पड़ोसन भाभी की चूत का अमृत

0
Loading...

प्रेषक : विशाल …

हैल्लो दोस्तों, मेरा नाम विशाल है और में 25 साल का हूँ। मेरा लंड 9 इंच लंबा है और में दिल्ली में  रहता हूँ। ये एक सच्ची घटना है जो कुछ साल पहले हुई थी। में छुट्टियों में अपने मामा के यहाँ गया हुआ था। उनके पड़ोस में हमारा काफ़ी आना जाना है, वहाँ एक भाभी रहती है जिसका नाम पल्लवी है,  तब उसकी उम्र 30 साल के आस पास थी, उसका फिगर क्या ग़ज़ब का है? उसका फिगर साईज 34-24-36 है और उसकी आँखे क्या बताऊँ? पहले मेरी उनकी तरफ कोई गंदी भावना नहीं थी। फिर एक दिन में उनके पास बैठा हुआ था और बातें कर रहा था, जब घर पर कोई भी नहीं था, सब बाहर गये हुए थे।

मेरे पास एक जोक्स की डायरी थी, जिसमें वेज और नॉनवेज दोनों तरह के जोक्स थे, में उन्हें वेज  जोक्स पढ़ा रहा था और जिस पेज पर नॉनवेज जोक्स थे, उस पेज को स्किप कर रहा था। अब में कई पेजों को स्किप कर चुका था, तो इतने में भाभी ने पूछा कि आप यह पेज क्यों छोड़ रहे हो, मुझे यह  भी पढ़ाओ। तो  मैंने कहा कि नहीं भाभी इनमें गंदे वाले जोक्स है। अब मेरी तो साँस ही रुक गयी जब उन्होंने कहा कि मुझे पढ़ने है। तो मैंने कहा कि जैसी आपकी मर्ज़ी, तब मेरा ख्याल उनकी तरफ बदलने लगा था। फिर उन्होंने कुछ जोक्स पढ़े और उन्हें बहुत अच्छे लगे। फिर उन्होंने मुझसे कहा कि अगर वो मुझसे कुछ पूछना चाहे तो कोई दिक्कत तो नहीं है और यह कह कर वो उठकर चल दी। तो में भी उनके पीछे-पीछे चल दिया, वो क्या मटक-मटक कर चल रही थी? फिर मैंने कहा कि जो भी पूछना चाहो पूछ सकती हो। फिर वो किचन में जाकर रुक गयी और अपना काम करने लगी। अब में वही दरवाजे के पास अपना हाथ रखकर खड़ा हो गया था।

फिर उन्होंने पूछा कि शादी के बाद भी अगर कोई अच्छा लगे तो ग़लत बात है क्या? तो मैंने कहा कि नहीं ऐसा तो नहीं है। फिर उन्होंने बताया कि उन्हें उनकी बहन का पति बहुत अच्छा लगता है। फिर उसके बाद वो कुछ पूछने के लिए मेरे पास आकर खड़ी हो गयी। अब मुझे उनकी चूत साड़ी के ऊपर से गर्म महसूस हो रही थी, लेकिन मैंने अपना हाथ नहीं हटाया। फिर वो मेरे पास आकर पूछने लगी कि सेक्स को हिन्दी में क्या कहते है? तो  मैंने कहा कि चुदाई, जैसे मान लो में आपके साथ सेक्स करूँ तो में आपको चोदूंगा, तो वो हँसने लगी। तब तक उनकी सास वापस आ गयी थी, तो उस दिन में वहाँ से चला गया। अब उस रात में सो भी नहीं सका था अब में बस इस मौके की तलाश में था कि कब उसे चोद सकूँ? फिर अगले दिन में उसके घर गया, तो वो अपने कमरे में थी। फिर में वहीं जाकर उसके पास बैठ गया। अब गर्मी की वजह से वो ज़मीन पर लेटी हुई थी, तो में भी वही बैठ गया।

फिर मैंने उससे पूछा कि आपको सेक्स करने में आगे से ज़्यादा मज़ा आता है या पीछे से। तो उसने कहा कि आगे से ज्यादा मजा आता है, लेकिन उसके पति को उसकी गांड मारने में ज़्यादा मज़ा आता है। फिर वो कहने लगी कि उसने अपने पति के साथ बाथरूम में भी सेक्स किया है। फिर उसने मेरी उंगली अपने मुँह में लेकर चूसना शुरु कर दिया। अब मेरा लंड सातवें आसमान पर चढ़ गया था, लेकिन उसकी सास घर पर थी, तो में कुछ कर नहीं पाया बस उसके पूरे शरीर के ऊपर अपना हाथ फैरता रहा और वो बस मेरी उंगली चूसती रही। में जानता था कि उसकी चूत गीली हो गयी है, लेकिन किसी के आने के डर से में कुछ कर नहीं पा रहा था। फिर उस दिन में सिर्फ़ उसके शरीर को निहारता रहा, फिर अगले दिन में शॉर्ट्स पहनकर उसके पास गया, तो वो अपने कमरे में ही थी। दोस्तों ये कहानी आप कामुकता डॉट कॉम पर पड़ रहे है।

Loading...

