गर्लफ्रेंड रूचि की चूत सूज गई

0
loading...

प्रेषक : अभी …

हैल्लो दोस्तों, मेरा नाम अभी है, में साउथ दिल्ली का रहने वाला हूँ और एक मल्टीनेशनल कंपनी में जॉब करता हूँ। में कामुकता डॉट कॉम का नियमित पाठक हूँ और आज आपके साथ अपनी रियल स्टोरी शेयर करने जा रहा हूँ। ये स्टोरी मेरी और मेरी गर्लफ्रेंड रूचि की है, अब स्टोरी पर आने से पहले में आपको अपने बारे में बता दूँ कि मेरी हाईट 5 फुट 8 इंच है, मेरा लंड इतना बड़ा और मोटा है कि कोई भी लड़की, भाभी, या आंटी संतुष्ट हो जाए। अब में आपको बोर ना करते हुए सीधा अपनी स्टोरी पर आता हूँ। में रूचि से फ़ेसबुक पर मिला था। फिर कुछ दिन तक हमारे बीच में नॉर्मल बात हुई, फिर मैंने उसे प्रपोज़ किया और उसने एक्सेप्ट कर लिया। फिर कुछ दिन के बाद हमारी बातें रोमांटिक से सेक्स में बदल गई और हम रोजाना सेक्स चैट करने लगे। अब बस हम दोनों के मन में एक ही ख्याल आता था कि हमें कब मौका मिले? और हम चुदाई करे।

फिर एक दिन वो गधी मेरे हाथ आ ही गई, अब रूचि के मम्मी पापा दो दिन के लिए बाहर गये थे और वो घर पर दो दिन तक अकेली थी। फिर मैंने अपने घर पर बहाना बनाया और दो दिन के लिए उसके घर पर चला गया। फिर मैंने उसके घर के दरवाजे की डोर बेल बजाई, तो उसने दरवाजा खोला। तो मैंने झट से उसे हग किया और उसे दरवाजे से चिपका कर किस करने लगा। तो उसने कहा कि थोड़ा रूको तो सही, हमारे पास दो दिन है। फिर मैंने अपने आप पर कंट्रोल किया और फिर हमने साथ में बियर पी और फिर हमारी महाभारत शुरू हुई। फिर मैंने बोतल साईड में की और उसका चेहरा पकड़कर उसे फ्रेंच किस करने लगा। अब हम दोनों सोफे पर लेट गये थे, अब में उसे किस कर रहा था और अब हम एक दूसरे की जीभ से खेल रहे थे।

loading...

फिर मैंने उसकी गर्दन पर किस किया और उसके टॉप के ऊपर से ही उसके बूब्स प्रेस करने लगा। उसने नीचे ब्रा नहीं पहनी थी, अब उसके निपल्स टाईट हो गये थे। फिर मैंने उसका टॉप उतार दिया और उसके बूब्स पर टूट पड़ा। अब उसके बूब्स तो मानो मुझे जन्नत लग रहे थे मोटे-मोटे दूध से भरे हुए। फिर मैंने उसका लोवर उतार दिया और उसकी जाँघो पर किस करने लगा। अब मुझे उसकी चूत से मदहोश करने वाली खुशबू आ रही थी। फिर मैंने उसकी पेंटी के ऊपर से ही उसकी चूत पर किस किया, तो अब वो बस अपने हाथ मेरे सिर पर रखकर दबाए जा रही थी। फिर मैंने उसकी पेंटी भी उतार दी और उसकी चूत को चाटने लगा। अब उसकी चूत पूरी गीली हो चुकी थी और में बता नहीं सकता कि उसकी चूत चाटने में कितना स्वाद आ रहा था? फिर में अपनी एक उंगली से उसकी चूत को सहलाने लगा।

loading...
loading...

फिर मैंने एक तकिया उसकी कमर के नीचे रखा और अपने लंड पर और उसकी चूत पर सरसो का तेल लगाकर रब करने लगा। अब वो पूरी मदहोश हो चुकी थी और बार-बार अपनी कमर को उठा रही थी। फिर मैंने अपना लंड उसकी चूत पर रखा और उसको किस करते हुए एक ज़ोर का झटका मारा, तो उसकी चीख निकल पड़ी, लेकिन किस करने की वजह से वो चिल्ला नहीं पाई। अब मेरा लंड सिर्फ़ 2 इंच ही अंदर गया था, फिर में ऐसे ही थोड़ी देर तक रुका रहा और उसको किस करता रहा। फिर जब वो थोड़ी शांत हुई तो फिर मैंने दूसरा झटका मारा और अपना पूरा लंड उसके अंदर उतार दिया। अब उसकी आँखो से आँसू नहीं रुक रहे थे। फिर 5 मिनट के बाद मैंने अपना लंड अंदर बाहर करना शुरू किया और अब वो भी मेरा साथ देने लगी थी, अब उसके सोफे का कवर खून से भर चुका था।

फिर करीब 10 मिनट तक धीरे-धीरी चुदाई करने के बाद मैंने अपनी स्पीड बढाई, तो अब रूचि को भी मज़ा आने लगा था और अब वो भी उछल रही थी। अब उसके हॉल में छप-छप की आवाज़े गूँज रही थी और वो आहह उऊहह आहह कर रही थी और बोल रही थी और चोदो और ज़ोर से चोदो। अब में ये सब सुनकर और भी ज़्यादा जोश में आ गया और में उसे ज़ोर-ज़ोर से चोदने लगा। फिर करीब 15 मिनट तक ऐसे ही चुदाई करने के बाद हमने अपनी पोज़िशन बदली और फिर में उसको डॉगी स्टाइल में चोदने लगा। अब करीब 45 मिनट की चुदाई के बाद में झड़ने वाला था तो फिर मैंने अपना सारा स्पर्म उसके ऊपर ही निकाल दिया और उसके ऊपर ही लेट गया। अब रूचि तब तक 3 बार झड़ चुकी थी, फिर हम नहाने गये और फिर मैंने उसे पैन किल्लर दी क्योंकि उसकी चूत सूज गई थी और अब वो सही से चल भी नहीं पा रह थी। अब जब भी हमें कोई मौका मिलता तो हम दोनों खूब चुदाई करते है।

धन्यवाद …

Comments are closed.

error: Content is protected !!