सेक्स का जादूगर

0
loading...

प्रेषक : प्रिया …

हैल्लो दोस्तों, मेरा नाम प्रिया है आज में आपको अपनी एक रियल स्टोरी बताने जा रही हूँ जो पिछले हफ्ते ही मेरे साथ हुई थी। मेरी आदत चैट करने की है, में रोज चैट करती हूँ, लेकिन एक दिन मेरी मुलाकात ऋषि से हुई और फिर बातों-बातों में ना जाने कब हम दोनों दोस्त बन गये। अब हम रोज घंटो बातें करने लगे थे, अब मुझे भी उसके साथ बात करना अच्छा लगने लगा था। फिर वो धीरे-धीरे सेक्स की बातें करने लगा, तो पहले तो मुझे बुरा लगता, लेकिन फिर धीरे-धीरे अच्छी लगने लगी। अब जब भी वो सेक्सी बातें करता तो मुझे कुछ-कुछ होने लगता था, फिर हम रोल प्लेयिंग करने लगे और नेट पेर ही सेक्स करने लगे थे।

फिर एक दिन मुझसे रहा नहीं गया तो मैंने उसको अपने घर बुला लिया, वो दिखने में तो सामान्य था। तो पहले तो मैंने सोचा कि क्या यह वही लड़का है जो नेट पर सेक्सी बातें कर करके ही मुझे फ्री कर देता है? फिर वो मेरे करीब आया और मुझे अपनी बाहों में ले लिया, तो एक पल के लिए तो मेरी साँसे थम गयी कि अब मेरे साथ क्या होने वाला है? लेकिन फिर दूसरे ही पल मुझे अच्छा लगने लगा, जब उसके लिप्स मेरे लिप्स से जा मिले। फिर उसके हाथ जब मेरे बूब्स को दबाने लगे, तो मुझ पर नशा चढ़ने लगा और में उसकी बाहों में सिमटने लगी। अब मुझे उसके हाथों में जादू सा लगने लगा था, जो अब मुझे पागल करने लगा था तो तब मुझे लगा कि सिंपल सा दिखने वाला यह लड़का कमाल का काम करेगा। फिर में भी उसका साथ देने लगी और उसको अपनी बाहों में कसने लगी। अब उसके जादू भरे हाथ मेरे बदन पर चलने लगे थे और मुझको बेहाल करने लगे थे, पता नहीं उसमें क्या जादू था? कि में बस बिखरती जा रही थी।

अब मेरा मन कर रहा था कि बस वो मुझे चोद दे। अब जब भी वो अपने हाथ मेरे बदन पर ऊपर से लेकर नीचे तक ले जाता, तो मेरे मुँह से बस आहह आअहह उउउफफफफफफ्फ़ की आवाजे ही निकलती थी। फिर उसने मेरे कपड़े उतारने शुरू किए, तो मुझे कुछ पता ही नहीं चला कि कब में उसके सामने नंगी हो गयी? क्योंकि उसके हाथों और लिप्स के जादू में मानो में खो सी गयी थी। फिर थोड़ी देर तक तो मुझे पता ही नहीं चला कि वो मेरे बदन से अलग होकर मुझे नंगा देख रहा है और जब में होश में आई तो मुझे पता चला तो मुझे बहुत शर्म आने लगी। फिर मैंने उसको पास आने को कहा तो वो नहीं आया। अब में तो उसके लिए पागल हो चुकी थी तो में ही नंगी उठकर उसको पकड़ने लगी, तो वो रूम में इधर उधर भागने लगा। लेकिन उसने मुझे पागल कर दिया था तो में भी नंगी ही उसको पकड़ने लगी। फिर जब वो मुझे अपनी बाहों में लेकर प्यार करने लगा तो में फिर से मदहोश होने लगी।

loading...

