प्रेषक : गुमनाम हेल्लो दोस्तों,  इस वेबसाईट पर आप सभी की स्टोरी कई सालो से पढ़ने के बाद आज मैं भी अपनी एक सच्ची कहानी लिखने की हिम्मत कर पाया हूँ,  मैने अपने घर की कहानी को आप लोगो तक पहुँचाने के बारे कभी नही सोचा था. इस वेबसाईट से मेरी कई लोगो से दोस्ती भी हो गयी है उन्होने…

प्रेषक : गुमनाम मेरी चचेरी भाभी का नाम सुनीता है.  उनकी उम्र 29 साल है, वो गोरी, बड़ी चूची और मोटी गांड वाली औरत हैं जिसकी हाइट करीब 5.4 है और हमेशा आँखों में काजल होठों पर ब्राउन लिपस्टिक लगाए रहती हैं. बिल्कुल ऐसा लगता है जैसे अभी अभी शादी हुई है. जबकि उनके दो बच्चे हैं एक 7साल का…

प्रेषक : आशा “भाई को चोदना सिखाया 1” से आगे की कहानी . . . में बोली, “मेरी कमर में थोड़ा दर्द हो रहा है ज़रा बाम लगा दे..”  यह बेड पर लेटने का अच्छा बहाना था और में बिस्तर पर पेट के बल लेट गयी. मैनें पेटिकोट थोडा ढीला बाँधा था इसलिए लेटते ही वो नीचे खिसक गया और…

प्रेषक : आशा हेल्लो…. दोस्तों। मेरा नाम आशा है और यह मेंरी पहली स्टोरी है. मेरा छोटा भाई दसवीं मैं पढ़ता है. वो गोरा और करीब मेंरे ही बराबर लंबा भी है. मुझे भईया के गुलाबी होंठ बहुत प्यारे लगते हैं. दिल करता है की बस चबा दूँ. पापा आर्मी में है और माँ गवर्नमेंट जॉब मैं. माँ जब जॉब…

प्रेषक : राजकुमार हाय, फ्रेंड्स मेरा नाम राजकुमार है. दरसल में आन्द्रा का रहने वाला हूँ मगर जॉब के वजह से यहाँ पर हूँ. में भी एक इस वैबसाइट का रीडर हूँ. कहानियों को पढ़ कर मुझे लगा की मेरी भी एक घटना जो की आप सब के सामने पेश करूं इसलिए यह कहानी सम्मलित कर रहा हूँ. यह मेरी पहली…

प्रेषक : राज हेल्लो दोस्तो मेरा नाम..राज है…और मैं ग्वालियर,म.प. से बिलोंग करता हूँ,…..आज मैं आप लोगो से अपना एक पर्सनल एक्सपीरियेन्स शेयर करने जा रहा हूँ,.. जो की पिछले साल जुलाई के महीने मै मेरे साथ हुआ. मैने अभी तक कभी सेक्स नही किया था. पर इस बार जुलाई मैं एकदम से किस्मत मेरे उपर मेहरबान होगी.. मैने कभी…

प्रेषक : गुमनाम “जीजू संग मस्ती 2” से आगे की कहानी  . . .इसी बीच माँ आ गयी. शिल्पा चाचीजी- चाचीजी कह कर उनके पीछे लग गयी।  उनके तबीयत के बारे में पुछा,  दीदी की बाते की फिर अवसर पा कर कहा,  “चाचीजी एक बहुत ज़रूरी बात है आप माँ से फोन पर बात कर लें”.  उसने झट अपने घर…

प्रेषक : गुमनाम “जीजू संग मस्ती 1” से आगे की कहानी… अंदर आने के बाद रेणु मुझे ध्यान से देख कर बोली, “क्या बात है दीदी! कुछ गबराई कुछ  सरमाई, या खुदा ये माजरा क्या है”  फिर बात बदल कर बोली “सुबह जीजू आये थे..कहाँ हैं” मैं बोली,  “ऊपर सो रहे हैं में भी सो गयी थी” “जीजू के साथ?”  हँसते हुय…

प्रेषक : गुमनाम हेल्लो मेरे दोस्तो…में इस साईट की नयी नयी सदस्य हूँ. आप सब से प्रेरणा पाकर में भी देने के लिय उतावली हो रही हूँ.  इसे आप जैसे चाहें लें, प्यार मुहब्बत से. अपना प्यार दे कर मुझे निहाल कर दें. जिससे मैं आप को हर बार नयी – नयी तरह से देती रहू। मेरी बहन की शादी…

प्रेषक : सीमा “भाई का ऑफिस 1” से आगे कि कहानी . . . ऑफीस काफ़ी बड़ा था. ऑफीस के पीछे भईया का रूम था जिस में वो काम भी करता था और आराम भी. कमरा काफ़ी बड़ा था जिसमें गणेश ने एक फ्रिज, टीवी, कुछ Cd, एक ड्रिंकिंग बार और एक डबल बेड रखा हुआ था. डबल बेड पर…

1 169 170 171 172 173 178
error: Content is protected !!