फेसबुक वाली मैडम की मस्त चुदाई

0
loading...

प्रेषक : दिनेश …

हैल्लो दोस्तों, फेसबुक पर मुझे एक मैसेज आया, जिसमें लिखा था कि में आपसे संपर्क करना चाहती हूँ और फिर उसने मुझे अपना मोबाईल नंबर दिया। तो तब मैंने उस नंबर पर कॉल किया तो कुछ इस तरह से बात हुई।

दिनेश : हैल्लो।

रिडर्स : हाए, आप कौन बोल रहे है?

दिनेश : में दिनेश बोल रहा हूँ, क्या आपने मुझे मैसेज किया था?

रिडर्स : ओह एस, आप दिनेश बोल रहे है, में आपसे मिलना चाहती हूँ, में 48 साल की हूँ और मेरा नाम विनीता है।

दिनेश : अच्छा, तो मुझे आपका पता और टाईम दे दो।

फिर बाद में उसने मुझे अपना पता दिया, वो भी दिल्ली से ही थी और फिर मुझे तारीख और टाईम दे दिया। फिर में उसकी बताई हुई तारीख टाईम और एड्रेस पर पहुँच गया। फिर मैंने डोरबेल बजाई तो तब दरवाजा खुला और सामने 48 साल की खूबसुरत आंटी खड़ी थी। उसे मालूम था कि में आने वाला था इसलिए उसने नई साड़ी पहनी थी और मेकअप भी किया था। उसके बदन से खुशबू आ रही थी शायद उसने पर्फ्यूम लगाया था, उसके बूब्स बहुत बड़े-बड़े थे, लेकिन तने हुए थे, उसके होंठ बहुत गुलाबी थे। फिर थोड़ी देर तक तो में उसे देखता ही रह गया।

फिर उसने मुझे अंदर आने को कहा तो तब में उसके घर के अंदर चला गया, अंदर कोई नहीं था। फिर विनीता ने मुझे पानी दिया तो तब मैंने गिलास लेते वक़्त उसकी उंगली को छू लिया। तब वो मुस्कुराई और फिर मेरे पास सोफे पर बैठ गयी थी। अब मेरा लंड तो पहले से ही टाईट हो गया था। फिर विनीता ने मुझसे कहा कि में तो समझ रही थी कि आप बड़ी उम्र के होंगे, लेकिन आप तो बहुत हैंडसम है। तब मैंने पूछा कि आपके घर में कौन-कौन रहता है? तो तब विनीता ने कहा कि में और मेरे पति, वो बाहर गये हुए है, तुम तब तक मेरे साथ जो चाहे कर सकते हो। फिर में उसके थोड़ा करीब गया और उसके हाथों को पकड़ लिया, अब वो चुपचाप थी।

फिर धीरे-धीरे मैंने उसके हाथों को मसलना शुरू किया। अब में धीरे-धीरे ऊपर बढ़ रहा था और उसके पेट पर अपना एक हाथ फैरने लगा था और उसके ब्लाउज के ऊपर से उसके बूब्स पर अपना हाथ फैर रहा था और फिर उन्हें दबाने लगा था। अब उसकी साँसे ज़ोर-जोर से चल रही थी और अब उसकी आँखे बंद थी। फिर मैंने उसके ब्लाउज के बटनों को खोलना शुरू किया और फिर उसका ब्लाउज निकाल दिया। अब में उसकी ब्रा के ऊपर से उसके बूब्स मसल रहा था। फिर मैंने उसकी साड़ी निकाल दी और उसका पेटीकोट ऊपर उठाकर उसकी जाँघ पर अपना हाथ फैरने लगा था। अब में उसकी पेंटी के ऊपर से उसकी चूत पर अपना एक हाथ फैरने लगा था। अब उसके मुँह से आवाजें आने लगी थी आहह, उहह। फिर मैंने उसका पेटीकोट निकाल दिया। अब वो सिर्फ़ पेंटी और ब्रा में ही थी।

