मम्मी ने सेक्स की भूख मिटाई

0
Loading...

प्रेषक : करण …

हैल्लो दोस्तों, मेरा नाम करण है, में कामुकता डॉट कॉम पर हर रोज़ स्टोरी पढ़ता हूँ तो मैंने सोचा कि में भी अपना पर्सनल अनुभव आप लोगों के साथ शेयर करूँ। मेरे घर पर में, मेरी मम्मी और पापा रहते है। दोस्तों में बचपन से ही अपनी मम्मी से कोई बात नहीं छुपाता था, में उन्हें छोटी सी छोटी बात बताता था और अगर मेरे मन में कोई भी बात होती थी, तो में अपनी मम्मी से ही बात करता था। में अपने पापा से बहुत डरता था, मुझे 8 साल की उम्र तक तो मम्मी ही नहलाती थी, में बचपन में मेरे लंड को लाडो कहता था। फिर एक दिन हमारे घर में कुछ मेहमान आए थे, उस टाईम मेरी उम्र 12 साल की थी, उनकी एक छोटी सी बच्ची थी, वो लगभग 2 साल की थी। तो जब उसकी मम्मी उसका डायपर बदल रही थी, तो तब मुझे एक छोटा सा छेद दिखा जिसे देखकर में हैरान हो गया, क्योंकि मुझे तब तक सेक्स के बारे में कुछ नहीं पता था, यहाँ तक कि ये भी नहीं पता था कि लड़कियों के पास चूत होती है।

फिर अगले दिन जब हमारे मेहमान चले गये तो मैंने मम्मी से पूछा कि मम्मी जो हमारे घर कल मेहमान आए थे, उनकी एक बच्ची थी, उसके लाडो क्यों नहीं था? तो मम्मी मुझे गुस्से से बोली कि लड़कियों के लाडो नहीं होता, तो मैंने फिर से पूछा कि क्यों? तो मम्मी ने जवाब दिया कि बस नहीं होती, जब तू बड़ा होगा तो तुझे सब पता चल जाएगा। अब कई बार जब टी.वी पर विस्पर की एड आती थी, तो तब भी में मम्मी से पूछ लेता था कि मम्मी ये क्या होता है? तो मम्मी ने कहा कि जब तू बड़ा होगा तो तू सब समझ जाएगा। अब में ये नहीं समझता था कि मम्मी ऐसा क्यों कहती है?

फिर जब में 15 साल का हुआ तो तब मेरा लंड खड़ा होने लगा और में ये नहीं समझता था कि ऐसा क्यों होता है? क्योंकि में मम्मी से बहुत ही फ्रेंक था। तो मैंने एक दिन मम्मी से पूछ ही लिया कि  मम्मी मेरी लाडो कभी-कभी बड़ी हो जाती है, ऐसा क्यों? तो मम्मी ने कहा कि ये तो हेल्थी आदमी की निशानी होती है, तो मैंने कहा कि ठीक है। फिर जब में 18 साल का हुआ, तो मेरे दोस्तों ने मुझे सेक्स के बारे में बताया जिसे सुनकर मेरा लंड पूरी तरह से खड़ा हो जाता था, तो मैंने उस दिन घर आकर मम्मी को भी सब बता दिया। फिर मैंने मम्मी से कहा कि मम्मी आज मेरे दोस्तों ने मुझे कुछ बताया है, तो मम्मी ने पूछा कि क्या बेटा? तो मैंने कहा कि मम्मी उन्होंने मुझसे कहा कि बच्चे पैदा करने के लिए सेक्षुयल इंटरकोर्स करना पड़ता है, उसके लिए लाडो को लड़कियों की चूत में डालना पड़ता है और हमारी लाडो से रस निकलता है जिससे बच्चा पैदा होता है। तो मम्मी ने कहा कि हाँ बेटा ये सही है, मैंने कहा था ना जब तू बड़ा होगा तो तुझे सब कुछ पता चल जाएगा, लेकिन बेटा कभी ऐसी भाषा यूज़ मत करना।

तुम जिसे चूत कह रहे थे, उसे वेजाइना कहते है और जिसे तुम लाडो कहते हो, उसे अब से पेनिस कहना और जिसे तुम रस कह रहे थे ना उसे स्पर्म कहते है, ओके बेटे? तो मैंने कहा कि ओके मम्मी, लेकिन मम्मी ये सब सुनकर मेरी पेनिस बहुत बड़ी हो गयी है और मेरा मन उस पर हाथ फैरने को कर रहा है।   तो मम्मी ने कहा कि बेटे ये सब नॉर्मल होता है, लेकिन ऐसे किसी के सामने मत करना अकेले में करना और अगर इस बारे में किसी तरह का डाउट हो तो मुझसे पूछ लेना शरमाना मत। तो मैंने कहा कि ओके मम्मी और फिर में चला गया। अब उस दिन रात को में यही सोच रहा था और सपने में भी मेरे मन में ऐसे ही ख्याल आ रहे थे। फिर जब में सुबह उठा तो मैंने देखा कि मेरे अंडरवेयर में कुछ वाईट कलर का गिरा हुआ था, मेरा नाईट फैल हो गया था, लेकिन तब में ये समझ नहीं पाया था।

