रंडी माँ और बहन की चुदाई

0
loading...

प्रेषक : अमित …

हैल्लो दोस्तों, मेरा नाम अमित है, हम लोग मुंबई में रहते है। मेरे घर में हम चार लोग है में, मेरे पापा, मेरी माँ और मेरी छोटी बहन, में 20 साल का हूँ और मेरी माँ सिर्फ़ 37 साल की है, उसका नाम कामिनी है। मेरे माँ पापा की शादी जल्दी हो गयी थी और में सिर्फ़ 18 साल में हो गया था। मेरी छोटी बहन का नाम कोमल है, वो 18 साल की है। मेरे पापा सेल्स मैनेजर है और हमेशा महीने में 20-25 दिन घर से बाहर रहते है। यह बात उन दिनों की है, जब मेरे पापा को 2 महीने ले लिए साउथ इंडिया के टूर पर जाना पड़ा, तो जाते वक़्त वो मुझसे कहकर गये कि अपनी माँ और बहन का ख्याल रखना। मेरी माँ और बहन बहुत सेक्सी है, उन दोनों की ख़ास बात उनके सुडोल बूब्स और बड़ी-बड़ी गांड है। मेरी बहन काफ़ी मॉडर्न है और दिनभर लडको और फैशन की बात करती है।

फिर एक दिन घर में कोई नहीं था, मेरे कॉलेज की छुट्टियाँ चल रही थी और में अपने दोस्तों के साथ मूवी देखने गया था और मेरी माँ किसी रिश्तेदार के यहाँ खाना खाने गयी थी। फिर जब में घर आया तो मैंने देखा कि हॉल की लाईट जल रही थी। फिर जब में हॉल में गया, तो में यह देखकर हैरान हो गया की मेरी बहन एक ब्लू फिल्म देख रही थी और अपनी 4 उंगलियों से अपनी चूत को रगड़ रही थी। फिर मुझे देखकर वो बहुत घबरा गयी और जल्दी से कपड़े पहन लिए। अब मुझे भी कुछ समझ में नहीं आ रहा था, में क्या करूँ? लेकिन हम दोंनो ने इस बात पर ज्यादा ध्यान नहीं दिया कि अभी भी वो ब्लू फिल्म चल रही थी। अब उसमें दोनों आदमी मिलकर एक औरत को दोनों तरफ से चोद रहे थे और वो फुक मी, फुक मी चिल्ला रही थी।

अब यह सब देखकर मेरा लंड पूरा खड़ा हो गया था, जिसे मैंने अपनी कोमल से छुपाने की कोशिश भी नहीं की थी और कोमल भी वही खड़ी रही और अपनी चूत पर अपना एक हाथ लगाने लगी थी। यह देखकर मेरा सारा डर भी निकल गया और फिर में कोमल के सामने ही नंगा हो गया और मुठ मारने लगा था। अब कोमल मेरा 8 इंच लम्बा लंड देखकर बहुत उत्तेजित हो गयी थी और मेरे पास आकर खड़ी हो गयी थी। अब मेरी हिम्मत थोड़ी और बढ़ गयी थी और अब में उसके बूब्स दबाने लगा था। फिर थोड़ी देर में हम दोनों पूरे उत्तेजित हो गये और वो ज़ोर-ज़ोर से कहने लगी कि प्लीज भैया मुझे चोदो, मुझे चोदो। फिर यह सुनकर में पागल हो गया और फिर मैंने उसके सारे कपड़े भी फाड़ दिए और उसके पूरे बदन को चूमने लगा था।

loading...

फिर काफ़ी देर तक उसके बूब्स और होंठो के साथ खेलने के बाद में उसको अपने कमरे में ले गया और फिर उसने मेरे लंड को अपने मुँह में ले लिया और एक आइसक्रीम की तरह चूसने लगी थी। अब में भी उसकी चूत को चाटने लगा था। फिर मैंने उसकी चूत में अपना 8 इंच का लंड डाल दिया, उसकी चूत बहुत टाईट थी। अब में ज़ोर-ज़ोर से ऊपर नीचे हो रहा था। फिर 10 मिनट के बाद मैंने अपना पूरा माल उसकी गर्म चूत में डाल दिया। फिर जब हम लोग अपना काम करके खत्म हुए तो यह देखकर डर गये कि दरवाजे पर माँ खड़ी थी और हमें देख रही थी। फिर हम दोनों ने जल्दी-जल्दी अपने कपड़े पहने और अपने-अपने कमरो में जाकर सो गये। फिर अगले पूरे दिन माँ ने हमसे कुछ नहीं कहा और फिर रात को खाना खाने के बाद माँ ने हम दोनों को अपने कमरे में बुलाया। अब माँ अपनी नाइटी में थी और उसकी नाइटी बहुत सेक्सी होती थी, उसने ब्लेक कलर की नाइटी पहन रखी थी, जिसमें उसकी जांघो तक कट था। अब में यह देखकर उत्तेजित हो गया था और मेरा लंड खड़ा हो गया था, जिसे मैंने छुपाने की बहुत कोशिश की, लेकिन में लुंगी में था तो कुछ नहीं कर सका था।