फिर उसने मेरा शर्ट निकाला और मेरी छाती पर अपना हाथ फैरने लगी थी। फिर उसने कहा कि तुम्हारी बॉडी तो बहुत ताकतवर है और फिर उसने मेरी पेंट भी उतार दी। अब मेरा लंड तो नैकर फाड़कर बाहर आने की कोशिश कर रहा था। अब मेरा नैकर टेंट की तरह हो गया था। फिर उसने मेरा लंड नैकर में से निकाला तो तब उसकी आँखे फटी की फटी रही गयी थी। मेरा लंड पूरा 8 इंच का था शायद इतना बड़ा लंड उसने पहली बार देखा था। अब वो मेरे लंड को चूसने लगी थी और फिर मैंने भी उसकी ब्रा निकाल दी और उसके बड़े-बड़े बूब्स चूसने लगा था, उसकी निप्पल बहुत बड़ी-बड़ी थी। अब मुझसे रहा नहीं जा रहा था। फिर मैंने उसकी पेंटी उतार दी और मेरा पूरा 8 इंच का लंड उसकी चूत में डाल दिया। तब वो बोली कि धीरे मेरी चूत फट ज़ाएगी, उसकी चूत पूरी शेव की हुई थी। अब में पूरे जोश में आ गया था। अब में उसे ज़ोर-ज़ोर से धक्के देने लगा था।

फिर करीब आधे घंटे के बाद वो झड़ गयी। अब मेरी स्पीड बहुत तेज हो गयी थी। फिर थोड़ी देर के बाद मेरे लंड में से भी सफेद दही निकल गया। फिर थोड़ी देर के बाद जब हम दोनों शांत हो गये तो तब मैंने उससे कहा कि हम जब तक साथ है हम कपड़े नहीं पहनेंगे और पूरे नंगे ही रहेंगे। तो तब वो बोली कि जो तुम कहो वैसा ही में करुँगी, एक दिन के लिए में तुम्हारी वाईफ हूँ तुम जो चाहे करो। फिर हम शाम तक एक दूसरे की बाँहों में नंगे ही सोते रहे और एक दूसरे के बदन से खेलते रहे। फिर करीब 8 बजे वो खड़ी हुई और खाना बनाने चली गयी। उसकी गांड बहुत बड़ी थी और वो चलते वक़्त ऊपर नीचे हो रही थी। अब वो बिल्कुल नंगी होकर खाना बना रही थी और में पूरा नंगा होकर टी.वी देख रहा था और उसकी तरफ बारी-बारी देख रहा था, उसके सफ़ेद कूल्हें बहुत खूबसूरत लग रहे थे। फिर जैसे ही वो कुछ लेने आगे बढ़ती तो उसके कूल्हे और बूब्स ऊपर नीचे डोलने लगते थे। अब मेरा तो लंड एकदम फिर से टाईट हो गया था। फिर में खड़ा हुआ और उसके पीछे जाकर उसकी गांड में मेरा लंड रगड़ने लगा और उसे अपनी बाँहों में भर लिया था। अब वो मुस्कुराने लगी थी। अब वो रोटी बना रही थी और में उसके बूब्स को पीछे से मसल रहा था, क्या सॉफ्ट बूब्स थे उसके?

फिर मैंने उसके बूब्स पर तेल लगाया और उनकी मसाज करने लगा था। अब उसके बूब्स चमक रहे थे। फिर मैंने उसकी गांड पर थोड़ा तेल लगाया। अब में उसकी गांड पर तेल लगाता जाता और उसे मसलता जा रहा था और फिर उसकी पीठ पर, उसकी जाँघो पर, उसके पूरे बदन पर तेल लगाया। अब वो भी पूरी कामुक हो गयी थी। फिर उसने गैस बंद किया और पलटकर मुझे अपनी बाँहों में लेकर मेरे होंठो को चूसने लगी थी और अब उसकी जीभ मेरे मुँह में डाल दी थी। फिर शायद 10 मिनट तक हम एक दूसरे के होंठो को चूसते रहे। फिर उसने मेरे लंड पर तेल लगाना शुरू किया। अब वो मेरे पूरे बदन पर तेल लगाने लगी थी और मसाज करने लगी थी। अब हम दोनों का बदन पूरा चिकना हो गया था। फिर मैंने उसको अपनी बाँहों में भर लिया। फिर में विनीता को अपनी बाँहों में उठाकर बाथरूम में ले गया। अब मेरा लंड तो पूरा तना हुआ था। दोस्तों ये कहानी आप कामुकता डॉट कॉम पर पड़ रहे है।

loading...

