सेक्सी मामी और भांजा

0
loading...

प्रेषक : अज़ीम …

हैल्लो दोस्तों, यह एक मामी और भांजे की सेक्सी कहानी है। मेरी मामी की उम्र 37 साल और मेरी उम्र 21 साल थी और नाम अज़ीम है। में और मामी बहुत सोशियल है, हम बहुत मज़ाक और सेक्सी जोक्स भी करते रहते है, मगर हमारे बीच कभी भी सेक्स नहीं हुआ था। मामी कई बार मुझे अपने बूब्स के दर्शन दे चुकी है मगर कभी हाथ में नहीं आए थे। अब यह घटना मेरी ज़ुबानी सुनो बहुत मज़ा आएगा। मेरे मामा और मामी हमारे घर के करीब रहते थे, उनके 2 बेटियाँ थी, जो शादी होकर अपने सुसराल में है। मेरे मामा एक ड्राइवर है, वो हमेशा बाहर जाते रहते है। उस वक़्त मामी अपने घर में अकेली होती है और सोने के लिए रात में मुझे अपने साथ मम्मी को बोलकर अपने घर ले जाती है। मामी का फिगर पूछो मत बड़े-बड़े बूब्स, बड़ी गांड थोड़ी मोटी ही है। फिर एक रात जब में मामी के घर गया, उस वक़्त मामी नहाकर कपड़े बदल रही थी। फिर जब उन्होंने दरवाज़ा खोला तो उस वक़्त वो ब्लाउज और पेटीकोट में थी, उन्होंने एक दुप्पटा सहारे के लिए रख लिया था। अब वो मुझे सेक्सी नजरों से देख रही थी। मैंने मामी को पहली बार इस हालत में देखा था। फिर मैंने अपने आपको काबू में रखा। अब हम दोनों टी.वी देख रहे थे, तब इतने में लाइट चली गई। अब हम बातें करने लगे थे।

मामी : अज़ीम तुम्हारी पढ़ाई कैसी चल रही है?

में : अच्छी चल रही है मामी, अगले महीने एग्जॉम है।

मामी : कॉलेज में तुम्हारे साथ गर्ल्स भी पढ़ती है क्या?

में : हाँ मामी साथ में ही पढ़ती है मगर किसी से बात नहीं होती है।

मामी : क्यों बात नहीं होती? तुमको कोई पसंद नहीं आई क्या?

में : नहीं मामी ऐसी बात नहीं है, मुझे लड़कियों से बात करना पसंद नहीं है और वो भी कुछ ख़ास नहीं हैं दुबली पतली काली जैसी ही ज्यादा कॉलेज में आती है।

मामी : अच्छा तुमको मोटी-मोटी पसंद है क्या? जो उनका साईज भी मोटा हो, मेरी जैसी और यह बोलकर वो बाथरूम में चली गई। फिर जब वो वापस आई तो तब उन्होंने पूछा कि क्या जवाब है तुम्हारा?

में : नहीं मामी ऐसी कोई बात नहीं है, मुझे दुबली भी पसंद है मगर?

मामी : मगर क्या? [अब वो उनका एक हाथ मेरी जांघो पर फैर रही थी]

अज़ीम एक बात पूछूँ अगर बुरा ना माने तो, क्या तुम किसी को प्यार करते हो? क्या तुम किसी के साथ कुछ किए हो? क्या तुमने किसी को नंगा देखा है? क्या तुमको कुछ करने की इच्छा होती है?

में : मामी अभी तक तो मेरे साथ ऐसा कुछ नहीं हुआ, हाँ मैंने नंगी औरत को करते हुए बी.एफ में देखा है।

मामी : क्या करते हुए? शरमाओं मत खुलकर बात करो,, वैसे हम नये नहीं है वैसे भी तुम कितने दिनों से चुपके से मेरे वो देखने की कोशिश करते हो? में सब जानती हूँ, मेरा हाथ अपने बूब्स पर रखते हुए क्या तुमको मेरे मोटे-मोटे पसंद है? क्या डाइरेक्ट देखोगे?

में : मामी यह कैसे हो सकता है? आप तो बड़ी है।

loading...

