मम्मी चुदी हलवाईयो से

0
loading...
प्रेषक : प्रकाश 
हेल्लो दोस्तों, में प्रकाश मुंबई से यह मेरी सच्ची कहानी है. में मेरी मम्मी को बहुत अच्छी तरह से जानता हूँ. मेरी मम्मी की चूत मे बहुत खुजली होती है. अगर उन्हें रोज लंड ना मिले तो वो साली किसी से भी चुदाने को तैयार हो जाएगी।

 
मेरी मम्मी का नाम उषा हे. मस्त फिगर है 34-32-38. मैने कल ही देखा जब वो नाईटी पहन कर दूध लेने दूधवाले के पास गयी तो दूध वाला अपनी धोती से उसे लंड दिखा रहा था. और मम्मी भी ऐसे बैठी हुई थी जिससे उसके नाईटी से उसकी चिकनी चूत दिख रही थी।

 

अब में सीधे स्टोरी पर आता हूँ.. ये एक सच्ची स्टोरी है और यह उस टाइम की है जब में 14 साल का था और मेरी मम्मी 38 की थी. मेरे पापा उस टाइम काम के सिलसिले से आउट ऑफ स्टेशन थे. हमारे घर के बगल मे एक आंटी रहती है, उनके घर मे बस वो और उनके पति है. बच्चे इंजिनियरिंग कॉलेज मे पढ़ते थे. अंकल ज्यादातर काम मे बिज़ी रहते थे।
 
एक बार आंटी अपने घर पर एक पूजा रखी. हमारे बगल मे घर होने के कारण उन लोगो से हमारी काफ़ी बनती हे. हमारे घर की छत जॉइंट थी. पूजा शाम को थी तो तैयारी जोरो से थी. आंटी ने मिठाई यानी प्रसाद बनवाने के लिय हलवाई बुलाये थे. दो हलवाई आए थे वो बहुत हट्टे-खट्टे थे. वो लड्डू बनाने लगे. थोड़ी देर मे आंटी आई और मेरी मम्मी से बोली की उषा तुम थोड़े देर के लिए मेरे घर चली जाओ और अच्छे से प्रसाद बनवा देना में पूजा का समान लेकर आती हूँ।
तो मम्मी बोली की कोई बात नही पर मम्मी नहाकर जाना चाहती थी, तो आंटी बोली की गर्मी इतनी ज्यादा है जल्दी चली जाओ लड्डू बनवाकर जब आना होगा तब नहा लेना. मम्मी बोली ठीक है. मम्मी उस दिन घर पर नाईटी पहनी थी जो की आगे से पूरा खुला था. उसमे बटन लगे हुए थे. मम्मी अक्सर पेंटी नही पहनती है.वो पिंक कलर की ब्रा पहनी हुई थी. फिर आंटी के जाने के बाद मम्मी आंटी के घर चली गयी।
में छत पर पतंग उड़ा रहा था और प्रसाद उनके आँगन मे बन रहा था जोकि छत वाले ग्रिल से साफ दिख रहा था. ग्रिल पर बहुत सारे सामान रखे होने से नीचे वाले को उपर कुछ पता नही  चल पा रहा था. जब मम्मी हलवाईयो के पास पहुची तो वो मम्मी को देखकर एकदम मस्त हो गये. वो दोनो 35 से अधिक उम्र के लग रहे थे. फिर मम्मी वहा पहुच कर चेयर पर बैठ गयी फिर कुछ बाते करने लगी. फिर जब लड्डू बाँधने का टाइम आया तो मम्मी ज़मीन पर बैठ गयी. मम्मी कुछ इस तरह उनके सामने बैठी थी की उनकी चिकनी चूत की हल्की हल्की झलक उन दोनो हलवाईयो को मिल रही थी।
 
