रंडी माँ के कारण बहनें चुदी भाई से

0

प्रेषक : राज …

हैल्लो फ्रेंड्स, मेरी इस साईट पर ये पहली स्टोरी है, मेरे घर में 4 लोग है।

माँ सविता – वो 40 साल की बहुत सेक्सी लेडी है, वो दिखने में बहुत सेक्सी है।

मोनिका – वो 25 साल की कसी हुई बॉडी।

करिश्मा – 22 साल की मॉडल।

राज (में) – 19 साल का सबका लाड़ला हूँ।

मेरे पापा की मौत मेरे जन्म के 2 साल बाद हो गयी थी, उसके बाद सारा भार मेरी माँ के ऊपर था, क्योंकि मेरे बाप ने किसी दूसरी जाति की लड़की से शादी की थी इसलिए माँ-बाप दोनों से उनके घरवालों ने रिश्ता तोड़ दिया था। मेरा बाप काफ़ी पैसा छोड़ गया था, लेकिन स्टेटस मैनटेन रखने के लिए माँ को कुछ काम करना था, लेकिन माँ ज्यादा पढ़ी हुई नहीं थी। फिर माँ को उसकी एक दोस्त ने बताया कि आजकल कॉलगर्ल सप्लाई करने में काफ़ी पैसा मिलता है, तो क्या मेरी माँ वो काम कर सकती है? तो माँ ने हाँ कर दी, क्योंकि मेरी माँ भी बहुत चुदासी थी।

उसके बाद मेरी माँ को कभी पैसो की प्रोब्लम नहीं हुई, आज शहर के हर बड़े आदमी को माँ कॉलगर्ल सप्लाई करती है, क्योंकि माँ पहले से ही रंडी बन चुकी थी तो उसने हम पर कोई पाबंदी नहीं लगाई। कई बार माँ मेरे सामने ही कई मर्दो से चुदती थी, इसी तरह मेरी बहनें भी अब खुले दिमाग की बन चुकी थी और में भी ऐसा ही बन गया था। फिर कुछ दिनों पहले मैंने एक ब्लू फिल्म देखी और मैंने भी माँ को चोदने का प्लान बनाया, क्योंकि वो रांड थी इसलिए मैंने उसे सीधे-सीधे पूछ लिया।

में – माँ कल मैंने एक फिल्म देखी, जिसमें बेटा अपनी माँ को चोदता है, क्या ऐसा होता है?

माँ – हाँ होता है, कुछ मादरचोद बेटे होते है, तू क्यों पूछ रहा है?

में – क्योंकि, मुझे तुम्हारे साथ सेक्स करना है।

माँ – तुने कभी किसी लड़की के साथ सेक्स किया है। (माँ हँसते हुए बोली)

में – नहीं किया।

माँ – और तुने सीधा मुझसे पूछ लिया जा कर पहले किसी लड़की के साथ मज़े मार, तुझमें मेरी आग बुझाने की ताक़त नहीं है और वैसे भी मुझे तुझसे चुदाने में कोई इंटरेस्ट नहीं है।

अब ये कहकर वो हंसने लगी, अब मुझे ऐसा लगा जैसे उसने मेरी मर्दानगी पर उंगली उठा दी हो। फिर मैंने सोच लिया कि में कुछ ऐसा करूँगा कि मेरी रांड माँ मेरे पास चुदाने को आए। फिर उसके बाद मैंने एक प्लान बनाया, जिससे में मेरी दोनों बहनों को मेरे लंड का आदि बना दूँ और उसके बाद माँ को गर्म करूँ। फिर मैंने दूसरे दिन ही काम शुरू किया। फिर मैंने मोनिका से कहा कि मुझे सुबह 6 बजे उठा देना मुझे जरुरी काम है, क्योंकि में अक्सर 9 या उसके बाद ही उठता था, तो दीदी ने हाँ कह दिया। तब मैंने सुबह 5:30 बजे उठकर अपना लंड टाईट करके रख दिया। फिर जैसे ही दीदी आई तो उसे मेरा लंड दिखा, अब वो कुछ देर तक वैसे ही मेरे लंड को देखती रही, फिर उसने मेरे पास आ कर लंड की स्मेल ली और अपनी जीभ को टोपे पर टच किया और तब मैंने करवट ली, तो वो हट गई, तब मैंने उठने का नाटक किया।

में – अरे दीदी, तुम कब आई?

