मेरी सेक्सी बहन डॉली

0
loading...

प्रेषक : बॉबी …

हैल्लो दोस्तों, मेरा नाम बॉबी है, मेरी उम्र 21 साल है, मेरी छोटी बहन डॉली 19 साल की है, उसकी हाईट 5 फुट 6 इंच है और उसका फिगर साईज बहुत अच्छा है। उसका बूब्स साईज 32 और कमर 28 है। ये बात गर्मियों के दिन की है, में डॉली को पहले ऐसी नज़रो से नहीं देखता था। फिर एक बार मैंने उसे कपड़े चेंज करते समय देखा तो उसके बाद से मेरा किसी और लड़की को देखने का मन नहीं करता था। फिर करीब 1 महीने पहले हमारे यहाँ काफ़ी सारे मेहमान आए थे तो हम सभी लोग एक ही हॉल में सोए। तो में उस रात काफ़ी लेट घर आया, तब सभी लोग सो चुके थे तो में भी डॉली के पास सो गया। उस दिन डॉली ब्लेक कलर का स्कर्ट पहनकर सोई थी और पिंक कलर का शॉर्ट टॉप पहने थी।

अब मुझे काफ़ी देर तक नींद नहीं आई तो में उठा और अपने लेपटॉप पर सेक्सी स्टरी पढ़ने लगा तो अचानक से डॉली ने करवट बदली तो उसकी चादर उसकी बॉडी से हट गयी। फिर मुझे उसके गोरे गोरे पैर दिखने लगे तो मैंने थोड़ी हिम्म्त करके उसकी स्कर्ट को और ऊपर कर दिया और डॉली की जांघो को देखने लगा। अब मेरा मन उसकी जांघो को छूने कर रहा था, लेकिन डर भी लग रहा था। फिर मैंने भी सोने का नाटक किया और उसकी जांघो पर अपना हाथ रख दिया, उसकी जांघे बहुत ही सॉफ्ट थी। फिर मैंने धीरे से अपना एक हाथ थोड़ा और ऊपर किया तो मेरा हाथ उसकी पेंटी पर टच हो गया। अब मेरा लंड पूरी तरह से खड़ा हो गया था, क्योंकि ये सब करीब 15 मिनट से चल रहा था, तो अचानक से डॉली की नींद खुल गयी। अब मेरा हाथ उसके पेट पर था तो में सोने का नाटक करता रहा। तो वो उठी और शायद पानी पीकर वापस सो गयी।

फिर अगले दिन वो मुझे ध्यान से देखती रही और दोपहर में वो बेड पर लेटकर टी.वी देख रही थी, तो में उसकी साईड में लेट गया। अब हम लोग इधर उधर की कुछ बातें करने लगे थे तो बातों-बातों में मैंने कई बार उसके गाल छुए। फिर थोड़ी देर के बाद माँ और दूसरे मेहमान उस रूम में आ गये, तो हम  लोग ताश खेलने लगे। फिर शाम को 8 बजे पॉवर कट हो गयी तो में छत पर आकर लेट गया, क्योंकि नीचे घर में काफ़ी गर्मी थी। तो थोड़ी देर के बाद डॉली भी ऊपर आ गयी और मेरे पास बैठ गयी, वो मुझसे काफी फ्रेंक है। अब वो मुझे अपने फ्रेंड्स के बारे में बात कर रही थी, तो मैंने धीरे-धीरे उसका हाथ अपने हाथों में ले लिया और उसकी उँगलियों की रिंग से खेलता रहा। अब वो मुझे अपने कॉलेज की बातें बता रही थी, अब वो अपने हाथ को गले पर रखकर मेरी तरफ अपना फेस करके लेट गयी थी। तो में उसके बालों को, गाल को, कान को काफ़ी देर तक सहलाता रहा, तो उसने बोलना बंद कर दिया। फिर मुझे लगा कि उसे नींद आ गयी तो मैंने सहलाना बंद कर दिया।

फिर अचानक से उसने कहा कि सहलाते रहो बॉबी मुझे अच्छा लग रहा है, तो में सहलाता रहा। अब मुझमें थोड़ी सी हिम्मत भी आ गयी थी। फिर माँ ने हमें खाने के लिए बुला लिया तो तब तक पॉवर भी आ गयी थी। फिर हम लोग नीचे आ गये और खाना खाकर सोने की तैयारी करने लगे। अब आज में अपने रूम में ही सोने वाला था, तो डॉली भी मेहमानों की वजह से मेरे रूम में सोने आ गयी। मेरे रूम में डबल बेड था, डॉली कई बार उस बेड पर पहले भी सो चुकी थी, लेकिन पहले ऐसा कुछ भी नहीं था।  फिर उसने और मैंने सोने के लिए कपड़े चेंज किए और मैंने उस रात सिर्फ़ अपने शॉर्ट्स पहने और अंदर कुछ नहीं पहना और डॉली ने शोर्ट कुर्ता और सलवार पहन रखी थी। फिर मैंने बेड पर आते ही उसके पेट पर अपना एक हाथ रख दिया और कहने लगा कि मुझे नींद नहीं आ रही है और उसके पेट पर अपना हाथ फैरने लगा तो उसने कहा कि उसे तो नींद आ रही है और सुबह माँ पापा बाहर जा रहे है, तो उसे जल्दी भी उठना है। तो में फिर से उसके गले और कान को छूने लगा।

