गर्लफ्रेंड की ठुकाई शादी के बाद

0
loading...

प्रेषक : आकाश …

हैल्लो दोस्तों, मेरा नाम आकाश है, में दिल्ली का रहने वाला हूँ, में कामुकता डॉट कॉम का नियमित पाठक हूँ और अपना पहला अनुभव आपके साथ शेयर कर रहा हूँ। अब में अपनी कहानी स्टार्ट करता हूँ, ये बात आज से कुछ 2 साल पहले की है, में कारोल बाग  मार्केट में कुछ शॉपिंग कर रहा था। तो तभी किसी ने मुझे पीछे से आवाज़ दी तो मैंने देखा कि वहाँ सोनिया खड़ी थी, वो काफ़ी खूबसूरत लग रही थी, उसका ड्रेसअप नई शादीशुदा दुल्हन जैसा था, उसने हाथों में चूड़ा पहना था और गले में मंगलसूत्र और सिंदूर लगाया हुआ था। अब में आप लोगों को सोनिया के बारे में बता दूँ सोनिया मेरी गर्लफ्रेंड थी और 6 महीने पहले ही हमारा ब्रेकअप हुआ था, ब्रेकअप क्या जी? उसने कहीं और शादी कर ली थी।

सोनिया एक स्मार्ट और बोल्ड 24 साल की सेक्सी लड़की थी, हमारा करीब 1 साल तक खूब अफेयर चला इस बीच किस तो आम सी बात हो गयी थी, हम लोग घंटो नेहरू पार्क में बैठकर एक दूसरे को चूमते रहते थे। में उसकी शर्ट में अपना हाथ डालकर उसके बूब्स दबाता रहता था और वो मेरी पेंट की चैन खोलकर मेरे लंड से खेलती रहती थी। हम लोग कभी पिक्चर भी देखने जाते तो यही होता था, कॉर्नर की सीट पर वो मुझसे चिपककर बैठती और में उसके गले में से अपना हाथ डालता हुआ उसकी शर्ट में अपना हाथ डालकर पूरे तीन घंटे तक उसके बूब्स मसलता रहता था और वो मेरी जैकेट को मेरी गोद में रखकर उसके नीचे से अपना हाथ डालकर मेरी चैन खोलकर मेरे लंड को बाहर निकाल लेती थी और पूरे तीन घंटे तक उससे खेलती रहती थी। हम मूवी तो देख नहीं देख पाते थे, लेकिन इस औरल सेक्स का खूब मज़ा लेते थे। में उसके बूब्स सहलाता और मसलता था, तो उसे बहुत मज़ा आता था और में तो कई बार उसके हाथ में ही झड़ जाया करता था, तो हमारे ब्रेकअप तक हमने सिर्फ़ औरल सेक्स ही किया था और चुदाई नहीं की थी।

फिर अचानक से पता चला कि उसने कहीं और शादी कर ली है बस फिर वो कभी मुझे फेस नहीं कर पाई। खैर तो ये थी हमारी छोटी सी स्टोरी जो सरकारी क्वॉर्टस में शुरू हुई थी, हम लोग ग्राउंड फ्लोर पर और वो फर्स्ट फ्लोर पर अपनी बुआ के यहाँ रहती थी। अब में आपका समय ख़राब ना करते हुए सीधा अपनी रियल स्टोरी पर आता हूँ। अब सोनिया को अपने सामने देखकर एक बार तो मुझे काफ़ी गुस्सा आया और मेरा मन किया कि उससे खूब लड़ाई करूँ कि उसने ऐसा क्यों किया? लेकिन फिर मैंने अपने आप पर कंट्रोल रखते हुए उसका हालचाल पूछा और उसने भी मेरा हालचाल पूछा। तो मुझे बातों-बातों में पता चला की शादी के बाद वो यही पास में आनंद पर्वत में जॉब कर रही है और फिर उसने मुझे अपना फोन नंबर दिया और मेरा फोन नंबर भी ले लिया।