फिर मैंने मम्मी को दिखाया, तो उन्होंने कहा कि ये तो स्पर्म है तू रात को सेक्स के बारे में सोच रहा होगा तभी तेरा नाईट फैल हो गया है और फिर उन्होंने मेरे सिर पर अपना हाथ फैरते हुए कहा कि बेटा अब तू बड़ा हो गया है, तो यह सुनकर में बहुत खुश हुआ। फिर जब में 12वीं क्लास में आया, तो तब हमें बायोलॉजी में रिप्रोडक्षन क चैप्टर था, तो 12 वीं तक तो मम्मी ही मुझे पढ़ाती थी और फिर उसके बाद मेरी पढ़ाई हाई लेवल की होने के कारण उन्होंने मुझे कोचिंग में रख दिया था। मुझे 12वीं क्लास में रिप्रोडक्षन का चैप्टर मम्मी ने ही पढ़ाया था और मुझे सेक्स के बारे में बिल्कुल क्लियर कर दिया था।  अब जब मम्मी मुझे रिप्रोडक्षन पढ़ाती थी, तो तब मेरा लंड हमेशा खड़ा रहता था। फिर उन्होंने मुझे समझाया कि बेटा कभी भी गंदी भाषा का यूज़ मत करना। हमेशा यही शब्दों का यूज़ करना जैसे बुक में लिखे है, तो मैंने कहा कि ओके मम्मी। दोस्तों ये कहानी आप कामुकता डॉट कॉम पर पड़ रहे है।

Loading...

फिर एक दिन में मेरे दोस्त के घर गया, तो वहाँ उसने मुझे ब्लू फिल्म दिखाई जिसे देखकर मुझे बहुत मज़ा आया। अब मेरे दोस्त ने मुझे ये भी बताया था कि जब भी ऐसी चीजें देखकर तेरा लंड खड़ा हो जाए तो मुठ मार लिया कर और फिर उसने मुझे मुठ मारनी सिखाई और मुझसे कहा कि बहुत ज़्यादा मत मारना 3-4 दिन में एक बार मारना। फिर मैंने घर आकर मुठ मारी तो मुझे बहुत मज़ा आया।  फिर मैंने ये सारी बात मम्मी को भी बताई और कहा कि मम्मी मेरे दोस्त ने आज मुझे एक फिल्म दिखाई, जिसमे सेक्षुयल इंटरकोर्स हो रहा था और मुझे मूठ मारनी भी सिखाई और फिर जब मैंने मुठ मारी तो मुझे बहुत मज़ा आया। तो मम्मी ने कहा कि बेटा जिसे तुम मुठ मारना कहते होना, उसे मास्टरबेट कहते है, तुम गंदी भाषा का यूज़ मत करो और ऐसी फिल्म ज़्यादा मत देखना कभी-कभी देखना और मास्टरबेशन कर लेना, तो मैंने कहा कि ओके मम्मी। फिर उसके बाद से मेरा सेक्स करने का भी बहुत मन करने लगा, अब मुझे बस चूत चाहिए थी तो मैंने एक दिन मम्मी से कहा कि मम्मी मुझे सेक्षुयल इंटरकोर्स करने का बहुत मन करता है। तो मम्मी ने कहा कि बेटा मन तो सभी का करता है, लेकिन कंट्रोल करो ये सब शादी के बाद करते है, अभी सिर्फ़ मास्टरबेशन करो।

फिर मैंने मम्मी से पूछा कि क्या आपका भी शादी से पहले करने का मन करता था? तो मम्मी गुस्से से बोली कि चुपकर, तो में डर गया और चला गया। फिर उसके एक हफ्ते के बाद पापा 1 महीने के टूर पर लंदन चले गये। अब एक दिन मम्मी बहुत ही ज़्यादा उदास थी और अकेले में रो रही थी, तो तब मैंने उनसे जाकर पूछा कि क्या बात है मम्मी? तो तब उन्होंने कहा कि कुछ नहीं। तो मैंने कहा कि मम्मी प्लीज बताओ ना? तो उन्होंने कहा कि बेटा बस तेरे पापा की याद आ रही है। तो मैंने कहा कि मम्मी अभी तो आपने उनसे फोन पर बात की है, आप जरूर मुझसे कुछ छुपा रही हो, प्लीज बताओ ना आपको मेरी कसम। तो मम्मी बोली कि बेटा अब में तुझे क्या बताऊं? बेटा मुझे तेरे पापा के साथ सेक्स करने का दिल कर रहा है। अब ये सुनकर मेरा लंड एकदम से खड़ा हो गया था। फिर मैंने मम्मी से कहा कि मुझे भी सेक्स करने का दिल करता है, क्या मम्मी हम दोनों कर ले? तो ये सुनकर मम्मी बहुत गुस्सा हुई और मुझे थप्पड़ मार दिया। तो मैंने कहा कि इसमें गलत क्या है? हम दोनों को सेक्स की जरूरत है और हम ये कर सकते है। तो मम्मी ने गुस्से में कहा कि करण ये गलत है, में तेरी मम्मी हूँ और तू मेरा बेटा है, तू आज कैसी बातें कर रहा है? चल जा वरना मुझसे बुरा कोई नहीं होगा और फिर उसके बाद हमने पूरा दिन कोई बात नहीं की।

