरे धीरे से धक्के देना प्लीज।

फिर मैंने अब उसको अपनी तरफ से धक्के देकर चोदना शुरू कर दिया और उसको मेरे हर एक धक्के से मज़ा आने लगा था, तो उसने मुझसे कुछ देर बाद कहा कि सन्नी अब तुम अपने धक्को की स्पीड को बढ़ा दो प्लीज, मुझे बहुत मज़ा आ रहा है तुम चोदो मुझे ज़ोर ज़ोर से उफ्फ्फ्फ़ हाँ आह्ह्ह्ह प्लीज ज़ोर से और ज़ोर से धक्के देकर तुम आज फाड़ दो मेरी इस चूत को, यह मेरी चूत बहुत दिनों से बड़ी प्यासी है और अब में सिर्फ़ तुम्हारी ही हूँ तुम बिल्कुल भी मेरे दर्द को देखकर मत घबराओ अब तुम बहुत चोदो मेरी इस चूत को और तुम चुदाई करके मैदान बना दो। दोस्तों तभी मैंने महसूस किया कि अब वो झड़ने वाली थी और इसलिए वो अब अपने कूल्हों को उठा उठाकर मेरा साथ दे रही थी। फिर करीब 20-25 मिनट लगातार तेज धक्के देने के बाद वो झड़ गयी। अब मुझे उसकी गीली रसभरी चूत में धक्के देने में बड़ा मज़ा आ रहा था। फिर मैंने उसके एक बूब्स को अपने मुहं में लेकर और एक बूब्स को अपने हाथ से दबाते हुए में ज़ोर ज़ोर से धक्के देकर उसको चोद रहा था कि करीब पांच मिनट के बाद में भी झड़ गया और मेरा सारा लंड का पानी उसकी चूत की गहराईयों में मेरे धक्को की वजह से चला गया और अब में उसकी चूत में ही अपने लंड को डाले हुए उसी के ऊपर लेटा रहा। फिर करीब दस मिनट तक वो भी मुझे अपने ऊपर लेटाते हुए मुझे चूम रही थी और वो मेरे बालों को सहला भी रही थी और किस कर रही थी।

अब उसके बाद उसने मेरे लंड को कुछ देर बाद उठकर अपने मुहं में लेकर अपनी जीभ से चाटकर साफ कर दिया था और में वहीं बेड पर लेट गये और अब रात होने वाली थी और उसने मुझसे कहा कि सन्नी अब रात होने वाली है और आप आज यहीं पर सो जाओ, हम खाना यहीं पर मंगवा लेंगे। फिर में मान गया और उसके बाद उसने मेरी हाँ सुनकर बहुत खुश होकर पहले मुझे एक किस किया और उसके बाद हम दोनों के लिए खाना मंगवा लिया और फिर हम दोनों ने साथ में बैठकर खाना खाया और फिर कुछ देर बाद उसी के बेडरूम में दोबारा जाकर मैंने उस रात में करीब पांच बार फिर उसको चोदा, कभी डोगी स्टाईल में तो कभी अपने ऊपर बैठाकर और एक बार मैंने उसकी गांड भी मारी, लेकिन गांड में मुझे इतना मज़ा नहीं आया, क्योंकि उसकी चूत इतनी टाइट है कि मुझे उसकी चूत को ही चोदने में असली मज़ा आता है और अब तक में उसकी दो रात और तीन दिनों से लगातार चुदाई कर रहा हूँ ।।

धन्यवाद …

Comments are closed.

error: Content is protected !!