फिर थोड़ी देर के बाद जब मुझे होश आया तो मैंने पाया कि अब वो भी नंगा है और मुझे तब पता चला जब प्यार करते-करते उसने मेरा एक हाथ पकड़कर नीचे ले जाकर अपना लंड मेरे हाथ में दे दिया। तो तब एकदम से मुझे होश आया कि यह क्या है? अब उसके लंड को देखकर मुझे थोड़ा डर भी लगने लगा था कि में इसको अंदर कैसे लूँगी? लेकिन मुझे नहीं पता था की आगे क्या होने वाला है? फिर उसने मुझे बेड पर सीधा लेटाकर मेरे पूरे बदन पर अपने लिप्स का जादू डाल दिया। अब में उसके प्यार से पागल हो गयी थी तो मैंने उसके लिए अपने दोनों पैर खोल दिए और मुझे पता ही नहीं चला। फिर उसका गर्म लंड जब मेरी चूत पर लगा तो एक पल के लिए मुझे होश आया। लेकिन फिर थोड़ी देर के बाद जब वो अपने लिप्स मेरे लिप्स से मिलाकर मुझे चोदने लगा, तो मुझे पता ही नहीं चला कि कब उसका गर्म लंड मेरी चूत में समा गया? दोस्तों ये कहानी आप कामुकता डॉट कॉम पर पड़ रहे है।

loading...

फिर जब वो मुझे लगातार चोदने लगा तो तब मुझे पता चला कि अब मेरा कुंवारापन टूट गया है। अब में तो यह सोचने लगी थी कि मुझे दर्द क्यों नहीं हुआ? कब उसका लंड मेरे अंदर चला गया? लेकिन मुझे पता ही नहीं चला। उसकी सेक्स स्टाइल ने मुझे इतना मस्त कर दिया था कि मुझे दर्द का भी अहसास नहीं हुआ। उसके लिप्स और हाथों में बहुत अच्छा जादू था, सच में अगर कोई लड़की सेक्स करने से डरती हो तो उसको ऋषि से मिलना चाहिए, सच में ऐसा पार्टनर मिल जाए तो सेक्स का डर भी छू हो जाए। अब उस दिन से मेरा सेक्स से डर बिल्कुल दूर हो गया था। फिर थोड़ी देर के बाद वो फ्री हो गया। अब में हैरान थी की इस बीच में 4 बार फ्री हो चुकी हूँ, लेकिन वो सिर्फ़ 1 बार ही फ्री हुआ था। फिर जब वो मुझसे अलग हुआ, तो मैंने देखा कि उसका लंड मेरी चूत के खून में नाहया हुआ है और यह देखकर में डर गयी थी, लेकिन मुझे अच्छा लगा कि मुझे दर्द का एहसास नहीं हुआ।

loading...

फिर मैंने उसको अपनी बाहों में लेकर प्यार करना शुरू किया, सच में पता नहीं क्या जादूगर है वो? फिर उसने मुझे 3 बार और चोदा और वो सिर्फ़ 3 बार ही फ्री हुआ, लेकिन में ना जाने कितनी बार फ्री हो चुकी थी? फिर थोड़ी देर के बाद हम दोनों नहा धोकर बैठ गये और वो थोड़ी देर के बाद चला गया।  आज भी जब भी मुझे कोई मौका मिलता है, तो में उसको बुला लेती हूँ और सेक्स का खूब मज़ा लूटती हूँ। सच में वो इतने प्यार से करता है की मुझे पता ही नहीं चलता, बस में खुद को हवा में पाती हूँ,  उसके चले जाने के बाद भी उसके हाथों और उसके लिप्स का जादू मेरे बदन पर छाया रहता है। अब हम दोनों रोज फोन पर सेक्स करते है, अब में उसकी बातें सुन-सुनकर ही फ्री हो जाती हूँ और उसको रियल में करने के लिए बेताब करती हूँ। अब जब भी हम दोनों को कोई मौका मिलता है तो हमें रियल में करने में खूब मज़ा आता है और उसके कारण आज में हर पल खुश रहती हूँ ।।

धन्यवाद …

Comments are closed.

error: Content is protected !!