मोनिका – कुछ नहीं, अभी आई तुझे उठाने।

में – थैंक्स दीदी, लेकिन रात को कॉल आया था काम कैंसिल हो गया है।

फिर उसके बाद मैंने उसके चेहरे पर एक चमक देखी और वो बाहर निकल गई। फिर मैंने उसके नहाने का इंतजार किया, फिर जब वो नाहकर आई तो मैंने जल्दी से जाकर मेरी दीदी की ब्रा पेंटी पर मुठ मार दी और नाहकर बाहर आ गया। अब में जानता था कि दीदी अब कपड़े धोने जायेगी और वैसा ही हुआ। फिर दीदी जब वापस बाथरूम से बाहर आई, तब मुझे देखकर हँसी और चली गयी। फिर बाद में दोपहर में जब में और दीदी अकेली थी तो मैंने मेरे दोस्त को कॉल करके बताया कि 10 मिनट के बाद मुझे कॉल करे और मैंने अपना फोन हॉल में रखकर मेरे रूम में ब्लू फिल्म देखते हुए मुठ मारना शुरू कर दिया। फिर बहुत देर के बाद भी जब दीदी नहीं आई, तो में बाहर देखने गया, तो दीदी मेरे रूम की तरफ आ रही थी। मैंने फिर से मुठ मारना चालू किया, लेकिन 10 मिनट तक वो नहीं आई, तो में फिर से उठा, तो दीदी मेरे पीछे बैठकर सब कुछ देख रही थी, उसके बाद उसने पूछा।

मोनिका – ये सब क्या हो रहा है?

में – सॉरी दीदी, में कंट्रोल नहीं कर पाया तो मुठ मारने लगा।

मोनिका – में मुठ मारने के बारे में नहीं पूछ रही हूँ, मैंने तुझे कई बार मुठ मारते देखा है, लेकिन तू मर्द बन गया है तो मुठ तो मारेगा ही, लेकिन सुबह जो तू कर रहा है वो में समझ रही हूँ, तू क्यों कर रहा है?

में – क्या दीदी?

मोनिका – साले, मैंने तेरे जैसे बहुत देखे है तू सुबह से मुझे चोदने के लिए ये सब कर रहा है ना?

में – नहीं दीदी।

मोनिका – सच-सच बता, नहीं तो में तुझे बहुत मारूँगी।

में – सॉरी दीदी, तुम मुझे बहुत अच्छी लगती हो, में तुम्हें बहुत दिनों से चोदना चाहता था इसलिए ऐसा किया।

मोनिका – साले बहनचोद, एक बात बता तुने मुझमें ऐसा क्या देखा? जो तू तेरी रंडी माँ और करिश्मा को छोड़कर मुझे चोदने की सोची।

में – तुम बिल्कुल किसी पोर्न स्टार की तरह हो, तुम्हें देखते ही मेरा लंड काबू से बाहर हो जाता है, में पागल हो जाता हूँ, प्लीज दीदी एक बार मुझे चोदने दो, नहीं तो में मर जाऊंगा।

अब ये बोलकर मैंने उसे बाहों में भर लिया और किस करने लगा। तभी मुझे किसी के ऊपर आने की आवाज़ आई, तो दीदी दूर हो गयी और मैंने जल्दी से ब्लू फिल्म बंद कर दी, वो करिश्मा थी जो दीदी को ढूंढते हुए ऊपर आई थी।

करिश्मा – मोनिका हमें रात के प्रोग्राम की तैयारी करनी है, चलो।

मोनिका – हाँ चलो।

दोस्तों ये कहानी आप कामुकता डॉट कॉम पर पड़ रहे है।

अब ये कहकर वो दोनों चली गई, अब में कुछ समझ नहीं पा रहा था तो फिर मैंने रात तक रुकने का फ़ैसला किया। अब शाम को पार्टी ख़त्म होने के बाद खाना खाने के बाद जब माँ सो गयी तो में दीदी के कमरे की तरफ गया। तब मोनिका करिश्मा से दोपहर के बारे में बात कर रही थी, शायद मेरे आने से पहले मोनिका करिश्मा को सब कुछ बता चुकी थी।

मोनिका – करिश्मा बता ना रांड में क्या करूँ? जब से उसका लंड चखा है में चुदासी हो गई हूँ।

करिश्मा – इसमें सोचना क्या है? अगर में होती तो अब तक तो उसका लंड अपनी गांड में भी ले लेती और तू है की नाटक कर रही है, साली।

मोनिका – लेकिन, वो हमारा भाई है।

करिश्मा – तो क्या हुआ? हमें तो खुशी होनी चाहिए कि इतना बड़ा लंड 24 घंटे हमारे पास है, बस कुछ मत सोच और बन जा उसकी रांड, अगर तू नहीं तो में जाकर चुदवाती हूँ, कई दिनों से मेरी चूत में कोई लंड भी नहीं गया है।

मोनिका – ठीक है, में अभी उससे चुदवाने जा रही हूँ।

करिश्मा – साली रांड खुद का हो गया तो मुझे भूल गई क्या?

मोनिका – नहीं मेरी छीनाल, तू भी चल मेरे साथ।

फिर उसके बाद वो दोनों नंगी होकर मेरे पास आई और हम तीनों ने खूब चुदाई की ।।

धन्यवाद …

 

इस कहानी को Whatsapp और Facebook पर शेयर करें ...

Comments are closed.