फिर 2 दिन के बाद सोमवार को मुझे सोनिया का फोन आया कि आकाश क्या तुम मुझे आज मिल सकते हो? तो मैंने हाँ कर दी। फिर 11 बजे हम लोग एक रेस्टोरेंट में मिले, तो उसने बताया कि वैसे तो उसकी सोमवार की छुट्टी होती है, लेकिन वो आज घर पर झूठ बोलकर सिर्फ़ मुझसे मिलने आई है। तो मैंने कहा कि ऐसी क्या ज़रूरी बात है? तो उसने कहा कि यहाँ काफ़ी शोर है, कही अकेले में आराम से बैठकर बात करना चाहती हूँ। तो मैंने कहा कि ठीक है अपनी पुरानी जगह नेहरू पार्क चलकर बैठते है। तो वो बोली कि नहीं वहाँ कोई भी मुझे देखकर पहचान सकता है तुम मुझे अपने घर ले चलो, तो वहाँ से हम दोनों मेरे घर आए। फिर हम घर का लॉक खोलकर अंदर आए और मैंने दरवाजा अंदर से बंद कर लिया, जब सर्दियों के दिन थे इसलिए मैंने रूम हीटर चला दिया। हम बाइक पर घर आए थे और उसे ठंड लग रही थी, अब रूम हीटर से उसे कुछ गर्माहट सी आई और वो अपनी शॉल उतारकर आराम से बैठ गयी।

फिर काफ़ी देर तक हम दोनों के बीच में खामोशी रही। अब में तो सिर्फ़ उसे देखे ही जा रहा था, वो पंजाबी सूट में काफ़ी सेक्सी लग रही थी। फिर थोड़ी देर के बाद मैंने ही खामोशी तोड़ी और बोला कि बोलो मुझसे क्या बात करनी है? तो वो अचानक से उठी और मेरे गले लगकर मुझसे रोने लगी और कहने लगी कि आकाश मुझे मांफ कर दो मैंने हम दोनों की लाईफ खराब कर दी, पता नहीं मुझे क्या हो गया था? फिर करीब 15 मिनट तक खूब रोने के बाद मैंने उसे पानी पिलाया, तो वो कुछ नॉर्मल सी हुई, लेकिन इस बीच वो मुझसे लिपटी रही। अब काफ़ी दिनों के बाद उसका स्पर्श पाकर मुझे भी अच्छा लग रहा था। फिर वो बोली कि आकाश मेरे एक ग़लत फैसले की वजह से तुमने काफ़ी कुछ सहा होगा, में उसका हर्जाना भरना चाहती हूँ में तुम्हें कुछ देना चाहती हूँ। तो मैंने कहा कि मुझे कुछ नहीं चाहिए, तो वो अपनी शॉल उठाकर वॉशरूम में चली गयी और जब बाहर आई तो उसने शॉल अपनी बॉडी पर लपेटी हुई थी।

फिर उसने रूम में आकर लाईट ऑफ कर दी, यू तो दिन का टाईम था इसलिए मुझे थोड़ा-थोड़ा नज़र तो आ ही रहा था। फिर मैंने उससे पूछा कि क्या हुआ? तो उसने मेरे पास आकर शॉल हटा दी। तो में ये देखकर दंग रह गया कि उसने अपने सारे कपड़े उतार दिए थे और वो सिर्फ़ शॉल पहनकर आई थी। फिर वो अपनी शॉल पूरी तरह से हटाकर मुझसे लिपट गयी, अब आप लोग मेरी हालत का अंदाज़ा लगा सकते होगें कि एक पूरी नंगी लड़की मेरी बाहों में है तो मेरी क्या हालत रही होगी? अब उस वक़्त मेरे दिमाग़ में कुछ नहीं आ रहा था कि सही या ग़लत क्या होता है? इस तरह से तो वो उस पीरियड में भी मुझसे नहीं लिपटी थी, जब हमारा अफेयर था, अब वो पूरी नंगी मुझसे लिपटी हुई थी।

loading...

फिर उसने अपना चेहरा थोड़ा ऊपर उठाया और मेरे चेहरे के पास आकर बोली कि आकाश में आज पूरी तरह से वो करना चाहती हूँ जो हमारे बीच में कभी नहीं हुआ, में तुम्हारे साथ सेक्स करना चाहती हूँ और चाहती हूँ कि तुम मुझे प्रेग्नेंट कर दो और में तुम्हारे बच्चे को जन्म दूँ, यही मेरा हर्जाना होगा तो तभी मुझे भी सुकून मिल पाएगा, बाकी सब कुछ में संभाल लूँगी बस तुम मुझे चोद डालो। अब वो पूरी तरह से मुझसे लिपटी हुई थी, अब मुझे कुछ समझ में नहीं रहा था कि में क्या करूँ? फिर उसने मुझे किस करना शुरू किया, अभी भी उसके होंठ वैसे ही सॉफ्ट से थे और उसका अंदाज़ तो मेरे लिए पुराना ही था मुझे अच्छी तरह से पता था कि उसे क्या पसंद है? तो मैंने भी अपना मन बना लिया कि जब उसे कोई प्रोब्लम नहीं है, तो मुझे क्यों हो? तो में उसे रेस्पोंस देने लगा। अब उसने किस करते-करते मेरे सारे कपड़े उतार दिए थे, अब हम दोनों पूरे नंगे हो गये थे और हम दोनों पहली बार एक दूसरे को ऐसे देख रहे थे।