फिर विनीता बोली कि इसको अभी तो खाना खिलाया था और फिर से भूखा हो गया। तब मैंने कहा कि इसकी भूख तो एक दिन के बाद ही मिटेगी। अब वो मेरी गोदी में बैठ गयी थी। अब में उसके बूब्स पर पीछे से साबुन लगा रहा था और मेरा लंड उसकी गांड के छेद को छू रहा था। फिर वो खड़ी हो गयी और फिर उसने मेरे लंड को अपने एक हाथ में लिया और उसका सुपाड़ा बाहर निकाला और उस पर साबुन लगाने लगी और उसको आगे पीछे करने लगी थी। अब में उसके गोरे-गोरे बूब्स पर साबुन लगा रहा था और उसे मसल रहा था। फिर में उसके निप्पल को अपने मुँह में लेकर चूसने लगा। अब उसके मुँह से आवाजे निकल रही थी उहह, आहह, चूसो मेरे राजा, पूरा चूस लो। अब में उसकी निप्पल पर अपनी जीभ रगड़ रहा था।

loading...

फिर उसने मेरे पूरे बदन पर साबुन लगाया तो तब मैंने भी उसके पूरे बदन पर साबुन लगाया और गुच्छी से रगड़ा ताकि झाग ज़्यादा हो। फिर मैंने उसको बाथरूम में लेटा दिया, उसका बाथरूम काफ़ी बड़ा था और अब में मेरा लंड उसके बूब्स पर रगड़ने लगा था। अब वो आवाजे निकाल रही थी उईई माँ, अब मुझसे नहीं रहा जाता, डाल दे अपना पूरा लंड मेरी चूत में। फिर मैंने अपना पूरा लंड उसकी चूत पर रख दिया। अब साबुन लगा हुआ था इसलिए मेरा लंड झट से अंदर चला गया था। साबुन लगाकर चुदाई करने का मज़ा ही कुछ और होता है। अब में उसको धक्के दे रहा था और अब विनीता अपनी आँखे बंद करके पूरा मज़ा ले रही थी। फिर करीब 1 घंटे तक चुदाई चलती रही। फिर वो बोली कि बहुत मज़ा आया और फिर उसने मेरे गाल पर एक चुम्मी दे दी। फिर रात का डिनर भी हम दोनों ने नंगे ही किया। अब वो मेरी गोदी में नंगी बैठी थी और में भी नंगा डाइनिंग टेबल पर बैठा था। अब हम दोनों एक दूसरे को खाना खिला रहे थे। अब मेरा लंड ढीला था, उसने दो बार जो मज़ा लिया था। फिर खाना खाने के बाद उसने बर्तन भी नंगे होकर धोए। अब में यह सब देख रहा था। अब मेरा लंड धीरे-धीरे फिर से टाईट हो रहा था। फिर वो बर्तन धोकर मेरे पास बेड पर आई और लेट गयी और टी.वी देखने लगी थी।

फिर अचानक से वो खड़ी हुई और एक कपबोर्ड में से सी.डी निकाली और सी.डी प्लेयर में डाल दी, वो ब्लू मूवी की सी.डी थी। अब हम वैसा ही करने लगे थे जैसे उस ब्लू फिल्म में आ रहा था। फिर मैंने विनीता की चूत में अपनी एक उंगली डाली और अंदर बाहर करने लगा और साथ-साथ उसको चाट भी रहा था। अब विनीता को बहुत मज़ा आ रहा था। फिर उसने मेरे लंड को अपने मुँह में ले लिया और जो टी.वी में आ रहा था वैसे ही उसने अपना थूक मेरे लंड पर लगाया और अंदर बाहर करने लगी थी। फिर में सीधा सो गया और अब वो मेरे ऊपर घुटनों के बल चढ़ गयी थी और मेरा लंड उसकी चूत में डाल दिया और ऊपर नीचे होने लगी थी। अब मुझे बहुत अच्छा लग रहा था। अब में उसके बूब्स दबा रहा था। फिर करीब 15 मिनट तक ऐसे ही चलता रहा। फिर वो कुत्तिया की तरह हो गयी और अब में पीछे से उसकी चुदाई करने लगा था। तब पहले तो मैंने उसकी चूत में अपना लंड डाला और बाद में उसकी गांड में अपना लंड डाल दिया। तब वो चिल्लाई उईईईई माँ मेरी फट गयी, आहह, उहह जैसे मूवी में आवाज आ रही थी, अब वो वैसे ही आवाजें निकाल रही थी।