फिर मैंने उससे कहा कि कल रात 3-4 बार तुम्हें सोचकर मुठ मारनी पड़ी तो वो हँसने लगी। फिर उसने मेरा हाथ पकड़ा और अपने माथे पर लगाया और फिर उसके बाद वो मेरे हाथ को चूमने लगी। फिर उसके बाद उन्होंने मेरा हाथ अपनी गर्दन पर रख दिया और फिर थोड़ी देर के बाद उन्होंने मेरा हाथ उठाकर अपने बूब्स पर रख दिया। अब  मुझे तो जैसे खुशियों की बाहर मिल गयी हो, फिर मैंने उसके बूब्स को दबाना शुरू किया। अब वो मुझे बहुत सेक्सी अंदाज में देख रही थी। फिर उसने पूछा कि मज़ा आया, तो मैंने कहा कि हाँ बहुत मजा आया। अब मुझे तो जन्नत ही मिल गयी थी, फिर मैंने अपने दोनों हाथों से उसके बूब्स को निचोड़ दिया। अब उसे थोड़ा दर्द हुआ, लेकिन उसे मज़ा भी बहुत आ रहा था और मुझे भी बहुत मजा आ रहा था।

फिर थोड़ी देर के बाद वो वापस से मेरी उंगली चूसने लगी, आज में सोचकर गया था कि उसके हाथ में  अपना लंड तो देना ही है इसलिए में शॉर्ट्स पहनकर गया था। फिर मैंने अपना लंड साईड से बाहर  निकाल दिया। अब उसकी नज़र पड़ते ही उसने मेरी उंगली छोड़ दी और मेरे लंड को पकड़ लिया। अब  मेरा लंड देखकर तो वो हैरान हो गयी थी और  कहने लगी कि इतना लंबा लंड भी होता है क्या? मेरे पति का तो बहुत छोटा है। तो मैंने कहा कि इस बात का इनाम तो दो, मेरे लंड पर एक किस ही कर दो। तो उसने कहा कि कोई आ जाएगा, फिर मैंने कहा कि सब सो रहे है कोई नहीं आ रहा। तो उसने झट से मेरा लंड पूरा अपने मुँह में ले लिया और लॉलीपोप की तरह चूसने लगी, जैसे वो बहुत दिनों से भूखी हो। अब में उसका सिर पकड़कर आगे पीछे कर रहा था और बाहर से उसके बूब्स भी दबा रहा था।  अब वो बहुत ज़्यादा गर्म हो चुकी थी, फिर 10-15 मिनट के बाद में उसके मुँह में ही झड़ गया और उसने मेरा पूरा पानी पी लिया। फिर उसके बाद उसने अपनी दोनों टांगे खोली और मुझे अपनी चूत चाटने को कहा। तो फिर मैंने उसकी साड़ी ऊपर की और उसकी पेंटी के ऊपर से ही उसकी चूत पर अपने होंठो से काट लिया, अब उसकी पेंटी पूरी गीली हो गयी थी, अब वो छटपटाने लगी थी।

फिर मैंने उसकी पेंटी निकाली और उसकी चूत के अंदर अपनी दो उंगली डाली और उसकी चूत का अमृत चखा, वाह क्या टेस्ट था? फिर उसके बाद मैंने उसकी चूत पर अपनी जीभ रखी और चाटने लगा। अब वो आवाज़े निकाल रही थी, जिससे मुझे और मज़ा आ रहा था। फिर मैंने अपनी जीभ उसकी चूत में डाली और चाटने लगा। अब वो आ आ ओह ओह की आवाज़े निकाले जा रही थी और अपने बूब्स को दबा रही थी। फिर 10 मिनट के बाद वो झड़ गयी और मैंने उसका पूरा अमृत पी लिया। अब उसकी आँखो से पानी बह रहा था। फिर जैसे ही मैंने ख़त्म किया तो उसने मुझे पकड़कर स्मूच कर लिया और थैंक यू बोला। फिर उसने कहा कि उसे आज तक इतना मज़ा कभी नहीं आया है।

फिर उसके बाद हमने 10 मिनट तक स्मूच की। फिर मैंने उसके कान के पास किसिंग शुरू की, तो अब वो मेरी गर्म सांसो की वजह से और भी गर्म हो गयी थी। फिर मैंने उसकी गर्दन पर किस किया और  उसके बाद उसका ब्लाउज खोल दिया  और उसकी ब्रा भी उतार दी। अब में बच्चे की तरह उसके बूब्स चूस रहा था और अपने दूसरे हाथ से उसका दूसरा बूब्स दबा रहा था। फिर वो कहने लगी कि विशाल अब नहीं रुका जा रहा है प्लीज़ मुझे चोद दो। तो मैंने कहा कि जानेमन अभी तो शुरू किया है, थोड़ा रूको। अब में उसकी टांगो के बीच में था और मेरा लंड कपड़ो के ऊपर से ही उसकी चूत को टच कर रहा था। फिर मैंने बिना कपड़े उतारे धक्के लगाने शुरू किए, तो अब वो नीचे से धक्के मार रही थी। फिर इतने में हमने किसी के आने की आवाज़ सुनी। फिर हमने अपने-अपने कपड़े पहने और अब सब नोर्मल था ।।

Loading...

धन्यवाद …

Comments are closed.

error: Content is protected !!