फिर वो मेरा हाथ पकड़कर बेड की तरफ ले गयी, अब वो बेड पर लेट गयी और मुझे अपने ऊपर लेटा लिया। फिर करीब 15 मिनट तक हम किस करते रहे और में साथ में उसके बूब्स दबाता रहा। अब वो पूरी तरह से गर्म हो गयी थी, फिर उसने मुझे अपने ऊपर से हटा दिया और बेड के साथ पीठ लगाकर बैठने को कहा। तो मैंने उससे पूछा, तो उसने कहा कि ये सब तो हम पहले कर चुके है में आज तुम्हारे साथ वो करना चाहती हूँ जो पहले कभी नहीं किया। तो फिर में बैठ गया और वो मेरी टांगो के बीच में आकर अपने पेट के बल उल्टी लेट गयी और मेरे लंड को सहलाने लगी। अब मेरा लंड उसके सहलाने से तनकर रोड की तरह हो चुका था। फिर थोड़ी देर तक सहलाने के बाद उसने मेरा लंड अपने मुँह में ले लिया, कसम से क्या मज़ा आ रहा था? पहली बार किसी ने मेरा लंड अपने मुँह में लिया था, अब में तो ज़न्नत के मज़े ले रहा था।

फिर पहले तो उसने मेरा लंड खूब चूसा और फिर लॉलीपोप की तरह अंदर बाहर करने लगी। अब मेरे मुँह से भी सेक्सी आवाज़े निकल रही थी आआआआआ सोनिया आज कसम से तुमने तो मज़ा दिला दिया, ये तुमने कहाँ से सीखा? आहहहह आई एम कमिंग और फिर में उसके मुँह में ही झड़ गया। फिर उसने अपने मुँह से ही चूस-चूसकर मेरा लंड साफ किया और फिर बोली कि सेक्स तो मेरा पति भी रोज़ ही करता है, लेकिन वो ये सब नहीं करता जो में चाहती हूँ, मुझे लंड चूसना अच्छा लगता है और तुम्हारा मोटा लंड चूसकर आज मुझे शांति मिली है, तुम वादा करो अब जब-जब मेरा मन करेगा, तुम मुझे अपना लंड चूसने दोगें प्लीज, तो मैंने कहा कि ठीक है। फिर वो बोली कि मुझे एक और चीज़ पसंद है और फिर वो बेड पर अपनी पीठ के बल लेट गयी और मुझे अपनी टांगो के बीच में आने को कहा। तो मेरे वहाँ आते ही उसने अपने दोनों हाथों से अपनी चूत को थोड़ा फैला दिया और बोली कि आकाश सेक्स का असली मज़ा लेने है तो इसे चाटो।

फिर में भी शुरू हो गया और अपनी जीभ से खूब अच्छी तरह से उसकी चूत की चटाई की। अब वो तो सातवें आसमान में उड़ रही थी और आवाज़े निकाल रही थी आहह आकाश मुझे चोद डालो, फाड़ डालो मेरी चूत को प्लीज, मुझे प्रेग्नेंट बना दो, में तुम्हारे बच्चे की माँ बनना चाहती हूँ प्लीज, ऊऊऊओाआाहह चोदो। फिर 20 मिनट तक अच्छी तरह से उसकी चूत चाटने के बाद वो झड़ गयी। फिर हमने 5 मिनट तक आराम किया। फिर उसके बाद उसने मुझे नीचे लेटा दिया और वो चुदने के लिए मेरे ऊपर आ गयी, तो मैंने कहा कि सोनिया तुम नीचे आओ में तुम्हें अच्छी तरह से चोदूंगा। तो वो बोली कि नहीं नीचे तो में रोज ही चुदती हूँ आज में चोदना चाहती हूँ प्लीज, मुझे घोड़े की सवारी करने दो प्लीज यार। तो मैंने कहा कि ठीक है जो तुम्हारा मन करे और फिर वो मेरे लंड के ठीक ऊपर आ गयी और मेरे लंड को अपने हाथ में लेकर सहलाने लगी।