फिर थोड़े देर बाद मम्मी किचन मे किसी काम से गयी तो वो दोनो हलवाई अपने मे बात करने लगे और मम्मी को चोदने की योजना करने लगे. मम्मी जब वापस आई तो वो दोनो मम्मी के बदन को घूरने लगे. फिर एक हलवाई उठ कर बाहर टॉयलेट करने गया और वो उधर से एक टिड्डा (कीड़ा) पकड़ कर लेता आया और मैं गेट भी बंद कर दिया।
फिर वो आकर बैठ गया लेकिन हाथ मे वो टिड्डे को लिए हुए था फिर वो मम्मी से बोला की हिलना नही आपके पैर के पास कुछ कीड़ा दिख रहा है मम्मी तो डर गयी फिर वो पास आकर टिड्डे को मम्मी के नाईटी मे डाल दिया. अब वो टिड्डा मम्मी के नाईटी के अंदर चलने लगा मम्मी की हालत खराब होने लगी मम्मी की तो चेहरा देखते बन रहा था. फिर मम्मी नाईटी   उठा कर अंदर देखने लगी. फिर एक हलवाई ने बोला की अच्छे से नाईटी निकाल कर झाड़ लीजिए नही तो वो काट लेगा…
फिर एक हलवाई ने मम्मी की नाईटी पकड़ के पूरा उपर तक उठा दिया फिर भी कुछ नई दिखा तो वो नाईटी उतार दिया और टिड्डे को नाईटी के उपर से पकड़ के मम्मी से बोला लगता है कीड़ा है…और इधर मम्मी केवल ब्रा मे खड़ी थी. मम्मी शर्म से लाल पीली हो रही थी. फिर दूसरा हलवाई आकर मम्मी को पीछे से पकड़ लिया, मम्मी छूटने का नाटक करने लगी. इतने मे दूसरा हलवाई मम्मी की ब्रा का हुक भी खोल दिया फिर क्या मम्मी की चुचिया दिखने लगी।  
मम्मी दूर भागने लगी लेकिन वो सब इतने हट्टे खट्टे थे की उसकी एक ना चली फिर वो लोगो ने मम्मी को ज़मीन पर लिटा दिया. मम्मी के आखो मे आंसू थे वो चिल्ला भी रही थी पर  उसके मुहं को एक हलवाई ने हाथ से पकड़े हुए था. मम्मी को समझ मे नही आ रहा था की इतने मे दोनो हलवाई अपनी लुंगी खोल दि और उनका 8″ ओर 10″ का लंड देख कर मम्मी की हालत खराब हो गयी।
फिर एक ने अपना लंड मम्मी के मुहं मे डाल दिया. मम्मी चूसने लगी लेकिन लंड ज्यादा बड़ा होने के कारण आधा ही चूस पा रही थी. इतने मे दूसरा हलवाई मम्मी के चूत से अपना लंड सटा कर एक धक्का मारा लेकिन लंड अंदर नही गया फिर वो वहा रखे हुए डब्बे मे से घी निकाल कर मम्मी की चूत मे लगा दिया. फिर एक ज़ोर का झटका मारा उसका लंड जड़ तक चूत मे समा गया. मम्मी की चीख निकल गयी लेकिन इतने मे दूसरा हलवाई लंड को उसके मुहं की और अंदर डाल दिया. काफ़ी देर चोदने के बाद हलवाई अंदर ही अपना वीर्य गिरा दिया. जब वो लंड को बाहर निकाला तो मम्मी की चूत बहुत बड़ी सी दिख रही थी जिसमे से लगभग एक कटोरी उसका वीर्य बाहर आया होगा. इसके बाद दूसरा हलवाई मम्मी की चूत को मम्मी की नाईटी से साफ किया फिर अपने 10″ के लंड को उसके चूत पर रख के ज़ोर का धक्का मारा जिससे लंड पूरा अंदर चला गया मम्मी ज़ोर से चीखी।
फिर हलवाई ने 20 मिनट तक चोदा तब तक मम्मी 4-5 बार झड़ चुकी थी. उसके बाद उस हलवाई ने भी मम्मी के चूत के अंदर अपना वीर्य गिरा दिया. और जब इसने लंड वापस निकाला तो मम्मी की चूत को देख कर ऐसा लगा जैसे वो गधे के लंड से चुदी हो. उसके पूरे जांघ पर उसका वीर्य गिरा था. इतने मे किसी की गेट खटखटाने की आवाज़ आई. फिर मम्मी जल्दी से नाईटी डाल ली और गेट की तरफ भागी, इतने मे हलवाई भी प्रसाद बनाने लगे. जब मम्मी ने गेट खोला तो सामने आंटी थी आंटी बोली की क्या बात है तुम इतनी पसीने पसीने क्यू हो तो मम्मी बोली की आग के सामने बैठने से ऐसे हुई है. लेकिन आंटी समझ गयी थी क्यूकी मम्मी जल्दबाज़ी मे हलवाई का वीर्य पोछना भूल गयी थी जो की पूरे घर मे टपका हुआ था. और मम्मी के पैर से होकर उसके स्लिपर मे लगा हुआ था।
फिर मम्मी बोली की अब में जा रही हूँ और वो अपने घर आ गयी. तब में भी अपने छत से नीचे आ गया. मम्मी सीधे बाथरूम मे गयी और नहाने लगी. उसका स्लिपर बाहर पड़ा था जिसमे उसका वीर्य लगा हुआ था. मम्मी उस दिन बहुत खुश दिख रही थी।
तो कैसी लगी आपको मेरी यह स्टोरी जल्द ही में अपनी अगली स्टोरी पोस्ट करूँगा तब तक के लिए अलविदा….
 
धन्यवाद …
loading...
इस कहानी को Whatsapp और Facebook पर शेयर करें ...

Comments are closed.