फिर वो बोली कि ये तुम्हें आज क्या हो गया है? तुम दोपहर से मेरे गालों को सहलाने की कोशिश कर रहे हो। तो मैंने उसके लिप्स को छुते हुए कहा कि डॉली तुम बहुत सुंदर हो, में नहीं चाहते हुए भी तुम्हारी तरफ आकर्षित हो रहा हूँ। डॉली मुझसे ज़्यादा समझदार थी तो वो बोली कि ये सब ग़लत है, तुम मेरे भाई हो, वो भी सगे। तो मैंने कहा कि लेकिन में क्या करूँ? तो वो मुझसे पूछने लगी कि कल रात मेरी जांघो पर अपना हाथ रखते समय तुम जगे थे ना। तो मैंने हाँ कह दिया, तो वो बोली कि नहीं कल बात करेंगे अभी सो जाओ। अब उसका कुर्ता उसके हिप्स से थोड़ा ऊपर हो गया था, तो मैंने उसके हिप्स पर अपना एक हाथ रख दिया, तो वो मुझे देखने लगी। तो मैंने अपना एक हाथ उसके कुर्ते में डाल दिया और डॉली की पीठ को सहलाने लगा। अब उसे भी मज़ा आ रहा था, लेकिन वो कुछ शो नहीं करना चाहती थी।

loading...

फिर मेरा एक हाथ उसकी ब्रा के हुक तक चला गया और वो मुझे लगातार देखती ही रही और अचानक से उठकर चली गयी, तो में थोड़ा सा डर गया और सो गया और वो दूसरे रूम में जाकर सो गयी। अब सुबह वो मुझसे अच्छे से बात नहीं कर रही थी और माँ पापा भी शाम को जाने का कहने लगे थे, तो में दिनभर अपन दोस्तों के साथ था। फिर शाम को 6 बजे मुझे डॉली का फोन आया और वो कहने लगी कि माँ पापा जा रहे है, घर आ जाओ, तो में घर गया, तो वो लोग निकल ही रहे थे। फिर उनके जाने के बाद मैंने डॉली को चाय बनाने के लिए कहा, तो वो चाय बनाने लगी। फिर मैंने उसे चाय बनाते समय सॉरी कहा, तो वो बोली कि बॉबी ये सब तुम्हारे दिमाग़ में कैसे आया? तो मैंने उसे सेक्स कहानियों के बारे में बताया और पढ़ाया भी। तो वो कहने लगी कि ऐसा करना गलत है, अब स्टोरी पढ़ते समय वो गर्म हो गयी थी। फिर मैंने डॉली को समझाया कि हम कुछ नहीं करेंगे बस एक दूसरे के साथ फोर प्ले करेंगे और मैंने उसके हाथ पर किस कर दिया। दोस्तों ये कहानी आप कामुकता डॉट कॉम पर पड़ रहे है।

अब उसे डर भी लग रहा था कि किसी को पता चल गया तो लोग क्या बोलेगे? तो मैंने उसे समझाया कि कैसे पता चलेगा? यहाँ पर हम दोनों ही तो है, तो वो मान गयी। अब मेरा तो सपना पूरा हो गया था, अब हम लोग एक दूसरे को गले लगाने ही वाले थे कि तभी डॉली की दोस्त आ गयी और वो उससे बात करने लगी। फिर हम लोगों ने उसकी दोस्त के साथ ही खाना खाया और फिर वो रात के करीब 9 बजे चली गयी। फिर डॉली ने मुझसे कहा कि वो चेंज करके आ रही है, तो में भी सिर्फ़ शॉर्ट्स पहनकर मैन गेट को लॉक करके रूम में टी.वी देखने लगा तो थोड़ी देर के बाद डॉली कमरे में आई। अब वो बहुत सेक्सी लग रही थी, उसने पिंक कलर का शॉर्ट कुर्ता और पिंक सलवार पहनी थी, जो कि बहुत पारदर्शी थी। अब मुझे उसकी ब्लेक कलर की ब्रा साफ-साफ दिख रही थी, अब में तो उसे देखकर ही अपना लंड सहलाने लगा था।

loading...