फिर जब मेरा लंड रोड की तरह पूरा तन गया तो उसने अपने ही हाथ से मेरे लंड को अपनी चूत का दरवाजा दिखाया और जैसे ही मेरा लंड उसकी चूत के द्वार से टकराया तो वो झटके से पूरी बैठ गयी और मैंने भी नीचे से धक्का लगाया तो एक ही झटके से मेरा पूरा का पूरा लंड उसकी चूत में जा घुसा, तो वो थोड़ी देर तक शांति से बैठ गयी। फिर मैंने पूछा, तो वो बोली कि रोज़ मेरा पति एक ही तरीके से चोदता था तो मज़ा नहीं आता था, लेकिन आज असली मज़ा आया है। फिर जब उसका दर्द थोड़ा कम हुआ तो उसने घोड़े की सवारी करना शुरू की, कसम से क्या सीन था? अब मुझे ज़न्नत का मज़ा आ रहा था। अब वो मेरे लंड पर ज़ोर-ज़ोर से घोड़े की सवारी कर रही थी और मैंने उसे उसके हिलते हुए बूब्स को पकड़ा हुआ था। अब वो अपनी आँखें बंद किए हुए मस्ती से चुदवा रही थी। अब करीब 20 मिनट तक चोदने के बाद उसकी स्पीड तेज हो गयी थी और वो कह रही थी आआआआआ आकाश में झड़ने वाली हूँ, उईईईईईई माँ, तो अब में भी झड़ने वाला था। तो उसने कहा कि आकाश मेरे अंदर ही झड़ना अपना लंड बाहर मत निकालना प्लीज, में तुम्हारे बच्चे की माँ बनना चाहती हूँ।

loading...
loading...

अब हम दोनों की रफ़्तार शताब्दी एक्सप्रेस की तरह बढ़ती जा रही थी। फिर हम दोनों ने एक दूसरे को कसकर पकड़ लिया और फिर हम दोनों एक साथ ही झड़ गये, कसम से वो क्या आनंद था? मेरी ये फिलिंग हर कोई चोदने वाला और चुदवाने वाली समझ सकती है, उस फिलिंग में एक अज़ीब सी मस्ती होती है। खैर फिर में उसके अंदर ही झड़ गया और फिर में अपना लंड उसकी चूत में ही डाले 15 मिनट तक लंबी लंबी साँसे लेते रहे, कहने को तो जब सर्दियाँ थी, लेकिन हम दोनों ही पसीने-पसीने हो गये थे। अब जब वो मिली थी तो कुछ परेशान दिख रही थी, लेकिन अब उसका चेहरा एकदम शांत था, अब उसके फेस पर एक अलग तरह की संतुष्टी थी और वो स्माइल कर रही थी। फिर कुछ देर तक मेरे ऊपर लेटे रहने के बाद वो बोली कि आकाश मैंने तुम्हारे साथ वो किया है जो में अपने पति के साथ नहीं कर सकती, बस एक वादा करो तुम हमेशा ऐसे ही मेरी ज़रूरत पूरी करते रहोगे, तो मैंने उससे वादा किया।

फिर वो बोली कि आकाश में तुम्हारे साथ एकदम नंगे नहाना चाहती हूँ और फिर हम दोनों एक साथ नहाए और नहाने के बाद मैंने 2 बार और उसे चोदा एक बार डॉगी स्टाइल में और एक बार खड़ा करके चोदा। दोस्तों वो मेरी लाईफ का क्या दिन बीता था? मज़ा आ गया था। फिर वो अपने घर चली गयी और फिर उसने 1 महीने के बाद ये न्यूज़ देने के लिए फोन किया कि वो प्रेग्नेंट है और वो मेरा बच्चा ही है और फिर उसने मुझे थैंक्स कहा और कहा कि वो जल्द ही चुदाई का एक नया जोश लेकर फिर मिलेगी। तो दोस्तों यह थी मेरी स्टोरी, आज हमारा बच्चा 2 साल का है, उसके पति को इस बारे में कुछ पता नहीं है उसे लगता है कि वो उसी का है। आज भी सोनिया कई बार मुझसे चुदवाने के लिए मिलती है क्योंकि उसको अपने पति से ज़्यादा मुझसे सेक्स करने में मज़ा आता है ।।

धन्यवाद …

Comments are closed.

error: Content is protected !!