मामी : बड़ी हूँ तू क्या हुआ? मेरे भी तो अरमान है, तुम्हारे मामा महीने में दो बार ही टच करते है और बाकि दिनों में तुमको देख-देखकर अपनी प्यास बुझा लेती हूँ, क्या तुम मेरे साथ सब कुछ करोगे? जिस तरह तुम्हारे मामा करते है।

में : क्या करना होगा मामी? मुझे तो मालूम नहीं।

मामी : अज़ीम में सब कुछ बताती हूँ पहले अपने कपड़े निकालो, आओ बेड पर चलते है।

फिर इस तरह हम दोनों नंगे होकर बेड पर चले गये। फिर मामी ने मेरा लंड पकड़कर अपने मुँह में ले लिया और ज़ोर-ज़ोर से चूसने लगी थी और में ज़ोर ज़ोर से उनके बूब्स दबाता रहा। अब मुझसे बर्दाश्त नहीं हो रहा था। तब मैंने मामी से कहा कि मामी मेरा निकलने वाला है। तब मामी ने कहा कि अपनी मामी के मुँह के अंदर निकाल दो और फिर मेरी मामी ने मेरा पूरा पानी पी लिया और फिर से मेरे लंड को चूसने लगी थी। तब मेरा फिर से खड़ा हो गया। फिर मामी ने मुझसे कहा कि आओ अज़ीम अपनी मामी की चूत में तुम्हारा लंड डालकर मेरी चूत को फाड़ दो। अब में उनकी चूत में अपना लंड डालकर धक्के मारने लगा था। अब मामी ज़ोर-जोर से बोल रही थी और अंदर डालो और पूरा घुसाकर धक्का मारो, अज़ीम अपनी मामी की चूत को चोद-चोदकर मस्त कर दो, आह, आह और तेज और तेज अज़ीम, चोदो मुझे और तेज, आ, आ। अब मामी भी अपनी गांड उठा-उठाकर मेरा साथ दे रही थी। अब इतने में मेरा पानी निकलने वाला था, तो तब मामी ने कहा कि अज़ीम अपना पानी मेरी चूत में नहीं निकालना, मेरे बूब्स पर लगा दो। दोस्तों ये कहानी आप कामुकता डॉट कॉम पर पड़ रहे है।

फिर तब में अपना लंड निकालकर मामी की चूचीयों पर रब करने लगा। अब मामी ने मेरा लंड अपनी दोनों चूचीयों के बीच में दबा लिया था और बोली कि अज़ीम मेरे बूब्स को अच्छी तरह से मसलो और अपना पानी मेरे बूब्स पर निकाल दो आह अज़ीम बहुत मज़ा आ रहा है, आह ऐसे ही करो, आह आह तो तब मैंने कहा कि आह मामी अब मेरा पानी निकलने वाला है, आह, आहहहह आह और फिर मेरा पानी मामी के बूब्स पर निकल गया और वो बाथरूम में जाकर धोकर आई।

मामी : क्यों अज़ीम कैसी थी चुदाई, मोटी मोटी चीज़ों के साथ?

में : मामी बहुत मस्त थी, मगर मुझे एक चीज़ आपसे माँगनी है, क्या आप दोगी?

मामी : इतनी मस्त चुदाई के बाद मेरा सब कुछ तेरा है, माँग अज़ीम क्या चाहिए? में हर चीज देने के लिए तैयार हूँ।

में : मामी में, मामी में तुम्हारी गांड मारना चाहता हूँ।

मामी : क्या अज़ीम? फिर से बोलो, क्या चाहिए तुमको?

में : मामी मुझे आपकी गांड मारनी है।

मामी : वाह बेटा पहली बार में ही अपनी मामी को छिनाल बनाकर रख दोंगे क्या? ठीक है में तुमको अपनी गांड एक शर्त पर ही दूंगी, मानोगे।

में : हाँ मामी तुम्हारी गांड के लिए मुझे सब मंज़ूर है।

फिर मामी ने सीधे मेरे मुँह पर अपनी चूत रख दी और कहा कि अज़ीम पहले मेरी चूत को चाटकर इस का पानी पीना और फिर मेरा पेशाब पीना, बाद में तुझको गांड दूँगी, क्या तुझको मंज़ूर है?

में : हाँ मामी में तुम्हारी चूत चाटकर सब पीने के लिए तैयार हूँ।

loading...

मामी : चाटो मेरी चूत को, आ, आ, आ, आ।

दोस्तों फिर मैंने अपनी मामी की चूत को चाटा और बहुत मजा किया ।।

धन्यवाद …

इस कहानी को Whatsapp और Facebook पर शेयर करें ...

Comments are closed.