फिर वो मेरे पास आई और लेट गयी तो मैंने उसके लिप्स पर किस किया, तो वो शर्माकर मुझसे ज़ोर से गले लग गयी, तो मैंने उसका कुर्ता ऊपर कर दिया और उसकी कमर को सहलाने लगा। अब डॉली के हिप्स पर ब्लेक कलर की पेंटी बहुत सेक्सी लग रही थी। फिर मैंने डॉली से पूछा कि तुम हमेशा ब्लेक ब्रा और पेंटी पहनती हो क्या? तो वो मुस्कुराने लगी। फिर में उसके लिप्स को चूसने लगा और उसकी जीभ को काफ़ी देर तक चूसता रहा और फिर उसका कुर्ता उतार दिया। अब डॉली के गोरे जिस्म पर ब्लेक ब्रा मेरी जान निकाल रही थी। अब में उसके पेट पर किस करने लगा था, उसका पेट बिल्कुल फ्लेट था और बहुत गोरा था। फिर मैंने धीरे से उसके बूब्स पर अपना एक हाथ रखा और आहिस्ते-आहिस्ते सहलाने लगा तो उसने मेरा दूसरा हाथ भी अपने बूब्स पर रख दिया, तो में अपने दोनों हाथों से उसके बूब्स को दबाने लगा और उसकी गर्दन पर किस करने लगा था। फिर मैंने उसे अपने ऊपर लेटा लिया, तो अब उसकी चूत मेरे लंड के ऊपर थी।

loading...

अब वो मुझे लगातार स्मूच कर रही थी, तो मैंने अपने दोनो हाथों से उसके हिप्स को दबा दिया, उसकी सलवार में इलास्टिक थी। फिर मैंने अपने दोनों हाथ उसकी सलवार में डालकर उसके हिप्स को प्रेस किया, तो वो बोली कि आह बॉबी ऐसे नहीं करो। तो मैंने उसकी सलवार को उतार दिया और डॉली के ऊपर आकर उसके पूरे बदन पर किस करने लगा और जब उसकी जांघो के ऊपर पर किस किया। तो वो मछली की तरह तड़पने लगी और उसने मेरे शॉर्ट्स भी उतार दिए और वो मुझे भी किस करने लगी।  अब वो मेरे लंड को ध्यान से देखने लगी थी और कहा कि इतना बड़ा और अपने हाथों में लेकर सहलाने लगी। तो मैंने उसकी ब्रा का हुक खोल दिया, तो वो शर्म से अपने बूब्स को अपने हाथों से ढकने लगी।  तो मैंने उसके हाथ हटाकर उसके बूब्स को देखा तो वो काफ़ी बड़े-बड़े थे, उसके बूब्स उसकी ब्रा में छोटे- छोटे दिखते थे,  डॉली के निपल्स बिल्कुल पिंक थे। अब में उसके निपल्स को चूमने लगा था, तो वो हार्ड हो गये थे।

फिर मैंने उसके निपल्स को खूब चूसा और उसकी पेंटी को उतारने की कोशिश करने लगा। अब वो मना कर रही थी, लेकिन बाद में मान गयी, उसकी चूत बिल्कुल क्लीन शेव्ड थी और बहुत पिंक थी। डॉली का कलर बिल्कुल दूध जैसा था और मेरे किस करने पर उसका कलर बिल्कुल लाल हो गया था। फिर में उसकी चूत में अपनी जीभ डालकर हिलाने लगा तो वो करहाने लगी और मेरे बालों को ज़ोर से पकड़कर मेरा सिर अपनी चूत पर दबाने लगी थी। तो में काफ़ी देर तक कभी उसकी चूत पर, तो कभी उसकी जांघो पर किस करता रहा। फिर में उसके साथ लेटकर उसे अपने से चिपकाकर स्मूच करता रहा और अपनी एक उंगली को उसकी चूत में डाल दिया, उसकी चूत बहुत टाईट थी, लेकिन सीधे होने के कारण जल्दी ही मेरी उंगली उसकी चूत में अंदर चली गयी थी और अंदर बाहर करने पर डॉली सॅटिस्फाइड हो गयी थी। अब मेरी बारी थी, फिर उसने मेरे लंड पर किस किया और में उसके होंठो पर मेरे लंड को फैरने लगा। फिर अचानक से उसने मेरा लंड अपने मुँह में ले लिया और चूसने लगी। अब में भी संतुस्ट था। फिर उसके बाद हम दोनों ने शॉवर लिया और पूरी रात नंगे ही एक दूसरे के साथ छेड़छाड़ करते रहे ।।

धन्यवाद …

Comments are closed.

error: Content is protected !!