अब में ज़ोर-ज़ोर से उसकी चुदाई करने लगा था। अब वो और मज़े में आ रही थी। फिर करीब 1 घंटे के बाद हम दोनों का आखरी समय आ गया और फिर हम दोनों नंगे ही एक दूसरे को अपनी बाँहों में लेकर सो गये। फिर दूसरे दिन हम करीब 10 बजे उठे। फिर हम दोनों ने एक साथ स्नान किया और फिर वो नंगी ही ब्रेकफास्ट लाने चली गयी। फिर उसने कहा कि आज करीब 3 बजे मेरा पति आ जाएगा तो तुम 12 बजे चले जाना। तब मैंने कहा कि ठीक है, ब्रेकफास्ट में ब्रेड और मक्खन था। फिर वो मेरी गोदी में आकर बैठ गयी। फिर मैंने चाकू में मक्खन लिया और उसके बूब्स पर लगाने लगा और फिर उसकी निप्पल पर लगाया। अब वो घूम गयी थी और मेरी गोदी में मेरे सामने अपना मुँह रखकर बैठ गयी थी। फिर मैंने उसकी निप्पल से और बूब्स से मक्खन चूसना शुरू किया। अब वो पूरी मदहोश हो रही थी।

loading...

फिर उसने भी मेरी छाती पर मक्खन लगाया, मेरी निप्पल पर मक्खन लगाया और उसको चूसने लगी थी। फिर उसने मेरे लंड पर मक्खन लगाकर मेरा पूरा लंड अपने मुँह में डाल दिया और उसको चूसने लगी थी। फिर में उसकी चूत को चाटने लगा। अब उसकी चूत पूरी मुलायम हो गयी थी। फिर उसने बैठे बैठे ही मेरा लंड उसकी चूत में डाल दिया। अब मक्खन लगाने से उसकी चूत चिकनी हो गयी थी। अब मेरा लंड तुरंत अंदर घुस गया था। अब वो धक्के देने लगी थी। अब में उसके होंठो को चूसने लगा था। फिर उसने मेरे लंड का सुपाड़ा अपने मुँह में डाल दिया। फिर मैंने एक केला लिया और उसकी चूत पर रगड़ने लगा और फिर उस केले को उसके मुँह पर रखा तो तब वो उस केले को चूसने लगी थी। अब वो ऊपर से नीचे की तरफ पूरे केले को चूसने लगी थी। केला काफ़ी बड़ा था करीब 9 इंच का होगा। फिर मैंने उस केले को कंडोम पहनाया और उसकी चूत में डाल दिया। अब उसके मुँह से आवाजें निकल गयी थी उईईईई माँ और उसकी आँखे फट गयी थी। अब में उस केले को अंदर बाहर करने लगा था।

फिर उसने कहा कि इसमें मज़ा नहीं आता, मुझे तो तुम्हारा केला पसंद है। तब मैंने अपना लंड उसकी चूत में पूरा डाल दिया और अंदर बाहर करने लगा था। फिर करीब 1 घंटे के बाद वो झड़ गयी। फिर मैंने अपना लंड बाहर निकालकर उसके मुँह में डाल दिया। अब वो मेरे लंड को चूसने लगी थी और मेरा पूरा लंड अपने मुँह में डाल दिया था और अंदर बाहर करने लगी थी। फिर थोड़ी देर के बाद मेरा सफेद दही निकल गया और अब वो मेरा सारा दही पी गयी थी। फिर हम दोनों ने अपने-अपने कपड़े पहन लिए और फिर उसने मुझसे कहा कि तुमने मुझे स्वर्ग के दर्शन कराए है, मुझे ऐसा मज़ा पहले कभी नहीं आया था, अब हम कभी एक दूसरे से संपर्क करने की भी कोशिश नहीं करेंगे, अब हम दोनों एक दूसरे को भूल जायेंगे। तब मैंने कहा कि ठीक है, में तुम्हें कभी कॉन्टेक्ट नहीं करूँगा और फिर वो ज़ोर से मेरे गले लग गयी और फिर हम दोनो ने लिप किस किया और एक दूसरे के लिप्स को मुँह में लिया और एक दूसरे की जीभ को चाटने लगे थे। फिर में वहाँ से चला गया। फिर मैंने कभी उससे संपर्क करने की कोशिश भी नहीं की। अब मैंने उसका मोबाईल नम्बर भी मेरे मोबाईल से डिलीट कर दिया था ।।

धन्यवाद …

Comments are closed.

error: Content is protected !!