फिर उसी दिन रात को जब में सो रहा था तो मुझे ऐसा लगा कि मेरे लंड पर कोई हाथ फैर रहा है तो मेरी एकदम से नींद खुल गयी और मैंने लाईट ऑन कर दी, तो मैंने देखा कि मम्मी मेरे लंड पर अपना हाथ फैर रही थी। फिर मैंने कहा कि मम्मी ये आप क्या कर रहे हो? तो मम्मी ने कहा कि तुम बिल्कुल ठीक कह रहे थे बेटा। अब मम्मी सिसकियाँ भर रही थी और फिर उन्होंने मेरा पजामा और चड्डी उतार दी और कहने लगी कि करण तुम्हारा तो कितना बड़ा है? तेरा तो तेरे पापा से भी काफ़ी बड़ा है वाउ,  तो ये सुनकर मुझे बहुत मज़ा आया। फिर उसके बाद मम्मी मेरा लंड चूसने लगी, तो मैंने कहा कि मम्म्ममममय्ययययययययययी चूस लो अच्छी तरह। अब मुझे उस वक़्त ऐसा मज़ा आ रहा था कि में  बता नहीं सकता और फिर 5 मिनट के बाद ही में झड़ गया और सारी मुठ उनके मुँह में गिरा दी। तो मम्मी कहने लगी कि बस तेरे लंड में इतना ही दम है? तो मैंने कहा कि पहली बार किया है तो जल्दी ही झड़ेगा ना, कोई बात नहीं अभी दुबारा ताव में आ जाएगा। अब मम्मी भी मदहोशी में गंदी भाषा यूज़ कर रही थी और में भी गंदी भाषा यूज़ कर रहा था। फिर में खड़ा हो गया और फिर मैंने मम्मी की नाइटी उतार दी, उन्होंने ब्रा नहीं पहनी थी, वाह क्या मस्त बड़े-बड़े बूब्स थे उनके? अब में उन्हें देखते ही चूसने लग गया था। अब मम्मी ज़ोर-ज़ोर से सिसकियाँ ले रही थी। फिर मैंने कहा कि मम्मी आप बचपन में तो खुद मुझे दूध के लिए ये चूसाती थी और अब जब में बड़ा हो गया हूँ, तो मना कर रही हो, अब तो में इन्हें नहीं छोड़ूँगा। तो मम्मी ने कहा कि चूऊऊऊसस्स्स्सस्स ले बेटा, चूस्स्ससस्स ले अपनी माँ के बूब्स को।

फिर में उनकी चूत चाटने लगा और जैसे ही मैंने अपनी जीभ उनकी चूत पर रखी। तो वो एकदम से उछल पड़ी और कहने लगी कि करण ये क्या कर रहा है? तेरे पापा ने ये तो ऐसा कभी नहीं किया अम्म्म्ममममम, क्या मजा आ रहा है? कर बेटा और कर  और फिर में उनकी चूत चाटने लगा। अब वो पूरी तरह मस्ती में थी और उन्होंने चद्दर को इतनी ज़ोर से पकड़ रखा था कि वो फट ही गयी थी। फिर में 15 मिनट तक तो यही करता रहा। अब उनको इतना मज़ा आ रहा था कि उनकी चूत झटके मारने लगी और पानी छोड़ने लगी थी। फिर उन्होंने कहा कि थैंक्स बेटा मुझे इतना मज़ा कभी नहीं आया, चल अब मुझे मत तड़पा मेरी इस चूत में अपना लंड डाल दे। फिर थोड़ी देर के बाद मैंने अपना लंड उसकी चूत में डाला और धक्के मारने लगा। अब मम्मी चीख रही थी करण कितना मस्त लंड है तेरा? आआआहह क्या मस्त मजा दे रहा है? तो में भी जोश में बोलने लगा लो मम्मी लो और फिर 20 मिनट के बाद मेरा लंड फिर से झड़ गया और मेरी मम्मी मेरी सारी मूठ पी गयी। फिर मेरी मम्मी कहने लगी कि में कभी भी इतनी सॅटिस्फाइड नहीं हुई थैंक्स करण, अब में तेरे साथ ही सेक्स करूँगी और ये कहकर उन्होंने मुझे स्मूच की और मेरे लंड पर भी किस की और मेरे लंड की तरफ देखकर कहने लगी कि आई लव यू माई हीरो। अब हमारा जब भी सेक्स करने का मन करता है, तो हम दोनों सेक्स का खूब मज़ा लेते है और खूब इन्जॉय करते है ।।

Loading...

धन्यवाद …

Comments are closed.

error: Content is protected !!