फिर मैंने माँ से माफी माँगी और उसके पैरो में गिर गया। तो यह देखकर माँ और मेरी बहन ज़ोर-ज़ोर से हंसने लगे तो मुझे बहुत हैरानी हुई। फिर माँ ने मुझसे कहा कि वो ये बात पापा से नहीं कहेगी, लेकिन बदले में मुझे उसकी बात माननी पड़ेगी। तो मैंने कहा कि में कुछ भी करूँगा। फिर उसके बाद जो उसने मुझसे कहा, तो में वो सुनकर पागल हो गया, वो बोली कि तो ठीक है तुझे अपनी बहन को मेरे सामने चोदना होगा और फिर वो मुझसे बोली कि पहले मेरे लिए एक पैग बना। तो मैंने विस्की का एक पैग बनाया और उसको दिया। फिर हम तीनों ने एक साथ विस्की के पैग लिए। फिर में और मेरी बहन नंगे हो गये, लेकिन हम दोनों घबरा रहे थे। तो तब मेरी माँ उठी और मेरी बहन के नजदीक आकर उसके होंठो पर अपने होंठ रख दिए। फिर वो दोनों माँ बेटी 15 मिनट तक एक दूसरे को चूमते रहे। फिर माँ धीरे-धीरे उसके बूब्स दबाने लगी और उसकी चूत में अपनी एक उंगली डालने लगी थी। दोस्तों ये कहानी आप कामुकता डॉट कॉम पर पड़ रहे है।

loading...
loading...

फिर थोड़ी देर तक ऐसे ही चलता रहा। अब में दूर से यह सब देखकर अपना लंड अपने के हाथ में लेकर हिलाने लगा था। अब हम दोनों बहुत उत्तेजित हो गये थे। फिर में अपनी बहन को डॉगी स्टाइल में करके अपनी माँ के सामने चोदने लगा। अब मेरी माँ अपने बूब्स दबा रही थी और फिर बोली कि अब अपनी माँ को भी चोद दे, में तेरे लिए कुछ भी करूँगी। तो तब में बोला कि मेरी इच्छा है कि में किसी को गालियाँ देते-देते चोदूं। तो तब मेरी माँ मुझसे बोली कि मादरचोद तो अपनी रंडी माँ को क्यों नहीं चोदता है? देख मेरी चूत में से पानी निकल रहा है, जल्दी से मुझे चोद दे। तो तब में बोला कि पहले अपनी बेटी को तो चुद जाने दे और फिर मैंने अपनी स्पीड बढ़ा दी और ज़ोर-ज़ोर से कोमल को चोदने लगा था। फिर मेरी माँ धीरे-धीरे करके पूरी नंगी हो गयी और अपनी चूत रगड़ने लगी थी।

अब कोमल भी मुझे गालियाँ देने लगी थी, बहनचोद जल्दी चोद, डाड़ दे अपनी बहन की चूत को, दबा दे मेरे बूब्स को, चोद और चोद बहनचोद, हरामी, तेज और तेज। फिर तब माँ बोली कि चोद दे इस रंडी को, जल्दी चोद मादरचोद अपनी माँ को और कितना इन्तजार करायेगा, जल्दी चोद। फिर तब में बोला कि बस अब में झड़ने वाला हूँ। तभी मेरी माँ और बहन एक साथ मेरे लंड के पास आ गयी और फिर मेरी बहन मेरे लंड को अपने मुँह में लेकर चूसने लगी। थोड़ी देर के बाद मैंने अपना पूरा माल अपनी बहन और माँ के बूब्स पर डाल दिया। अब मेरी माँ रंडी की तरफ अपनी बेटी के बूब्स से मेरे माल को चाट रही थी और बोल रही थी कि रंडी यह माल मेरे बेटे का है, मेरे यार का है, इसको तो सिर्फ़ में ही चाटूँगी और ज़ोर-ज़ोर से मेरी बहन के बूब्स दबाने लगी थी। फिर थोड़ी देर के बाद वो मेरे पास आकर बैठ गयी और मेरा लंड अपने मुँह में लेकर चूसने लगी थी। फिर 1 मिनट में ही मेरा लंड वापस से खड़ा हो गया। फिर उस दिन मैंने अपनी माँ को 5 बार चोदा। फिर वो दोनों माँ बेटी मेरे सामने एक दूसरे की चूत चाटने लगी और फिर हम तीनों मज़ा करते रहे। अब अभी भी हम तीनों घर में नंगे घूमते है, मेरी कामिनी मुझे हमेशा मादरचोद और हरामी कहकर बुलाती है और में भी अपनी माँ और बहन को रंडी कहकर ही बात करता हूँ। अब में उन दोनों को अभी भी कही भी चोद देता हूँ या वो दोनों एक दूसरे को चोद देती है। अब हम रोज पूरी रात एक दूसरे को चोदते रहते है और खूब मजे करते है ।।

धन्यवाद …

Comments are closed.

error: Content is protected !!